समाचार
|| विधायक श्रीमती गायत्री राजे पवार ने विधायक निधि से जिला अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट जनरेटर के लिए 50 लाख रुपये की अनुशंसा || देवास जिले मे 22 अप्रैल 2021 को 2 हजार 993 लोगों को कोरोना से सुरक्षा का टीका लगाया || बैरसिया में 15 सामान्य और 4 ऑक्सीजन बेड का कोविड केयर सेंटर शुरू || कोविड संक्रमण की चेन तोड़ने मंत्रीगण को दी गयी कार्यों की जिम्मेदारी || जागो ग्राहक जागो - ग्राहक स्वयं को मजबूर नहीं मजबूत समझें || रेमडेसिविर की कालाबाजारी करने वालों पर रासुका लगायें : मुख्यमंत्री श्री चौहान || सभी पोल्ट्री फॉर्म संचालकों से पोल्ट्री फार्म का पंजीयन कराने की अपील || कोविड-19 मीडिया बुलेटिन - जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण से 75 नये व्यक्ति हुये स्वस्थ || तहसील जुन्नारदेव के एक ग्राम और नगर पालिका दमुआ के 2 वार्डो का निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया घोषित || नगर अमरवाड़ा के 2 वार्डो, तहसील अमरवाड़ा के 2 ग्रामों और विकासखंड हर्रई के 3 ग्रामों का निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया घोषित
अन्य ख़बरें
पांच दिवसीय फैकेल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम का हुआ समापन
-
पन्ना | 20-फरवरी-2021
    छत्रसाल शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय पन्ना में पांच दिवसों से चल रहे फैकेल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम का महाविद्यालय में समापन हुआ। इस कार्यक्रम का प्रारम्भ आई.क्यू.ए.सी. एवं एक भारत श्रेष्ठ भारत के बैनर तले 16 फरवरी से हुआ था। इसके उद्रघाटन सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में प्रो. टी.आर. थापक कुलपति महाराजा छत्रसाल बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय छतरपुर, कार्यक्रम की अध्यक्षता कलेक्टर श्री संजय कुमार मिश्र, विशिष्ट अतिथि डॉ. एल.एल. कोरी क्षेत्रीय अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा सागर संभाग सागर एवं विशिष्ट अतिथि प्रो. प्रमोद चतुर्वेदी कोर्स डायरेक्टर नरौन्हा अकादमी भोपाल रहे।
     पांच दिवसीय कार्यक्रम में विभिन्न संकायों के आठ वक्ताओं द्वारा वक्तव्य दिये गये। प्रथम दिवस डॉ. अनिमेश कुमार ओझा सह. प्राध्यापक मेनिट इलाहाबाद द्वारा विज्ञान के विद्यार्थियों एवं फैकल्टी को शोध की आवश्यकता एवं विधि से परिचित करवाया। दूसरे दिन मुख्य वक्ता प्रथम सत्र डॉ. मनोज कुमार सिंह ओ.एस.डी. पर्यटन विभाग द्वारा अल्टरनेटिव टूरिज्म एवं उसमें शोध की संभावनाओं के विषय में ज्ञानवर्धन किया गया। द्वितीय सत्र में प्रो. एस.पी.शुक्ला प्राध्यापक पोलिटेक्निकल साइंस टी.आर.एस. कॉलेज रीवा द्वारा शोध पत्र लिखने की विधि एवं शोध पत्र के विभिन्न भागों के बारे में विस्तारपूर्वक समझाया। तृतीय दिवस के प्रथम सत्र में डॉ. रमेश अहिरवाल सहा. प्राध्यापक कम्प्यूटर विभाग दमोह द्वारा शोध में आई.सी.टी. टूल्स के इस्तेमाल के बारे में बताया गया। द्वितीय सत्र में डॉ. सोनल शर्मा सहा.प्राध्यापक अर्थशास्त्र विभाग शासकीय महाविद्यालय देवास द्वारा शोध में सांख्यकीय टूल्स की उपयोगिता एवं उसके उपयोग करने की प्राविधि के विषय में समझाया गया। चतुर्थ दिवस मे श्री नरेश पटेल ग्रंथपाल शासकीय कन्या महाविद्यालय पन्ना द्वारा पुस्तकालय में ई रिसोर्सेस की उपयोगिता के विषय में बताया गया। द्वितीय सत्र में डॉ. इमराना सिद्धीकी प्रो. केमेस्ट्री विभाग शासकीय कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय सागर द्वारा बेविनार का आयोजन किस प्रकार किया जाता है उसके सभी तकनीकी पहलुओं पर विस्तार से जानकारी दी।
पांचवें दिवस पर प्रथम सत्र में वक्ता के रूप में डॉ. एम.पी.एस.भदौरिया क्रीड़ा अधिकारी शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय श्योपुर द्वारा स्पोर्टस में पेरेमेटिक मोडिलिटी इन स्पोर्टस पर विस्तार से जानकारी दी गयी। पांचवें दिवस के द्वितीय सत्र में समापन समारोह का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि छत्रसाल शासकीय महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. ए.के.खरे जी रहे। इनके द्वारा आयोजन समिति को बधाई प्रेषित की एवं महाविद्यालय इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित करता रहेगा और समाज को शिक्षा के क्षेत्र में नवीन आयामों तक पहुंचाने के लिये लगातार प्रयासरत् रहेगा ऐसा आश्वासन कार्यक्रम में शामिल समस्त प्राध्यापकों एवं सहा.प्राध्यापकों को दिया। महाविद्यालय के आई.क्यू.ए.सी. संयोजक डॉ. एच.एस.शर्मा द्वारा बताया गया कि इस कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रीय चिन्तन के परिपेक्ष्य में किया गया है एवं शोध को हमेशा समाजोपयोगी होना चाहिये एवं समाजोपयोगी विषयों पर ही शोध करने का आव्वाहन प्रतिभागियों से किया गया। कार्यक्रम के को पैटर्न प्रो. पी.पी.गौर द्वारा कार्यक्रम के प्रतिभागियों के कमेन्ट्स में कार्यक्रम को अतिउपयोगी बनाने पर प्रसन्नता जाहिर की। कोर्डिनेटर एक भारत श्रेष्ठ भारत प्रो. एस.पी.एस. परमार द्वारा कार्यक्रम को समाजोपयोगी बताते हुए सभी को ऑनलाईन कार्यक्रम की सफलता पर बधाई दी। समापन कार्यक्रम में अपना वक्तव्य देते हुए डॉ.पी.पी.मिश्रा सह संयोजक आई.क्यू.ए.सी. द्वारा बताया गया कि इस कार्यक्रम में 449 फैकल्टीस रजिस्टर्ड हुए जिनमें से 200 सहा.प्राध्यापक 50 प्राध्यापक एवं 100 से अधिक रिसर्च स्कॉलर थे। इस प्रकार कार्यक्रम पूर्ण रूप से सफल रहा और इस कार्यक्रम की सफलता पर प्राचार्य को बधाई प्रेषित की।
अंत में कार्यक्रम की संयोजक डॉ. कविता परबंदा सहा.प्राध्यापक वाणिज्य द्वारा सभी को कार्यक्रम के सार से परिचित करवाया एवं कार्यक्रम में सहयोग के लिये सभी का आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ.श्वेता ताम्रकार द्वारा किया गया। कार्यक्रम के आर्गनाईजर डॉ. आदित्य कुमार को आर्गनाईजर श्री शुभम् सिंह को कनवेनर कु. अंकिता सोनी रहीं। कार्यक्रम की एडवाईजरी समिति में डॉ. उषा मिश्रा, डॉ. एस.के.पटेल, डॉ.जे.के. वर्मा, डॉ. मनोरमा गुप्ता, डॉ. उमा त्रिपाठी, डॉ. एस.एस.राठौर, डॉ.आर.एम.दत्ता. डॉ.एस.जी.सिंह, डॉ.डी.पी.कुशवाहा, डॉ. आर.एम.तिवारी, डॉ. बी.एन.जायसवाल, डॉ. सचिन गोयल एवं डॉ. सतीस त्रिपाठी रहे एवं कार्यक्रम के सफल आयोजन में महाविद्यालय के समस्त प्राध्यापक एवं सहा.प्राध्यापकों एवं महाविद्यालय कर्मचारियों का सराहनीय सहयोग रहा।

 
(62 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2021मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293012
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer