समाचार
|| मतदान केन्द्रों में संशोधन के प्रस्तावों पर बैठक सम्पन्न || जिला टास्क फोर्स की बैठक सम्पन्न || गबन के आरोप में घुंसौर समिति के विक्रेता को पद से हटाया गया || शैक्षणिक संस्थाओं के नवीनीकरण एवं मान्यता हेतु आवेदन ऑन लाइन आमंत्रित || राजस्व मामलों के निराकरण हेतु अभियान एक जनवरी से || मीजल्स रूबेला का टीकाकरण 15 जनवरी से किया जावेगा || ‘‘स्वस्थ्य शरीर में स्वस्थ्य मन निवास करता है’’ || भूतपूर्व सैनिक रैली 16 दिसंबर को || धरवारा ग्राम में आयोजित स्नेह शिविर में पहुंचे कलेक्टर || मुर्गी पालन में बरतें सावधानी और प्राप्त करें बेहतर लाभ - कलेक्टर श्री चौधरी
आस-पास
छतरपुर
दमोह
...और खबरें
पन्ना
सागर
...और खबरें
टीकमगढ़
...और खबरें
निवाड़ी
...और खबरें
जिला :: पन्ना
संस्कृति
8/7/2018 6:08:56 AM
 
संस्कृति

    यहां पर सभी धर्म सम्प्रदाय, बोली भाषा के लोग आपस में मिल जुल कर रहते हैं। यहां की गंगा-जुमुनी संस्कृति लोगों को सीखने का अवसर प्रदान करती है। यहा के लोग सभी त्यौहार आपस में मिल जुल कर मनाते हैं। यहां पर अन्तर्राष्ट्रीय शरदपूर्णिमा महोत्सव एवं रथ यात्रा महोत्सव अपने आप में अन्य तीज त्यौहारों से हट कर मनाये जाते हैं। इसके साथ ही जिले में मकर संक्राति, बसंत पंचमी के मेले के अलावा कुंआताल नवरात्री का सप्ताह भर चलने वाला मेला लगता है।
    यहां प्रमुख रूप से राई, दिवारी, बधाई, ढिमरहाई लोक नृत्य आज के आधुनिक युग में भी देखने मिल जाते हैं। शादी विवाह, बच्चे के जन्म आदि पर आज भी लोक गीतो का प्रचलन है। इनमें दाररे, सोहरे, बधाई, गारी, बन्ना-बन्नी आदि लोक गीत गाये जाते हैं।
   धार्मिक लोक गायन में भजन, देवी भगत का गायन होता है। भुजरियों या खजलईयों के पर्व पर आल्हा लोक गायन और नृत्य का आयोजन होता है।
District Information
एक नज़र

पाठकों की पसंद
जिले के महत्वपूर्ण फोटो

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer