समाचार
|| मंत्री श्री दत्तीगांव ने बदनावर में आयोजित ISO अवार्ड समारोह कार्यक्रम में थाना प्रभारी सीबी सिंह को किया बदनावर थाने का आईएसओ प्रमाण पत्र प्रदान || पेट फिएस्टा में श्वान मालिकों ने दिखाया जबरदस्त उत्साह || अखिल भारतीय पैराडाईज गोल्ड कप क्रिकेट टूर्नामेंट का 24 वां सौपान समापन समारोह कार्यक्रम संपन्न || अब सभी पेंशन प्रकरण ऑनलाइन तैयार होंगे, भुगतान में नहीं होगा विलंब || मध्यप्रदेश के प्रत्येक ज़िले में दो तालाबों को बनाएंगे मॉडल तालाब || कोरोना से स्वस्थ होने पर 15 व्यक्ति डिस्चार्ज || आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के लिये दो वृहद औद्योगिक इकाईयों को भूमि आवंटित || राष्ट्रीय कामगार आयोग के उपाध्यक्ष श्री बब्बन रावत ने नगर निगम और नगर पालिकाओं के अधिकारियों की ली बैठक || नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत फीस प्रतिपूर्ति के संबंध में तिथियां जारी || उपार्जन के बाद गेहूं और धान में आई कमी के लिए कलेक्टर ने दिये समितियों एवं परिवहनकर्ता से 61 लाख 44 हजार रुपये वसूलने के आदेश
अन्य ख़बरें
क्षय उन्मूलन अन्तर्गत दो दिवसीय प्रशिक्षण सम्पन्न
-
उज्जैन | 22-जनवरी-2021
   राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत दो दिवसीय कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर का प्रशिक्षण सम्पन्न हुआ। प्रशिक्षण में सभी सीएचओ को ओपीडी से 4% संभावित टीबी मरीजों का चिन्हांकन कैसे किया जाता है, बताया गया। देश से 2025 तक क्षय उन्मूलन के लिए मिशन मोड में कार्य करने की ज़रूरत पर जोर दिया। पूरे विश्व में जितने टीबी के रोगी हैं, उनका 27 प्रतिशत रोगी भारत में हैं। मृत्यु भी इसी अनुपात में होती है। बच्चों की टीबी के प्रकरण में देश 22% भार वहन करता है। समस्त टीबी पेशेंट चाहे वह प्राइवेट सेक्टर में उपचार ले रहा है या पब्लिक सेक्टर में, उसे स्टैंडर्ड टीबी केयर मिलना ही चाहिए। प्रत्येक टीबी पेशेंट को उपचार के दौरान 500 रु महीना पोषण सहायता राशि, पूर्ण उपचार, समस्त जांचे जो स्थानीय स्तर एवं मेडिकल कॉलेज ग्वालियर भेजकर करवाई जाती है, नि:शुल्क उपलब्ध करवाई जाती है। इसके अतिरिक्त दवा खिलाने वाली आशा कार्यकर्ता को एक हजार रुपये, यूनिक नोटिफिकेशन करने पर प्राइवेट चिकित्सक को प्रति केस500 रु की राशि प्रदान की जाती है। मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी एवं जिला क्षय अधिकारी द्वारा बताया गया कि  बहुत ही सामान्य लक्षणों के आधार पर टीबी की संभावना की जा सकती है, जैसे 15 दिन की खाँसी, बुखार,वजन कम होना, रात को पसीना आना आदि। प्रत्येक व्यक्ति को चाहिये कि इन लक्षणों वाले मरीजों को आगे आ कर खंखार की जांच करवाये एवम समय रहते बीमारी से मुक्ति पाये। अनुपचारित रोगी एक वर्ष में 10 से 15 नये टीबी के रोगी समाज मे पैदा के देता है।
 
(37 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
फरवरीमार्च 2021अप्रैल
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
22232425262728
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer