समाचार
|| 10 अप्रैल की ‘‘नेशनल लोक अदालत’’ के लिये बैठक आयोजित || पुनर्वास स्कूल में छात्रों को ड्रेस वितरित की गई || जिला राजगढ के आहरण संवितरण अधिकारियों ,क्रियेटर्स को ईएसएस ,एनपीएस,पेंशन माड्यूल का प्रशिक्षण सम्पन्न हुआ || जिला स्तरीय कबड्डी प्रतियोगिता का शुभारम्भ 8 मार्च को उत्कृष्ट विद्यालय में || महिला दिवस पर महिला संगोष्ठी का आयोजन || कोविड़-19 टीकाकरण ब्लॉक स्तर पर 8 मार्च से होगा || 08 मार्च को उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओं को किया जाएगा समारोह पूर्वक सम्मानित || अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर लगेगी हुनर हाट || कलेक्टर ने खिलचीपुर, जीरापुर, छापीहेड़ा क्षेत्र के गेहूँ खरीदी केन्द्र का निरीक्षण किया || कोविड-19 के विश्व में महिला नेतृत्व की समान उन्नति थीम पर मनाया जाएगा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस
अन्य ख़बरें
लॉकडाउन में रूपा ने सूझबूझ से कमाई कर चलाई आजीविका ‘‘सफलता की कहानी’’
-
अनुपपुर | 23-फरवरी-2021
    जिले के कोतमा जनपदीय अंचल की रहने वाली रूपा पाव ने कोरोना काल में लॉकडाउन के चलते जब सब कामधंधे बंद हो गए थे, अपनी सूझबूझ से मास्क निर्माण से हुई कमाई से अपने परिवार की आजीविका चलाई। रूपा के पति कृषि मजूदर हैं और पति का साथ देने के लिए वह अपने गांव के आसपास के गांवों में लगने वाले हाट-बाजार में जाकर सिलाई का कार्य लाकर परिवार की आजीविका चलाया करती थीं। 
    लेकिन कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान उनके यहाँ सिलाई के लिए कपड़ा आना बंद हो गया। यह कपड़ा गांव की दीदियां उनके यहां लेकर आती थीं। जिनका लॉकडाउन के कारण आना-जाना बंद हो गया। सिलाई कार्य बंद हो जाने से रूपा की आय में कमी आ गई और घर का खर्च चलाना मुश्किल हो गया। जो कुछ कमाया था, वह भी महीने भर के अन्दर घर के खर्च में चला गया। लॉकडाउन की वजह से गांव से बाहर निकलना नहीं हो पाता था, जिस कारण आसपास के गांवों की दीदियां सिलाई करवाने नहीं आ पाती थीं। इस तरह रूपा का सिलाई का व्यवसाय पूरी तरह ठप हो गया।
    इसी बीच कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मास्क निर्माण का कार्य शुरु हो गया। रूपा ने मास्क निर्माण से कमाई करने की ठानी और वह आजीविका मिशन द्वारा गठित स्वसहायता समूह से जुड़ गईं। म.प्र. ग्रामीण आजीविका मिशन के द्वारा रूपा को मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना की वित्तीय मदद से मास्क निर्माण का कार्य मिल गया। रूपा ने 7500 मास्कों का निर्माण कर डाला, जिसकी कमाई की बदौलत उन्होंने ना केवल एक सेकण्ड हैण्ड स्कूटी खरीदी, बल्कि पति को साइकिल मरम्मत दुकान भी खुलवा दी। इससे उनके परिवार की आमदनी कई गुना बढ़ गई।  
   रूपा अपने पुराने दिन याद कर बताती हैं कि उन्हें अपने कार्य के सिलसिले में आसपास के गांवों में आने जाने में कठिनाई होती थी। उनके पास साईकिल तक नहीं थी, जिस कारण आने जाने में कठिनाई होती थी। अब स्कूटी आ जाने से आसपास के गांवों में जाने में सहुलियत हो गई है। रूपा कहती हैं कि कभी मेरी हैसियत साईकिल तक पर चलने की नहीं थी, पर आज मैं स्कूटी पर चल रही हूँ। वह कहती हैं कि उन्हें सिलाई कार्य से प्रतिदिन 300 से 350 रुपये की आमदनी हो जाती है। म.प्र. ग्रामीण आजीविका मिशन के जिला परियोजना प्रबंधक श्री शशांक प्रताप सिंह कहते हैं कि स्वसहायता समूहों से जुड़ी महिलाएं लगातार आर्थिक रूप से मजबूत हो रही हैं। उन्हीं में से एक रूपा भी अपनी मेहनत और सूझबूझ से अच्छी कमाई कर रही हैं।  
(11 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
फरवरीमार्च 2021अप्रैल
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
22232425262728
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer