समाचार
|| बिजली उपभोक्ताओं की संतुष्टि पर कोई कसर बाकी न रखे || संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने आलीराजपुर जिले के डूब प्रभावित ग्रामों का निरीक्षण किया || संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने मुर्गीपालन हितग्राही से चर्चा कर गतिविधि की जानकारी ली || संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने जिला चिकित्सालय आलीराजपुर का किया निरीक्षण || कोविड-19 के उपचार दर रिशेप्शन काउन्टर पर प्रदर्शित करें || राजधानी में तीन दिवसीय राष्ट्रीय फेडरेशन कप जूनियर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप का आयोजन 25 जनवरी से || मुख्यमंत्री श्री चौहान 24 जनवरी को करेंगे पंख अभियान का शुभारंभ || प्रदेश में इस वर्ष पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक वर्ग के 13 हजार 500 युवाओं को दिया जायेगा कौशल प्रशिक्षण || किसान पंजीयन प्रक्रिया निर्धारण हेतु प्रशिक्षण सम्पन्न || जहरीली शराब पीने से नही हुई गोलू की मौत
अन्य ख़बरें
प्रदेश में 01 अप्रैल 2021 से प्रारंभ होगा नवीन शैक्षणिक सत्र
कक्षा 01 से 08 तक की कक्षायें 31 मार्च तक बंद रहेंगी, कक्षा 05 एवं 08 की बोर्ड परीक्षाएं नहीं होगी
बालाघाट | 05-दिसम्बर-2020
    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोविड के चलते प्रदेश में कक्षा 01 से 08 तक की कक्षाएं 31 मार्च तक बंद रहेंगी। आगामी शैक्षणिक सत्र 01 अप्रैल 2021 से प्रारंभ होगा। कक्षा 01 से 08 तक प्रोजेक्ट वर्क के आधार पर मूल्यांकन किया जाएगा। कक्षा 10वीं एवं 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं ली जाएंगी तथा इनकी कक्षाएं शीघ्र प्रारंभ होंगी। कक्षाओं में सोशल डिस्टेंसिंग व अन्य सावधानियों का पूरा पालन किया जाएगा। कक्षा 09 एवं 11 के विद्यार्थियों को सप्ताह में 01 या 02 दिन स्कूल बुलवाया जाएगा।
    मुख्यमंत्री श्री चौहान 04 दिसंबर को मंत्रालय में स्कूल शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक ले रहे थे। बैठक में स्कूल शिक्षा मंत्री श्री इन्दर सिंह परमार, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव श्रीमती रश्मि अरूण शमी, प्रमुख सचिव श्री मनोज गोविल आदि उपस्थित थे।
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में स्कूल शिक्षा के क्षेत्र में "रैडिकल" परिवर्तन लाना है जिससे यहां की शिक्षा सर्वोत्तम हो सके। हमें समाज के सक्रिय सहयोग से हर सरकारी स्कूल को श्रेष्ठ बनाना है। प्रदेश में शिक्षा के क्षेत्र में मार्गदर्शन के लिए शिक्षाविदों की एक समिति बनाई जाए। देश के अन्य राज्यों की शिक्षा पद्धति का अध्ययन कर प्रदेश में सर्वश्रेष्ठ शिक्षा पद्धति लागू की जाए।
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमें प्रदेश में ऐसी शिक्षा पद्धति लागू करनी है जिसके माध्यम से विद्यार्थियों को ज्ञान और कौशल प्रदाय के साथ ही उन्हें संस्कारवान नागरिक बनाया जा सके। नैतिक शिक्षा पर विशेष बल दिया जाना है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में स्कूली विद्यार्थियों को दिए जाने वाले गणवेश स्व-सहायता समूह तैयार करेंगे तथा उसके लिए कपड़ा भी वे ही क्रय करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अगले 03 वर्षों में प्रदेश में खोले जाने वाले 10 हजार उच्च गुणवत्तायुक्त स्कूलों के‍लिए वर्षवार विस्तृत कार्ययोजना बनाई जाए।
 
(47 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer