समाचार
|| खरीफ-2019 में पोर्टल पर इंट्री से वंचित किसानों की प्रविष्टी के लिए पोर्टल 10 मार्च तक खुला रहेगा || सभी पात्र हितग्राहियों के आयुष्मान कार्ड बनाएं - कलेक्टर || आईएफएमआईएस सॉफ्टवेयर में ईएसएस प्रोफाईल अद्यतन करने हेतु प्रशिक्षण संपन्न || जिले में कोविड -19 टीकाकरण का द्वितीय चरण प्रारंभ हुआ, 1 मार्च 2021 को 525 लोगों का हुआ टीकाकरण || सोमवार को 654 लाभार्थियों को लगाया गया कोविड-19 वैक्सीन || वंदे-मातरम गायन संपन्न || अंतरराष्ट्रीय तरणताल खेल परिसर और नये ब्रिज के नीचे खेल क्षेत्र(एरिना) बनाने के संबंध में बैठक सम्पन्न || किसानों की मेहनत मध्यप्रदेश को फिर बनाएगी सिरमौर : मुख्यमंत्री श्री चौहान || राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के तहत मीडिया कार्यशाला 2 मार्च को || नेट मीटरिंग सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने पर मिलेगी 40 फीसदी तक सब्सिडी
अन्य ख़बरें
मानपुर-पृथ्वी में शुरू हुआ प्राथमिक विद्यालय (खुशियों की दास्तां)
दूर के विद्यालयों में पढ़ रहे और गांव में उपलब्ध पढने योग्य बच्चों का सर्वे कर प्रवेश दिलाएंगे
मुरैना | 18-जनवरी-2021
जहरीली शराब कांड से सुर्खियों आए मानपुर-पृथ्वी गांव में रविवार को नवीन शासकीय प्राथमिक विद्यालय शुरू कर दिया गया। अब मानपुर-पृथ्वी के नन्हें बच्चे शिक्षा शिक्षा से जुड़ सकेंगे। विद्यालय के शुभारंभ अवसर पर डीपीसी एमएस तोमर, बीइओ जौरा बीके शर्मा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
    विद्यालय में दो शिक्षकों की भी पदस्थापना करवा दी गई है। अब यह शिक्षक गांव में पांचवीं कक्षा तक पढने योग्य बच्चों का सर्वे करेंगे और गांव के स्कूल में प्रवेश दिलाएंगे। वहीं गांव के जो बच्चे आसपास के दूसरे गांवों और निजी विद्यालयों में अध्ययनरत होंगे, उनका भी सर्वे किया जाएगा और अगले सत्र में यहीं प्रवेश दिलाया जाएगा। गांव में स्कूल शुरू करने की अनुमति १५ जनवरी को ही मिली है।  बताया जाता है कि गांव में पांच साल पहले एक अनुदान प्राप्त विद्यालय का संचालन होता था, लेकिन बाद में उसके स्टाफ के रिटायर होने पर स्कूल बंद कर दिया गया था। इससे गांव के बच्चों को दूसरे गांवों में पढने जाना पड़ता है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चुनाव के दौरान मानपुर में प्राथमिक विद्यालय शुरू करवाने की घोषणा कर गए थे। जहरीली शराब कांड के बाद इसे आनन-फानन में शुरू कर दिया  गया है। डीपीसी तोमर के अनुसार चालू शिक्षण सत्र में तो गांव के बच्चों के नाम जहां दर्ज हैं, वहीं रहेंगे। ताकि सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता रहे, लेकिन अगले सत्र से यहीं दर्ज करवा दिया जाएगा। गांव में विद्यालय होने से पढ़ाई-लिखाई का माहौल बनेगा और गांव का वातावरण भी सुधरने की उम्मीद है। गांव में सर्वे और मॉनीटरिंग कर रहे अधिकारियों ने दो दिन के अध्ययन के बाद शिक्षा की कमी को महसूस किया और विद्यालय शुरू करवा दिया। 
(42 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
फरवरीमार्च 2021अप्रैल
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
22232425262728
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer