समाचार
|| मदरसों का ऑनलाइन नवीनीकरण 19 मई तक होगा || उपाध्यक्ष श्री मुद्दीन आज मंदसौर में || हौसलों से नरबदिया ने मात दी दिव्यांगता को (सफलता की कहानी) || आचार्य विद्यासागर गौ-संवर्धन डेयरी योजना का लाभ उठाने की अपील || कलेक्टर ने किया नगरपालिका परिषद के ठहराव क्रमांक 156 को तत्काल प्रभाव से निलंबित || पक्की सड़क बनने से ग्रामवासियों का आवागमन हुआ सुगम (सफलता की कहानी) || लिपिक उमेश त्रिपाठी का आकस्मिक निधन || ग्राम स्वराज अभियान की समीक्षा करने आयें भारत सरकार के अधिकारियों ने किया ग्रामीणों सें सीधा संवाद || जल ही जीवन है, इस प्राकृतिक सम्पदा का संरक्षण एवं संवर्धन समस्त समुदाय की जिम्मेदारी - विधायक श्री रामलाल रौतेल || अधिकारी गरीबों और जरूरतमंदों के प्रति संवेदनशील रहकर तत्परता से कार्य करें - कलेक्टर
अन्य ख़बरें
अनूपपुर जिले के बसंतपुर पहुंची नर्मदा सेवा यात्रा
-
अनुपपुर | 08-मई-2017
 
 
    नर्मदा सेवा यात्रा सोमवार को जिले की पुष्पराजगढ़ तहसील के ग्राम बसंतपुर पहुंची, जहां यात्रा की अगवानी पूर्व विधायक श्री सुदामा सिंह सिंग्राम ने की। इस दौरान सैकड़ों आदिवासी महिलाएं अपने सिर पर कलश व दीपक रखकर कलश यात्रा में शामिल हुईं। यात्रा के दौरान कुछ स्थानीय ग्रामीण  नरसिंह अवतार, भगवान शंकर तथा ऋषि मुनियों के वेश में सज-संवर कर आए थे। इसके अलावा यात्रा के स्वागत अवसर पर दुलदुल घोड़ी के नृत्य का आनंद भी बसंतपुर के ग्रामीणों ने लिया।
 
   आज अनूपपुर जिले के ग्राम बेनीबारी, डुबसरा व कंचनपुर में भी नर्मदा सेवा यात्रा के पहुंचने पर यात्रा का पारम्परिक तरीके से ग्रामीणजनों ने स्वागत किया। इस दौरान ग्रामीणजनों ने अपनी परम्परागत पोशाकों में आकर्षक आदिवासी लोक नृत्य प्रस्तुत किया।
    ग्राम बसंतपुर में पूर्व विधायक श्री सुदामा सिंह ने ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए, कि मुख्यमंत्री श्री षिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में नर्मदा सेवा यात्रा गत 11 दिसम्बर से नर्मदा नदी के उद्गम अमरकंटक से प्रारंभ होकर प्रदेश में नर्मदा नदी के उत्तरी एवं दक्षिणी तट पर स्थित विभिन्न जिलों  का दौरा करते हुए अब वापस अनूपपुर जिले में आ चुकी है, जो 15 मई को अमरकंटक में ही संपन्न होगी। उन्होंने कहा कि नर्मदा का शुद्धिकरण हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है। मां नर्मदा के जल से प्रदेश में विद्युत उत्पादन भरपूर हो रहा है। साथ ही प्रदेश के आधे से अधिक क्षेत्र में खेतों की सिंचाई तथा पेयजल के लिए भी नर्मदा नदी का जल भरपूर मात्रा में प्राप्त हो रहा है। इसीलिए नर्मदा को मध्यप्रदेश की जीवन रेखा कहा जाता है। उन्होंने कहा कि नर्मदा हमारे लिए केवल नदी नहीं, बल्कि हम सबके लिए जीवनदायिनी है। हमें भी नर्मदा तट पर गंदगी न करने, नर्मदा नदी में पालीथिन व अन्य सामग्री न डालने तथा नर्मदा तट के आसपास पौधरोपण करने का संकल्प लेना चाहिए। उन्होने कहा कि आगामी 2 जुलाई को एक साथ करोड़ों पौधे नर्मदा तट पर रोपे जाएंगे। इस कार्यक्रम में सभी को बढ़-चढ़ कर भाग लेना है। उन्होंने उपस्थित ग्रामीणों को नषा न करने, जल संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण, नषा मुक्ति व बेटी बचाओ के संबंध में संकल्प दिलाया।
 
(347 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2018मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer