समाचार
|| निर्धारित दर से अधिक कीमत पर शराब बेचने के मामलों में नौ दुकानों से एक दिन के लिए शराब के क्रय-विक्रय पर प्रतिबंध || माफिया के विरुद्ध प्रशासन की कार्यवाही जारी || आज दिनांक तक 45331 व्यक्तियों का अभी तक लिया गया सैंपल || कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने पर 89 व्यक्ति डिस्चार्ज || 639 व्यक्तियों से वसूला गया 63 हजार रुपये का जुर्माना - रोको-टोको अभियान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी गुरु नानक जयंती की बधाई || लोक निर्माण विभाग ने भरवाए छावनी की सडक के गहरे गड्ढे || देवास जिले में रविवार को ग्रामीण क्षेत्रो में 8 हजार 533 चालान मास्क नही पहनने पर बनाये गये तथा 97 हजार 169 रुपये की वसूली की गईं || शाजापुर जिले में आज 09 कोरोना पाजीटिव मरीज मिले || 8 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई
अन्य ख़बरें
आरोग्यधाम परिसर की गौशाला में धूमधाम से मना गोपाष्टमी पर्व
संस्कृति मंत्री सुश्री ठाकुर ने गाय और नवजात बछड़े को गुड़ खिलाकर किया गोपाष्टमी का शुभारंभ
सतना | 22-नवम्बर-2020
      चित्रकूट दीनदयाल शोध संस्थान के आरोग्यधाम में कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी को गोपाष्टमी का पर्व धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर आरोग्यधाम परिसर में स्थित गौवंश विकास एवं अनुसंधान केन्द्र में पूजा-अर्चना का कार्यक्रम आयोजित किया गया था। जिसमें मध्यप्रदेश सरकार की पर्यटन एवं   संस्कृति मंत्री सुश्री उषा ठाकुर एवं दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन की उपस्थिति में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ विधि-विधान से गौ-पूजन एवं हवन सम्पन्न कराया गया। इसके बाद गौशाला में गाय और नवजात बछड़े को गुड़ खिलाने के उपरांत माला पहनाकर पूजा-पाठ किया गया। गौशाला परिसर में कलश और दीप जलाकर विधिवत पूजा के बाद हवन किया गया।
’हर घर में होनी चाहिए एक गाय - सुश्री ठाकुर’
     मंत्री सुश्री ऊषा ठाकुर ने कहा कि गौ और ग्वालों की पूजा को समर्पित गोपाष्टमी पर गऊ माता के स्वस्थ होने की कामना करते हैं। गौ हमारी माता है। देश-धर्म से नाता है। ये कहावत चरितार्थ है। उन्होंने कहा कि हर घर में एक गाय होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि उसके दूध को उपयोग में लाना चाहिए। उन्होने गाय के गोबर और मूत्र यानी पंचगव्य को उपयोगी बताया। इसके साथ ही उन्होंने अपील करते हुए कहा कि हर घर में एक गाय रखें और उसकी सेवा करें। दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन ने कहा कि आदिकाल से ही भारत में भारतीय गौवंश का महत्व रहा है, वेदों में गाय के दूध को अमृत और गाय को कामधेनु की संज्ञा मिली है। बैलों का महत्व समाज में स्थापित करने के लिए भगवान शंकर ने भी नंदी को अपना वाहन बनाया था। ऐसा माना जाता है कि गाय में 33 करोड़ देवी-देवता वास करते हैं और गौ पूजन से सारे पाप दूर होते हैं।
     गौशाला के प्रभारी डा. रामप्रकाश शर्मा ने बताया कि गाय का गोबर, गोमूत्र, गोघृत, गोघी, गोदही आदि सभी पंचगव्य अव्यव मानव स्वास्थ्य संबंधी अनेक असाध्य बीमारियों की चिकित्सा में अत्यंत प्रभावी पाए गए हैं और आधुनिक चिकित्सा विज्ञान ने भी पंचगव्य के कारगर प्रभाव को स्वीकार किया है। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखकर भारत रत्न नानाजी देशमुख ने देशी नस्लों की गायों के संरक्षण एवं संवर्धन और पंचगव्य आधारित स्वदेशी उत्पादों के निर्माण के लिए आरोग्यधाम परिसर में गौवंश विकास एवं अनुसंधान केन्द्र की शुरुआत की थी। इस अवसर पर गौशाला में वर्तमान परिवेश में भारतीय गोवंश के उपयोग एवं गाय के महत्व को समाज में पुनः स्थापित करने की संकल्पना के साथ गोपालन के पुण्य कार्य में प्रत्यक्ष कार्यरत कार्यकर्ताओं के सम्मान के साथ गौशाला में प्रसाद भंडारा का भी आयोजन किया गया। इस मौके पर भाजपा सहकारिता प्रकोष्ठ के सह संयोजक कंचन सिंह चौहान, इन्दौर से राजेश महाजन, दीनदयाल शोध संस्थान के उप महाप्रबंधक डा. अनिल जायसवाल, विनीत श्रीवास्तव, डा. वरुण गुप्ता एवं सभी गौसेवकों सहित गोशाला परिवार के सभी लोगों ने पूजन में सहभागिता की।
 
(8 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2020दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer