समाचार
|| तरूण मिश्र परिषद ने दिव्यांगों को श्रवण यंत्र बांटे गए || जनसंपर्क मंत्री ने ली रोजा अफतार संबंधी बैठक || तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास राज्य मंत्री आज आयेंगे || इन्दिरा गॉधी साम्प्रदायिक सौहार्द्र के पुरूस्कार के प्रस्ताव 30 मई तक भेजे || महिला नेत्र परीक्षण शिविरों में 32 हजार 813 महिलाएं लाभान्वित || जनसंपर्क मंत्री ने विकास रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया || बडोनकलां अनुसूचित जाति बस्ती में नागरिकों से रूबरू हुए मंत्री डॉ. मिश्र || बच्चे खूब पढ़े साधन सुविधा हम देंगे - मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र || वनांचल की गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य के प्रति सजग है सरकार - वनमंत्री डॉ. गौरीशंकर शैजवार || मतदाता सूची के विशेष अभियान का प्रशिक्षण 2 जून को
अन्य ख़बरें
अनूपपुर जिले के बसंतपुर पहुंची नर्मदा सेवा यात्रा
-
अनुपपुर | 08-मई-2017
 
 
    नर्मदा सेवा यात्रा सोमवार को जिले की पुष्पराजगढ़ तहसील के ग्राम बसंतपुर पहुंची, जहां यात्रा की अगवानी पूर्व विधायक श्री सुदामा सिंह सिंग्राम ने की। इस दौरान सैकड़ों आदिवासी महिलाएं अपने सिर पर कलश व दीपक रखकर कलश यात्रा में शामिल हुईं। यात्रा के दौरान कुछ स्थानीय ग्रामीण  नरसिंह अवतार, भगवान शंकर तथा ऋषि मुनियों के वेश में सज-संवर कर आए थे। इसके अलावा यात्रा के स्वागत अवसर पर दुलदुल घोड़ी के नृत्य का आनंद भी बसंतपुर के ग्रामीणों ने लिया।
 
   आज अनूपपुर जिले के ग्राम बेनीबारी, डुबसरा व कंचनपुर में भी नर्मदा सेवा यात्रा के पहुंचने पर यात्रा का पारम्परिक तरीके से ग्रामीणजनों ने स्वागत किया। इस दौरान ग्रामीणजनों ने अपनी परम्परागत पोशाकों में आकर्षक आदिवासी लोक नृत्य प्रस्तुत किया।
    ग्राम बसंतपुर में पूर्व विधायक श्री सुदामा सिंह ने ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए, कि मुख्यमंत्री श्री षिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में नर्मदा सेवा यात्रा गत 11 दिसम्बर से नर्मदा नदी के उद्गम अमरकंटक से प्रारंभ होकर प्रदेश में नर्मदा नदी के उत्तरी एवं दक्षिणी तट पर स्थित विभिन्न जिलों  का दौरा करते हुए अब वापस अनूपपुर जिले में आ चुकी है, जो 15 मई को अमरकंटक में ही संपन्न होगी। उन्होंने कहा कि नर्मदा का शुद्धिकरण हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है। मां नर्मदा के जल से प्रदेश में विद्युत उत्पादन भरपूर हो रहा है। साथ ही प्रदेश के आधे से अधिक क्षेत्र में खेतों की सिंचाई तथा पेयजल के लिए भी नर्मदा नदी का जल भरपूर मात्रा में प्राप्त हो रहा है। इसीलिए नर्मदा को मध्यप्रदेश की जीवन रेखा कहा जाता है। उन्होंने कहा कि नर्मदा हमारे लिए केवल नदी नहीं, बल्कि हम सबके लिए जीवनदायिनी है। हमें भी नर्मदा तट पर गंदगी न करने, नर्मदा नदी में पालीथिन व अन्य सामग्री न डालने तथा नर्मदा तट के आसपास पौधरोपण करने का संकल्प लेना चाहिए। उन्होने कहा कि आगामी 2 जुलाई को एक साथ करोड़ों पौधे नर्मदा तट पर रोपे जाएंगे। इस कार्यक्रम में सभी को बढ़-चढ़ कर भाग लेना है। उन्होंने उपस्थित ग्रामीणों को नषा न करने, जल संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण, नषा मुक्ति व बेटी बचाओ के संबंध में संकल्प दिलाया।
 
(20 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2017जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
24252627282930
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer