समाचार
|| मंत्री श्री दत्तीगांव ने बदनावर में आयोजित ISO अवार्ड समारोह कार्यक्रम में थाना प्रभारी सीबी सिंह को किया बदनावर थाने का आईएसओ प्रमाण पत्र प्रदान || पेट फिएस्टा में श्वान मालिकों ने दिखाया जबरदस्त उत्साह || अखिल भारतीय पैराडाईज गोल्ड कप क्रिकेट टूर्नामेंट का 24 वां सौपान समापन समारोह कार्यक्रम संपन्न || अब सभी पेंशन प्रकरण ऑनलाइन तैयार होंगे, भुगतान में नहीं होगा विलंब || मध्यप्रदेश के प्रत्येक ज़िले में दो तालाबों को बनाएंगे मॉडल तालाब || कोरोना से स्वस्थ होने पर 15 व्यक्ति डिस्चार्ज || आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के लिये दो वृहद औद्योगिक इकाईयों को भूमि आवंटित || राष्ट्रीय कामगार आयोग के उपाध्यक्ष श्री बब्बन रावत ने नगर निगम और नगर पालिकाओं के अधिकारियों की ली बैठक || नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत फीस प्रतिपूर्ति के संबंध में तिथियां जारी || उपार्जन के बाद गेहूं और धान में आई कमी के लिए कलेक्टर ने दिये समितियों एवं परिवहनकर्ता से 61 लाख 44 हजार रुपये वसूलने के आदेश
अन्य ख़बरें
जिला अस्पताल में 30 सफल मोतियाबिंद ऑपरेशन किए गए
राष्ट्रीय अंधत्व निवारण कार्यक्रम अंतर्गत अब तक 232 लोगों की आंखों को मिली रोशनी
सीधी | 27-जनवरी-2021
      राष्ट्रीय अंधत्व निवारण कार्यक्रम अंतर्गत जिले में नवंबर से अभी तक 232 लोगों के मोतियाबिंद के सफल आपरेशन किए गए है। जिला अस्पताल सीधी में पदस्थ नेत्र सर्जन डॉ. लक्ष्मण पटेल द्वारा बताया गया कि बुधवार को 30 लाभार्थियों को मोतियाबिंद के सफल आपरेशन के बाद छुट्टी की गई।

     डॉ. पटेल ने बताया कि प्रत्येक सप्ताह के सोमवार और गुरुवार को मोतियाबिन्द के रोगियों को भर्ती कर मंगलवार और शुक्रवार को आपरेशन किया जाता है तथा बुधवार और शनिवार को छुट्टी कर दी जाती है। इसके बाद मरीजों का तीसरे दिन, सातवे दिन, दसवे दिन फालोअप कराया जाता है। एक से डेढ़ माह के मध्य मरीज का अंतिम फालोअप के पश्चात् पावर की जांच कर चश्मा प्रदान किया जाता है। फालोअप के लिए मरीज यदि जिला अस्पताल में नही आ पाया तो उसके घर में नेत्र सहायकों के द्वारा यह सुविधा प्रदान की जाती है।

      डॉ. पटेल ने आपरेशन के बाद अनिवार्य सावधानियों के बारे में भी बताया कि 1 माह तक आंख में पानी नही जाना चाहिए और धुआं, धूल से बचाना चाहिए, आंखों से पानी आने पर तुरंत चिकित्सक से सलाह लेना चाहिए। कम से कम 1 हफ्ते तक खांसी नही आए और कड़ी लेट्रिग नही होनी चाहिए। ऐसा होने पर आंखो में जोर पड़ेगा और इन्फेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। जिला चिकित्सालय में नेत्र जांच एवं आपरेशन की सुविधा दैनिक कार्यो में शामिल है कभी भी आपरेशन के लिए मरीज स्वयं की समग्र आई.डी. के साथ जिला चिकित्सालय में जांच करवा कर परामर्श से भर्ती हो सकता है यदि कोई साथी नही है तो भी आपरेशन में बाधा नही आती है। साथ ही यदि आयुष्मान कार्ड नही बना है तो पात्र होने पर कार्ड भी बना दिया जाता है।
(33 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
फरवरीमार्च 2021अप्रैल
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
22232425262728
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer