समाचार
|| कोविड-19 टीकाकरण 3066 नागरिकों  ने लगवाया कोविड का टीका || सम्पूर्ण जिले में कोरोना कर्फ्यू का प्रभावी क्रियान्वयन || पूरी तत्परता से मानवता की सेवा में जुटे हैं कोरोना वॉलिंटियर || कोरोना कर्फ्यू : फल-सब्जी की दुकानों को मिली छूट || जिले में गेहूं उपार्जन कार्य सुचारू रूप से जारी || कलेक्टर श्री सिंह ने कोविड केयर सेंटर ज्ञानोदय का किया निरीक्षण || राज्यपाल श्रीमती पटेल 18 अप्रैल को भोपाल आएँगी || जल मिशन में रीवा संभाग की ग्रामीण आबादी को मिलेगा नल से जल || किसी भी तरह की लिंक/कॉल प्राप्त होने पर व्यक्तिगत जानकारी किसी भी स्थिति में शेयर न करें || आईआरएडी एप का उपयोग म.प्र. के 41 जिलों में - एडीजी श्री सागर
अन्य ख़बरें
सहायक श्रमायुक्त को कारण बताओ नोटिस जारी
-
सतना | 01-मार्च-2021
   कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट अजय कटेसरिया ने एक श्रम संबंधी प्रकरण में आवेदक की शिकायत के विरूद्ध निराकरण की कार्यवाही नहीं करने के फलस्वरूप सहायक श्रमायुक्त बीपी सिंह को कारण बताओ नोटिस जारी कर तीन दिवस के भीतर जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिये हैं।
    यूसीएल सतना के क्वालिटी कंट्रोल में कार्यरत सुरेश कुमार शर्मा ने चलने-फिरने में असमर्थ और विकलांग होने के फलस्वरूप 7 वर्ष की सेवा शेष होने पर कंपनी में वीआरएस एवं ग्रेच्युटी के लिये आवेदन किया था। उन्होने बताया कि माह मई से ईएसआई अवकाश पर होने के फलस्वरूप कंपनी द्वारा वेतन भी नही दिया जा रहा। उनके आवेदन पर सुनवाई नही हो रही है। सुरेश कुमार शर्मा ने 28 जनवरी और 18 फरवरी को कलेक्टर के समक्ष दो बार शिकायत करने पर कलेक्टर ने सहायक श्रमायुक्त बीपी सिंह को प्रस्तुत शिकायत का निराकरण तत्काल किये जाने के निर्देश दिये गये थे। सोमवार 1 मार्च को शिकायतकर्ता श्री शर्मा ने पुनः कलेक्टर अजय कटेसरिया के समक्ष उपस्थित होकर शिकायत की और कहा कि कंपनी द्वारा किसी भी प्रकार क्लेम का भुगतान नही किया जा रहा है। इस संबंध में कलेक्टर श्री कटेसरिया ने सहायक श्रमायुक्त बीपी सिंह द्वारा उनके निर्देशों के बावजूद प्रकरण में कोई निराकरण की कार्यवाही नही करने पर इसे पदीय दायित्वों के विपरीत और शासन के निर्देश तथा वरिष्ठ अधिकारी के निर्देशों की अवहेलना मानते हुये अनुशासनात्मक कार्यवाही अमल में लाने की चेतावनी सहित नोटिस जारी किया है। सहायक श्रमायुक्त को जारी नोटिस में कहा गया है कि उनका यह कृत्य घोर अनुशासनहीनता का द्योतक और म.प्र. सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के नियम 3 के विरूद्ध होने से दंडनीय है, क्यों न आपके विरूद्ध म.प्र. सिविल सेवा नियम 1966 के प्रावधानों के तहत अनुशासनात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाये।
(47 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2021मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293012
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer