समाचार
|| मुख्यमंत्री का डुमना आगमन आज || आदि शंकराचार्य ने मध्यप्रदेश की भूमि से दिया सांस्कृतिक एकता का संदेश - शिवराज सिंह चौहान "ब्लॉग " || ग्रीष्मकालीन खेल प्रशिक्षण शिविर आज से || आदि गुरू शंकराचार्य जी की प्राकट्य पंचमी पर दौड़ आज प्रातः 6 बजे || आदि शंकराचार्य ने मध्यप्रदेश की भूमि से दिया सांस्कृतिक एकता का संदेश - शिवराज सिंह चौहान "ब्लॉग" || जननी सेवा के लिए 16 एम्बुलेंस को कलेक्टर ने दिखाई हरी झंडी || मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 1 मई को शाहपुर आयेंगे || माँ नर्मदा की कृपा से लगातार मिल रहा है कृषि कर्मण अवार्ड - मुख्यमंत्री श्री शिवराज चौहान || आदि शंकराचार्य प्राकट्योत्सव पर आज गरिमामय आयोजन || आदि गुरू शंकराचार्य की प्राकट्य पंचमी पर आयोजित दौड़ और संगोष्ठी में शामिल होने कलेक्टर ने नागरिकों से की अपील
अन्य ख़बरें
महू में भारत रत्न डॉ.बाबा साहब अम्बेडकर जयंती महाकुंभ का आयोजन
हम सबका सौभाग्य कि डॉ.अम्बेडकर जैसे महापुरूष ने मध्यप्रदेश की धरती पर जन्म लिया, बाबा साहब एक व्यक्ति नहीं बल्कि पूरी संस्था थे-मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान, महू में अम्बेडकर जयंती पर "ग्रामोदय से भारत उदय अभियान" का मुख्यमंत्री द्वारा शुभारंभ
इन्दौर | 14-अप्रैल-2017
 
 
   मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि हम सबका सौभाग्य है कि भारत रत्न बाबा साहब डॉ.भीमराव अम्बेडकर जैसे महापुरूष ने मध्यप्रदेश की धरती पर जन्म लिया। बाबा साहब प्रखर बुद्धिमान व प्रतिभा के धनी थे। वे एक व्यक्ति नहीं बल्कि पूरी संस्था थे। उनके जैसा शिक्षित व्यक्ति दूसरा कोई नहीं था। अभाव व कठिनाइयों के होते हुये भी उन्होंने उच्च शिक्षा प्राप्त की और आगे बढ़े। उनका जीवन हम सबके लिये प्रेरणादायी है। उक्त उद्गार मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने शुक्रवार को अम्बेडकर नगर (महू) में बाबा साहब डॉ.अम्बेडकर की जयंती पर आयोजित महाकुंभ के अवसर पर राष्ट्रीय एकता व सामाजिक समरसता सम्मेलन में उपस्थित जनसमुदाय को सम्बोधित करते हुये व्यक्त किये। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने "ग्रामोदय से भारत उदय अभियान" की शुरूआत भी की।
   मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि महाकुंभ में देश व प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से पधारे श्रद्धालु सरकार के मेहमान हैं। सरकार आज मेजबान की भूमिका में है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बनने के बाद जब वे पहली बार महू आये थे, तो देखा कि कुंभ की तरह बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां बाबा साहब के प्रति अपनी श्रद्धा प्रकट करने व शीश झुकाने आते हैं, किंतु उनके रूकने, खाने-पीने के कोई प्रबंध नहीं हैं। तभी तय किया कि डॉ.अम्बेडकर की जयंती के अवसर पर 14 अप्रैल को हर साल महाकुंभ आयोजित होगा और सरकार महाकुंभ में आने वाले श्रद्धालुओं के लिये ठहरने व खाने-पीने की व्यवस्थायें सुनिश्चित करेगी।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बाबा साहब की जन्मस्थली पर स्मारक बनवाने का सौभाग्य उन्हें मिला। महाराष्ट्र सरकार ने भी इन्दु मिल की जमीन को बाबा साहब की भव्य प्रतिमा स्थापित करने के लिये सौंप दी है। इसके अलावा महाराष्ट्र सरकार व भारत सरकार ने लंदन में उस भवन को भी स्मारक बनाने के लिये खरीद लिया है,जिसमें रहकर बाबा साहब लंदन में पढ़ाई की। उन्होंने बताया कि बाबा साहब के जीवन से जुड़े पाँच स्थान पंच तीर्थ के रूप में बनेंगे। यह देश बाबा साहब का ऋणी है जो उनके कर्ज को उतारने का प्रयास कर रहा है।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारी सरकार सभी वर्गों की सरकार है, किंतु पहले उनकी है जो सबसे गरीब हैं, जो सबसे नीचे हैं। उन्होंने कहा कि बाबा साहब ने गरीबों के उत्थान के लिये सतत् प्रयास किये हैं। वे हमेशा शिक्षित बनने की बात कहते थे। सरकार ने अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के बच्चों में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिये नि:शुल्क गणवेश किताबें, साइकिल जैसे सुविधाओं के साथ छात्रवृत्ति, छात्रावास, विदेश में अध्ययन की व्यवस्था व शहरों में किराये से कमरा लेकर पढ़ने की सुविधा की योजना लागू की है। इसके साथ ही प्रायवेट मेडिकल/इंजीनियरिंग/ प्रबंधन संस्थानों में प्रवेश मिलने पर सरकार की ओर से फीस दिये जाने दिये की भी अनोखी योजना चल रही है। रोजगार के लिये  मुख्यमंत्री युवा उद्यमी व स्वरोजगार जैसी योजनायें विशेषकर अनुसूचित जाति-जनजाति के युवकों के लिये शुरू की हैं। इन योजनाओं में बैंक ऋण की गारंटी राज्य शासन द्वारा दी जाती है। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति-जनजाति के बच्चों को शिक्षा, रोजगार, व्यवसाय आदि के क्षेत्र में आगे बढ़ाने के लिये सरकार ने वे सब कदम उठायें हैं जो उठाये जाने चाहिये।
    सम्मेलन की अध्यक्षता प्रदेश के वन, योजना, आर्थिक व सांख्यिकी मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार ने की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के कार्यकाल में अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के लोगों को सबसे ज्यादा लाभ मिला है तथा सामाजिक समरसता के क्षेत्र में भी सर्वाधिक प्रयास हुये हैं। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति-जनजाति के बच्चों को मिलने वाली छात्रवृत्ति की दरों में खासी बढ़ोत्तरी की गयी है, वहीं प्रदेश में छात्रावासों की संख्या भी दुगुनी हो गयी है।  छात्रावासों में रहने, खाने-पीने की सुविधाओं को भी बेहतर किया गया है तथा छात्रावासों में बच्चों को अब घर जैसी सुविधायें मिल रही हैं।
   सम्मेलन में महाराष्ट्र की सांसद व भाजपा युवा मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुश्री पूनम महाजन ने भी बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर के कृतित्व व व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला और कहा कि बाबा साहब बड़े दूरदृष्टा थे। उन्होंने हमें ऐसा संविधान दिया जो हर परिस्थिति में समीचीन है। उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र सरकार ने इन्दु मिल की जमीन को बाबा साहब अम्बेडकर की प्रतिमा स्थापना हेतु दे दी है और यह प्रतिमा जल्द ही बनकर तैयार होगी। सम्मेलन में बौद्ध संत भंते श्री संघशीलजी ने भी अपने विचार रखे। अतिथियों के सम्मान में स्वागत उद्बोधन नर्मदा घाटी विकास, सामान्य प्रशासन व विमानन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री लालसिंह आर्य ने दिया। आभार जिला पंचायत की अध्यक्ष सुश्री कविता पाटीदार ने माना।
   कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने बौद्ध संत भंते श्री संघशीलजी का पुष्पगुच्छ भेंट कर अभिवादन किया। सम्मेलन में धार-महू सांसद श्रीमती सावित्री ठाकुर, जिला पंचायत इंदौर की अध्यक्ष श्रीमती कविता पाटीदार, विधायक सुश्री उषा ठाकुर, मध्यप्रदेश राज्य अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री भूपेन्द्र आर्य, मध्यप्रदेश राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के उपाध्यक्ष श्री देवराजसिंह परिहार, जनपद अध्यक्ष श्रीमती लीलाजी पाटीदार महू, प्रदेश अध्यक्ष अनुसूचित जाति मोर्चा श्री सूरजजी कैरो, पूर्व विधायक जीतू जिराती के अलावा अन्य जनप्रतिनिधिगण भी मंचासीन थे।
 
(16 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2017मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer