समाचार
|| विद्युत पर्यवेक्षक परीक्षा के लिये आवेदन पत्र 30 अप्रैल तक आमंत्रित || विश्वकर्मा पुरस्कार के लिये आवेदन आमंत्रित अंतिम तिथि 30 अप्रैल || बैंक खाता व मोबाइल नंबर को आधार से लिंक कराने पर मिलेगा योजनाओं का लाभ || संभागीय मुख्यालयों पर 7 मई से सरकारी स्कूलों के शिक्षकों का प्रशिक्षण || कौशल विकास कार्यक्रम के तहत निःशुल्क प्रशिक्षण के लिए 30 अप्रैल तक कर सकते हैं आवेदन || वैष्णों देवी तीर्थ दर्षन यात्रा के आज रवाना होगी ट्रेन || समन्वित प्रयासों से ही मिलेंगे सार्थक परिणाम- कलेक्टर || दबिश में 320 क्वार्टर देशी मदिरा जप्त || राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार श्री लाल सिंह आर्य का दौरा कार्यक्रम || आयुष्मान भारत योजना का शुभारंभ 15 अगस्त से
अन्य ख़बरें
एक दिन में अमरकंटक से बड़वानी तक नर्मदा तट पर लाखों लोग पेड़ लगायेंगे - मुख्यमंत्री श्री चौहान
यात्रा पूरे भारत को जगाने का अभियान-सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत, ग्राम नेमावर में हुआ जन-संवाद
देवास | 11-मार्च-2017
 
  
   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वर्षा काल में एक दिन नर्मदा के दोनों तट पर अमरकंटक से लेकर बड़वानी तक लाखों लोग एक साथ पेड़ लगायेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज नेमावर में "नमामि देवि नर्मदे"-सेवा यात्रा के जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। नेमावर में यात्रा के आगमन पर लोगों ने आस्था, विश्वास और उत्साह के साथ यात्रा का स्वागत किया।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा एक अद्भुत यात्रा है। नर्मदा की कृपा से मध्यप्रदेश अन्न के उत्पादन में देश में सबसे आगे है। नर्मदा से पेयजल, सिंचाई, बिजली और रोजगार मिलता है। नर्मदा के दोनों तटों के पेड़ पिछले पचास वर्षों में काट दिये गये हैं, जिससे नर्मदा की जल-धारा प्रभावित हुई  है। उन्होंने कहा कि नर्मदा के दोनों तटों पर पेड़ लगाने का संकल्प लें। किसान अपनी जमीन पर फलदार पेड़ लगायें तो उन्हें चार वर्ष तक 20 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से मुआवजा दिया जायेगा। नर्मदा किनारे के सभी शहर में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगायें जायेंगे। उन्होंने संकल्प दिलाया कि नर्मदा में पूजन समग्री नहीं डालें। इसके लिये नर्मदा के किनारे पूजन कुंड बनाये जायेंगे। नर्मदा किनारे के गाँवों के हर घर में शौचालय बनवायें। नर्मदा तट के पाँच-पाँच किलो मीटर की परिधि में आगामी एक अप्रैल से शराब की दुकानें बंद हो जायेंगी। अपने गाँवों को नशामुक्त बनाने का संकल्प लें। बेटा और बेटी को बराबर मानें उन्हें पढ़ायें। नर्मदा के तटों पर चेंजिंग रूम बनाये जायेंगे। बेटियों से दुराचार करने वालों को फाँसी की सजा दिलाने का कानून बनाया जायेगा। अगले वर्ष से प्रदेश की दूसरी नदियों पर भी इस तरह के अभियान चलाये जायेंगे।
   नेमावर में जन-संवाद में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघसंचालक डॉ. मोहन भागवत ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा अपने कर्म से पूरे भारत को जगाने का अभियान है। आधुनिक समय में मन में श्रद्धा रखकर कर्मरत होने का सबसे बड़ा उदाहरण यह यात्रा है।
   डॉ. भागवत ने आगे कहा कि दुनिया के किसी भी देश में नदी को माँ नहीं कहते। हमारे यहाँ नदियों को माँ मानते हैं और पेड़-पौधों की भी पूजा करते हैं। हमारे यहां कण-कण में ईश्वर को देखते हैं। हम सारी दुनिया की एकता में विश्वास रखते हैं। नर्मदा नदी हमें अपना स्वभाव और जीवन देती है। नर्मदा की सेवा यात्रा से पूरे देश में ऐसी प्रेरणा फैले।
   कार्यक्रम को आचार्य श्री विष्णु पुणन्ना जी, स्वामी रंगनाथ आचार्य जी, महाराज अखिलेश्वरानंद जी और सुश्री प्रज्ञा भारती ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में नर्मदा कलश का पूजन किया गया। साधु-संतों का सम्मान हुआ। शिव तांडव नृत्य की प्रस्तुति भी हुई।
   कार्यक्रम में वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, खेल एवं युवक कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी, पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री श्री सुरेन्द्र पटवा, सांसद एवं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान, राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, मुख्यमंत्री की धर्मपत्नि श्रीमती साधना सिंह, जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डे और श्री राघवेन्द्र गौतम सहित सभी धर्मों के धर्मगुरू, साधु-संत और जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे। स्वागत भाषण विधायक श्री आशीष शर्मा ने दिया।
 
(408 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2018मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer