समाचार
|| अलीराजपुर जिले का नवदुर्गा एसएचजी राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित होगा "खुशियों की दास्तां" || सांसद श्री गुमानसिंह डामोर की अध्यक्षता में जिला स्तरीय समीक्षा एवं निगरानी समिति की बैठक हुई || सांसद श्री गुमानसिंह डामोर की अध्यक्षता में जिला सडक सुरक्षा समिति की बैठक संपन्न || सांसद श्री गुमानसिंह डामोर की अध्यक्षता में राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के तहत बैठक आयोजित || सांसद श्री गुमानसिंह डामोर की अध्यक्षता में दिशा की बैठक आयोजित हुई || फसल जलने पर आर्थिक सहायता स्वीकृत || फसल जलने पर आर्थिक सहायता स्वीकृत || मकान की दीवार गिरने पर आर्थिक सहायता स्वीकृत || कच्ची झोपडी क्षतिगस्त होने पर आर्थिक सहायता स्वीकृत || सांसद श्री गुमानसिंह डामोर की अध्यक्षता में जिला स्तरीय संकट प्रबंधन समूह की बैठक संपन्न
अन्य ख़बरें
इंदौर जिले में सिंचाई के लिए किसानों को दस घंटे बिजली आपूर्ति से सुविधा "सफलता की कहानी"
किसानों ने कहा शासन की सब्सिडी से काफी राहत मिली, जिले में 85 हजार किसानों को गुणवत्तापूर्ण बिजली प्रदाय
इन्दौर | 23-फरवरी-2021
       किसी ने आलू, धनिए, गाजर, गेंहू, चने की फसल ली तो किसी ने प्याज, पालक, गन्ने, अदरक, मटर में रूचि लेकर उत्पादन किया। इंदौर जिले के लगभग 85 हजार किसानों को प्रतिदिन 10 घंटे गुणवत्तापूर्ण बिजली प्रदान की गई है। इससे उन्हें सिंचाई कार्य में सुविधा मिली और रबी की फसलों का अच्छा उत्पादन संभव हो पाया है।
      इंदौर जिले में किसानों के लिए प्रदान किए गए सिंचाई कनेक्शनों की संख्या 85 हजार है। इन किसानों को रबी के लिए मप्र शासन की योजना के अनुसार प्रतिदिन 10 घंटे गुणवत्तापूर्ण बिजली उपलब्ध कराई गई है। इससे फसलों की स्थिति अच्छी होने एवं पैदावार आशातीत होने को है। मालवा और निमाड़ मे किसानों को कुल 5 करोड़ यूनिट बिजली प्रतिदिन तक वितरित हुई है, इसमें इंदौर जिले के किसानों को प्रतिदिन 45 लाख यूनिट बिजली प्रदान की गई है। किसानों को प्रदेश के ऊर्जामंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर एवं मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध निदेशक श्री अमित तोमर के निर्देशानुसार गुणवत्तापूर्ण बिजली दी गई। बिजली वितरण एवं सघन मानिटरिंग का दौर अभी भी जारी है। अब रबी की फसलों का कार्य अंतिम दौर में है। अधीक्षण यंत्री ने बताया कि किसानों से संबंधित बिजली वितरण केंद्र के कर्मचारी अधिकारी सतत फीडबैक भी लेते है, ताकि कोई समस्या आने पर तुरंत समाधान किया जा सके। इंदौर, सांवेर, महू, देपालपुर, बेटमा सभी क्षेत्रों में किसानों से सतत संपर्क रखकर गुणवत्तापूर्ण बिजली व्यवस्था की गई है।
क्या कहते है किसान
      हरसोला महू के रहने वाले किसान भरत शर्मा का कहना है कि मैंने आलू लगाए थे। बिजली सब्सिडी मिली, व्यवस्था संतोषजनक रही। इसी कारण 1100 कट्टे आलू की पैदावार हुई है। इसी तरह तकीपुरा देपालपुर के किसान भगत सिंह ने बताया कि मैंने लहसून, गेंहू, आलू की फसल लगाई थी। बिजली वितरण की व्यवस्था अच्छी रहने से सभी फसलों की गुणवत्ता ठीक रही। बेटमा के किसान दुलीचंद ने कहा कि सिंचाई के लिए शासन से सब्सिडी मिलती है, हमें छः माह में मात्र 1750 देना होते है। सिंचाई हेतु सरकार मदद कर रही है।
 
(11 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
फरवरीमार्च 2021अप्रैल
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
22232425262728
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer