समाचार
|| कलेक्‍टर एवं एस.पी. ने ली पुलिस अधिकारियों व कार्यपालिक मजिस्‍ट्रेटों की संयुक्‍त बैठक || गांवों का विकास आत्मनिर्भर भारत की पहली सीढ़ी है- सांसद श्री सुधीर गुप्ता || सेंधवा अनुभाग में आत्मरक्षा प्रशिक्षण में किया जा रहा है नवाचार || कलेक्टर ने एक कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी को किया निलम्बित दूसरे को दिया शोकाज नोटिस || राष्ट्रीय वेबिनार में मुख्य वक्ता डॉ. धर्मेन्द्र तिवारी ने कहा लक्ष्य निर्धारण, सही दिनचर्या, करंट इवेंट्स पर पकड़ दिलायेगी सफलता || आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत साईकल रैली निकाली जाएगी 6 मार्च को || एक जिला, एक उत्पाद के तहत जिले को मिला 3 खाद्य प्रसंस्करण इकाई लगाने का लक्ष्य || युवाओं का साक्षात्कार खरगौन जिला पंचायत में होगा || ईव्हीएम एवं व्हीव्हीपीएटी मशीनों के भौतिक सत्यापन के समय उपस्थित रह सकते है मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के पदाधिकारी || कानून के क्षेत्र में कार्य करने वाले भाग ले सकते है क्लैट परीक्षा में
अन्य ख़बरें
पोल्ट्री फार्म का पंजीयन पशुपालन विभाग में करवाना आवश्यक
-
मण्डला | 08-जनवरी-2021
    पोल्ट्री फार्मिंग करने वाले किसानों एवं पशुपालकों को पशुपालन विभाग में पंजीयन करवाना आवश्यक है जिससे इसे व्यवस्थित एवं विकसित किया जा सके एवं आवश्यकता होने पर जानकारी के आधार पर तकनिकी सहायता दी जा सके। इस कारण से किसी भी गतिविधि को नियंत्रित करना तथा लाभान्वित करना संभव हो सकेगा। विभाग द्वारा पोल्ट्री उद्योग को सुरक्षा प्रदान करने तथा विभिन्न गतिविधियों के सुचारू संचालन के लिए वर्तमान में स्थापित तथा नवीन कुक्कुट प्रक्षेत्र हेचरी का पंजीयन प्रारंभ किया गया है, जिससे कुक्कुट प्रक्षेत्र हेचरी की संख्या का सही आंकलन हो सके। भविष्य में लाभकारी नीतियों का निर्धारण अधिक सुरक्षित बनाया जा सकेगा। पंजीयन के लिए निर्धारित प्रारूप में आवेदन करना होगा साथ ही निर्धारित पंजीयन शुल्क भी जमा करना होगा। निर्धारित प्रारूप के आवेदन क्षेत्रीय पशु चिकित्सालयों में उपलब्ध है। 500 से 1000 तक किसी की प्रकार के पक्षियों की क्षमता वाले फार्म को 100 रु., 1000 से 5000 के पक्षियों की क्षमता वाले फार्म को 200 रु., 5000 से 10000 तक के पक्षियों की क्षमता वाले फार्म को 500 रु एवं 10000 से अधिक किसी भी प्रकार के पक्षियों की क्षमता वाले फार्म को 1000 रु पंजीयन शुल्क देना होगा। प्रारंभ में 5 वर्षों के लिए पंजीयन प्रमाण पत्र जारी किया जायेगा बाद में हर तीन वर्ष में नवीनीकरण कराना होगा। जिले के सभी पोल्ट्री उद्योग संचालकों से कहा गया है कि वे अपने फार्म का शीघ्र पंजीयन करायें। पंजीयन ना होने के कारण पोल्ट्री उद्योग संचालकों को असुविधाओं का सामना करना पड़ सकता है।
 
(56 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
फरवरीमार्च 2021अप्रैल
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
22232425262728
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer