समाचार
|| प्रिसिजन इंजीनियरिंग में पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर प्रवेश || जिले में सुरक्षा जवान एवं सुरक्षा सुपरवाइजर भर्ती के लिये कैंप एक फरवरी से || कोविड-19 टीकाकरण अभियान में छूटे हुये स्वास्थ्य कर्मियों को 28,29 तथा 30 जनवरी को टीका लगाया जायेगा || निवाड़ी जिले में 23 पंजीयन केन्द्रों पर गेहूं उपार्जन के लिये पंजीयन 20 फरवरी तक किया जायेगा || स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों/लोकतंत्र सेनानियों को घर पर किया गया सम्मानित || जिले की 13 स्वास्थ्य संस्थाओं में हुआ कोविड- 19 का टीकाकरण || वनभूमि का अधिकार पत्र मिल जाने से खुश हैं फूल सिंह - "खुशियों की दास्तां" || (एक जिला, एक उत्पाद) - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया प्रदर्शनी का अवलोकन || रोजगार मेले में आशीष को मिला जॉब ऑफर, हुई प्रसन्नता - "खुशियों की दास्तां" || पति की मृत्यु के बाद परिवार का सहारा बनी संबल योजना - "खुशियों की दास्तां"
अन्य ख़बरें
कला विविधताओं का प्रदर्शन ‘गमक’
-
शहडोल | 24-नवम्बर-2020
    संस्कृति विभाग द्वारा मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में आयोजित बहुविध कलानुशासनों की गतिविधियों एकाग्र ‘गमक’ श्रृंखला अंतर्गत आज उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत एवं कला अकादमी द्वारा डॉ. मयूरा पण्डित खटावकर, भोपाल द्वारा ‘व्याख्यान एवं कथक नृत्य’ की प्रस्तुति दी गई।
   प्रस्तुति की शुरुआत डॉ. मयूरा ने अपने व्याख्यान से की- उन्होंने कहा की कथक का जन्म कथा कहने से हुआ है, कथा कहने वाले मंदिरों में ईश्वर की गाथाओं को गाकर सुनाते थे, धीरे-धीरे उसमे वाद्यों यंत्रों का समावेश होने लगा और वह प्रक्षकों को अधिक आकर्षित करने लगा, फिर धीरे-धीरे उसमे नृत्य का समावेश हुआ और वहीं से कथक की उत्पत्ति हुई। रायगढ़ शैली की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इसमें ताल पक्ष और भाव पक्ष दोनों को सामान महत्व दिया जाता है।
   डॉ. मयूरा ने नृत्य की शुरुआत आदि जगत जननी शक्ति स्वरुप माँ दुर्गा की स्तुति से की, पश्चात् वरिष्ठ गुरु पण्डित रामलाल द्वारा कोरिओग्राफ की हुई रायगढ़ शैली में त्रिताल शुद्ध कथक की प्रस्तुति दी, सांवरे आजैयो- एक गोपिका का कृष्ण की प्रति प्रेम समर्पण भाव, तराना और ठुमरी – अभिसारिका नायिका से अपनी प्रस्तुति को विराम दिया।
   डॉ. मयूरा ने रायगढ़ घराने के नृत्य गुरु पण्डित रामलालजी से आठ वर्ष की आयु से कथक नृत्य की शिक्षा लेना आरम्भ कर दिया था। आपने इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय से कथक में पीएच. डी. की उपाधि प्राप्त की। आपने देश-विदेश के कई प्रतिष्ठित मंचों पर अपनी प्रस्तुति दी है। वर्तमान में मुंबई में आप लगभग नब्बे से अधिक छात्रों को कथक की शिक्षा दे रही हैं।
 
(64 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer