समाचार
|| मंत्री श्री दत्तीगांव ने बदनावर में आयोजित ISO अवार्ड समारोह कार्यक्रम में थाना प्रभारी सीबी सिंह को किया बदनावर थाने का आईएसओ प्रमाण पत्र प्रदान || पेट फिएस्टा में श्वान मालिकों ने दिखाया जबरदस्त उत्साह || अखिल भारतीय पैराडाईज गोल्ड कप क्रिकेट टूर्नामेंट का 24 वां सौपान समापन समारोह कार्यक्रम संपन्न || अब सभी पेंशन प्रकरण ऑनलाइन तैयार होंगे, भुगतान में नहीं होगा विलंब || मध्यप्रदेश के प्रत्येक ज़िले में दो तालाबों को बनाएंगे मॉडल तालाब || कोरोना से स्वस्थ होने पर 15 व्यक्ति डिस्चार्ज || आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के लिये दो वृहद औद्योगिक इकाईयों को भूमि आवंटित || राष्ट्रीय कामगार आयोग के उपाध्यक्ष श्री बब्बन रावत ने नगर निगम और नगर पालिकाओं के अधिकारियों की ली बैठक || नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत फीस प्रतिपूर्ति के संबंध में तिथियां जारी || उपार्जन के बाद गेहूं और धान में आई कमी के लिए कलेक्टर ने दिये समितियों एवं परिवहनकर्ता से 61 लाख 44 हजार रुपये वसूलने के आदेश
अन्य ख़बरें
बाँस मिशन से मिल रहा है लोगों को रोजगार
-
सीधी | 25-जनवरी-2021
 
     राज्य बाँस मिशन द्वारा बालाघाट जिले के आदिवासी बहुल बैहर परिक्षेत्र में संचालित सामान्य सुविधा केन्द्र के माध्यम से लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। बाँस शिल्पी राजू बंजारा अपने समूह के साथ जुड़े कर लाभ कमा रहे हैं, वहीं अन्य बाँस शिल्पियों और आदिवासियों को प्रशिक्षित कर उनकी आर्थिक समृद्धि में अहम भूमिका भी निभा रहे हैं। इन शिल्पियों द्वारा निर्मित उत्पादों का विक्रय प्रदेश के साथ ही देश भर में हो रहा है।
    बैहर में सामान्य सुविधा केन्द्र (सीएफसी) की स्थापना 30 साल पहले कुटीर उद्योग के रूप में हुई थी। तब सूमघार रस्सी और बाँस कोशा बाड़ी के लिये बाँस की चटाई बनाई जाती थी। इसके लिये उपयुक्त घास की कमी के कारण इसे वर्ष 1995-96 में बंद करना पड़ा।
    वन विभाग एवं राज्य बाँस मिशन द्वारा पाँच साल पहले 2016 में इस उद्योग को पुनरू नया स्वरूप देकर चालू कराया गया। इस सामान्य सुविधा केन्द्र में बाँस आधारित मशीनें उपलब्ध हैं। यहाँ कच्चे माल एवं निर्मित बाँस उत्पादों के लिये बाजार भी उपलब्ध कराया जा रहा है।
    बाँस शिल्पी राजू बंजारा ने बाँस से निर्मित सामग्री फर्नीचर, टेबल सेट कुर्सी, सजावट के सामान आदि का प्रशिक्षण लिया गया। प्रशिक्षण के बाद उन्होंने वनांचल स्व-सहायता समूह गठित कर बाँस शिल्प की विभिन्न सामग्री का निर्माण शुरू किया। वनांचल स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित उत्पादों को प्रदेश के अलावा अन्य राज्यों के मेलों में प्रदर्शित किया जाएगा।
    राजू बंजारा द्वारा तकरीबन 50 लोगों को बाँस शिल्प कला का प्रशिक्षण दिया। इससे 100 से अधिक परिवारों को रोजगार मिला है। इस प्रकार से यह वन समितियों की आमदनी का एक अच्छा जरिया बन चुका है। स्व-सहायता समूह में बाँस भिर्रे की गुणवत्ता के तहत 50 हजार रुपये प्रति भिर्रा का भुगतान किया जा रहा है।
    सामान्य सुविधा केन्द्र में बाँस आधारित आधुनिक मशीन जैसे लेथ मशीन, सेंडर मशीन, नॉट रिमूवल मशीन उपलब्ध हैं। इसके अलावा न्यूमेटिक नेल मशीन, वैक्यूम प्रेशर एण्ड इम्प्रेगनेशर और क्रांस कर मशीनों को निकट भविष्य में खरीदा जाएगा।
 
(35 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
फरवरीमार्च 2021अप्रैल
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
22232425262728
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer