समाचार
|| कोरोना से स्वस्थ होने पर आज दस लोगों को दी गई छुट्टी || कलेक्टर ने विराम को सफल बनाने में सहयोग के लिये नागरिकों का आभार माना || किल कोरोना अभियान : बारहवें दिन 11 हजार घरों के 59 हजार व्यक्तियों के स्वास्थ्य का हुआ सर्वे || आज 5 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई || आज की नॉवल कोरोना वायरस हेल्थ बुलेटिन || कैबिनेट मंत्री श्री डंग 13 जुलाई को सुवासरा से भोपाल प्रस्थान करेंगे || जिले के लोग कोरोना से बचाव के लिए सावधानी बरतें, लापरवाही खतरनाक हो सकती है - कलेक्टर श्री लवानिया || स्व-सहायता समूह की महिलाएँ संचालित कर रहीं नर्सरी || छोटे व्यवसायियों को आत्मनिर्भर बनाने में मध्यप्रदेश अव्वल || जिले में रोको-टोको कार्यक्रम हेतु नोडल अधिकारी नियुक्त
आस-पास
मुरैना
श्योपुर
भिण्ड
...और खबरें
जिला :: श्योपुर
इतिहास
8/12/2018 6:37:52 AM
 
इतिहास

       ऐतिहासिक दृष्टि से श्योपुर जिले की पहचान 9-10 वी शताब्दी से प्रारंभ होकर खंगरायत गोपान्चल आख्यान से जानी जाती है। जिसके अनुसार राजा अजयपाल (लगभग 1194 से 1291) ने श्योपुर को अपनी राजधानी बनाया। इसके पश्चात जयंतपाल, बसंतपाल एवं विजयपाल ने यहां राज किया। इसी क्रम में राजा विजयपाल दितीय जो कि रणथंबोर के प्रसिद्ध महराजा हमीर देव के आधिपत्य में आया था। राजा हमीर देव को हराने के बाद श्योपुर पर श्री अलाउद्दीन खिलजी ने आधिपत्य जमाया। इसके उपरांत सन् 1489 में मालवा के सुल्तान महमूद खिलजी ने इसे जीत लिया।
    सन् 1564 में जब अकबर चित्तोड़ की ओर कूच कर रहे थे। उस समय श्योपुर किला सुरजन सिंह हाडा के आधिपत्य में था। जो उनके द्वारा एक संधि के तहत अकबर को दे दिया गया। उस समय यह अजमेर सूबे के अंतर्गत रणथंबोर स्टेट का एक परगना भी बन गया था। सन् 1584 में राजा इंद्र सिंह गौड ने अकबर के सामंत शासक के रूप में श्योपुर पर शासन किया बाद में सिंधिया शासन के दौरान दौलतराव सिंधिया ने श्योपुर को एक जागीर के रूप में  अंग्रेज शासक को सौंप दिया।
       इसके उपरांत सन् 1814 में राघवगढ के राजा जय सिंह खींची ने श्योपुर पर आक्रमण कर अपना कब्जा जमा लिया। उनसे सन् 1857 में बडौदा के राजा बलवंत सिंह ने श्योपुर के किले को जीत लिया। उसका कब्जा ज्यादा दिन तक नही रहा तथा पुनः सिंधिया ने जीतकर अपना आधिपत्य जमा लिया। इसके बाद स्वतंत्रता के बाद राज्यों के गठन तक यह सिंधिया राजवंश के अधीन रहा। बाद में मध्यप्रदेश का हिस्सा बना।
District Information
एक नज़र

पाठकों की पसंद
जिले के महत्वपूर्ण फोटो

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer