समाचार
|| गुरुवार 25 फरवरी का कोरोना हेल्थ बुलेटिन || आज का अधिकतम तापमान 32.2 डि.से. || लिफ्ट संबंधी सुरक्षा प्रावधानों का करें कड़ाई से पालन : नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह || खजुराहो नृत्य समारोह में शास्त्रीय नृत्यों की प्रस्तुतियों ने समा बाँधा || महिला बाल विकास विभाग मैदानी अधिकारीयों-कर्मचारियों को करेगा प्रोत्साहित || युवाओं को प्रदेश में ही मिलेगा रोजगार : लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव || 10 किलोवाट तक के उपभोक्ताओं को ईमेल, व्हाट्सएप एवं एसएमएस से मिलेंगे बिजली बिल || प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि आजाद भारत में सबसे बड़ा उपहार - मंत्री श्री पटेल || सड़क दुर्घटनाओं में कमी के लिये सशक्त यातायात प्रबंधन आवश्यक-एडीजी श्री सागर || प्रदेश में कोरोना संबंधी सभी सावधानियाँ बरती जाये
अन्य ख़बरें
प्रेरणा स्थल के रूप में विकसित होगी नेताजी की बैरक : मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री ने पराक्रम दिवस पर किया नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण, केन्द्रीय जेल में नेताजी की शयन-पटिट्का पर किए श्रृद्धा-सुमन अर्पित
नरसिंहपुर | 24-जनवरी-2021
      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के जन्मदिन पराक्रम दिवस पर जबलपुर केन्द्रीय जेल परिसर में स्थापित नेताजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर नमन किया। उन्होंने नेताजी की बैरक में पहुँचकर उनकी शयन-पटिट्का पर श्रृद्धासुमन अर्पित किए। मुख्यमंत्री ने यहाँ बैरक में रखे हुए नेताजी के स्म़ृति प्रतीकों का अवलोकन भी किया।

   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जेल की जिस बैरक में नेताजी दो बार बंदी रहे, वह हमारे लिये तीर्थ स्थल है। लोग यहाँ से देशभक्ति की प्रेरणा लें, इसलिये इसे प्रेरणा-स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोग नेताजी की बैरक तक पहुँचकर दर्शन कर सकें, इसके लिये अलग से द्वार बनाया जाये, जो वर्तमान कैदियों के प्रवेश द्वार से पृथक हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नेताजी ने देश के लिये अपना सर्वस्व बलिदान कर दिया था। यहाँ उनके पराक्रम और बलिदान-गाथा को प्रदर्शित करती चित्र कथा तैयार कर लगाई जाये, जिसमें नेताजी की बचपन से लेकर आजाद हिन्द फौज बनाने और उनकी अंतिम यात्रा के समूचे जीवन वृत्तांत का प्रदर्शन हो, जिससे लोग यहाँ आकर नेताजी को नमन कर सकें।

   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं यहाँ नेताजी को प्रणाम करने आया हूँ। देश को आजाद कराने देशभक्त क्रांतिकारियों ने कितनी यातनायें सहीं उसकी एक झलक नेताजी की बैरक में देखने को मिली। यहाँ स्वतंत्रता सेनानियों को यातना देने के अंग्रेजों के समय की हथकड़ी, फांसी के रिहर्सल का पुतला, बैलगाड़ी चक्का, डंडाबेड़ी, चक्की के अलावा नेताजी के हस्तलिखित पत्र की प्रतिलिपि भी यहाँ सुरक्षित हैं।

   नेताजी की 125वीं जयंती के अवसर पर आज उनकी शयन पटिट्का पर 125 मोमबत्तियाँ प्रज्जवलित कर उन्हें श्रृद्धा-सुमन अर्पित किए गए। इसके पहले केन्द्रीय जेल के प्रवेश द्वार पर मुख्यमंत्री श्री चौहान को को सलामी दी गई। जेल अधीक्षक गोपाल प्रसाद ताम्रकार ने मुख्यमंत्री को स्मृति-चिन्ह भेंट किया।

   उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ही 13 जून 2007 को आयोजित भव्य समारोह में केन्द्रीय जेल जबलपुर का नामकरण नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के नाम पर किया था। केन्द्रीय जेल जबलपुर में सुभाष बाबू पहली बार 22 दिसम्बर 1931 से 16 जुलाई 1932 तक तथा दूसरी बार 18 फरवरी 1933 से 22 फरवरी 1933 तक कारागार में रहे। "तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आजादी दूँगा" के नारे से भारतीयों के हृदय में देश के लिये सर्वस्व बलिदान का जज्बा जगाने वाले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 125 वीं जयंती को पूरा देश आज पराक्रम दिवस के रूप में मना रहा है।

   इस अवसर पर सांसद श्री राकेश सिंह, विधायक द्वय श्री अजय विश्नोई और श्रीमती नन्दिनी मरावी सहित जनप्रतिनिधि एवं प्रशासकीय अधिकारी उपस्थित थे।

   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्रीय जेल की विजिटिंग बुक में लिखा कि- "मैं आज उस बैरक में जहाँ नेताजी छह माह से ज्यादा क्रांतिकारी के रूप में रहे, आकर धन्य हो गया, उनको मेरा प्रणाम। जेल प्रशासन को नेताजी की स्मृतियाँ सहेजकर रखने के लिए धन्यवाद। इस स्थल को देशभक्ति केन्द्र के रूप में विकसित करने का प्रयास होगा।"
 
(32 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2021मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer