समाचार
|| किसान भाईयों को अल्पवर्षा की वर्तमान स्थिति में सम सामयिक सलाह || बीस वर्ष की सेवा या पचास वर्ष की आयु पूरी कर चुके, अक्षम कर्मचारियों की अनिवार्य सेवानिवृत्ति के प्रस्ताव भेजें || स्वतंत्रता दिवस की तैयारियों को लेकर बैठक संपन्न || संभागायुक्त ने महिला उद्यमियों के लिए स्वीप आयोजन की तैयारियों की समीक्षा की || पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा पाठ्यक्रमों के उन्नयन के प्रयास सराहनीय - मंत्री श्री शर्मा || राजनैतिक मामलों की मंत्रि-परिषद समिति पुनर्गठित || जिले में 267 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड || अशासकीय व्यक्तियों को शासकीय आवास आवंटन की समीक्षा होगी || बच्चों के लिए खून की व्यवस्था करने कलेक्टर ने ली सामाजिक संस्थाओं की बैठक || सभी विभागाध्यक्ष एवं जिला कार्यालय में ई-ऑफिस कार्य-प्रणाली क्रियान्वयन के निर्देश
आस-पास
देवास
...और खबरें
मन्दसौर
...और खबरें
नीमच
रतलाम
...और खबरें
शाजापुर
उज्जैन
...और खबरें
आगर-मालवा
...और खबरें
जिला :: देवास
एक नजर में
7/10/2018 6:33:05 AM

 
   
सामान्य जानकारी
   
   देवास जिला उज्जैन राजस्व संभाग में मध्य प्रदेश के मध्य पश्चिमी भाग में मालवा के पठार पर स्थित है जो की उत्तरी अक्षांश 200 17’ एवं 230 20’ के मध्य एवं 750 54’ एवं 770 08’ पूर्वी देशांश पर फैला हुआ है ।

   इस जिले की सीमायें उत्तर में उज्जैन जिले से पश्चिम में इंदौर, जिले से दक्षिण पश्चिम में पश्चिम निमाड़, दक्षिण में पूर्वी निमाड़ से, दक्षिण-पूर्व में होशंगाबाद पूर्व में सीहोर जिले से उत्तर पूर्व में शाजापुर से घिरी हुई  है । कर्क रेखा जिले के खातेगांव शहर के दक्षिण में स्थित नेमावर ग्राम के पास से गुजरती है ।
 
    जिले का नाम देवास है जो कि दो परम्परागत धारणाओं के आधार पर रखा गया है।
 
     पहली धारणा के अनुसार देवास, शंखाकार  पहाड़ी जो की चामुण्डा पहाड़ी के नाम से जानी जाती है के लगभग 300 ft नीचे बसा हुआ है । पहाड़ी के शिखर पर चामुण्डा मंदिर स्थित है । देवी की प्रतिमा पहाड़ी पर एक गुफा  में चट्टानी दीवार पर उत्क्रीर्ण है । इसलिए यह देवी वैशिनी या देवी-वास के नाम से जाना जाता है। देवी का वास होने से देवास (देव+वास) नाम लिया गया  दूसरी धारणा के अनुसार देवास नाम समीप के '''' देवास बनीया '''' गांव के संस्थापक के नाम पर पड़ा ।
 
   वर्तमान देवास जिला प्रारंभिक बीसवीं सदी में तत्समय प्रभावशील मालवा- पोलिटिकल चार्ज तथा सेंट्रल इंडिया एजेंसी के समय हुई संधि से देवास सीनियर एवं देवास जूनियर दो राज्यों में विभक्त था ।  उस समय दोनों राज्यों का प्रशासन पृथक - पृथक था एवं कई मामलों में स्वतंत्र रूप से कार्य करते थे लेकिन देवास शहर साइनी राजधानी के रूप में कार्यरत था ।
 
     देसी राज्यों के विलय तथा 1948  मध्य भारत के बनने के उपरांत जिले की सीमाओं का पुनः निर्माण किया गया । तत्समय निर्मित जिले के स्वरूप अनुसार ही जिले का वर्तमान स्वरूप बना । इस नवगठित जिले को पूर्व के देवास सीनियर तथा जूनियर राज्यों की दो तहसीलो के 242 ग्रामो को सोनकच्छ तहसील के 452  ग्रामो को एवं पूर्व होलकर राज्य की कन्नौद तथा खातेगांव तहसील को मिलाकर बनाया गया है । भाषाई आधार पर राज्यों के पुनर्गठन  1 नवंबर 1956 में  एवं मध्य भारत के विलय के उपरांत नवगठित मध्य प्रदेश के विलय के उपरांत नवगठित मध्य-प्रदेश में देवास एक जिले के रूप में रहा ।    
 
   वर्तमान में जिला 9 तहसीलो में बटा हुआ है । सोनकच्छ, देवास, बागली, कन्नौद, टोंकखुर्द, खातेगांव, सतवास, हाटपिपल्या, उदयनगर । देवास तहसील जिले के उत्तर पश्चिम भाग में, सोनकच्छ, उत्तर पूर्वी भाग में बागली दक्षिण में, कन्नौद मध्य दक्षिण भाग में खातेगांव दक्षिण पूर्वी में स्थित है । तहसील मुख्यालय सड़क मार्गो से जुड़े है देवास तहसील मुख्यालय जो की देवास जिले का भी मुख्यालय है, राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. 3 बॉम्बे आगरा रोड तथा पश्चिम रेलवे की ब्रॉडगेज लाइन पर स्थित है।
   
District Information
एक नज़र

पाठकों की पसंद
जिले के महत्वपूर्ण फोटो

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer