समाचार
|| ग्राम गोराघाट में मोबाइल लोक अदालत आज || सेवढ़ा में शौर्यादल सदस्यों का प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित || तीन दिवसीय उद्यमिता जागरूकता शिविर सम्पन्न || रतनगढ़ मेला निर्माण कार्य उपयंत्रियों को दी जिम्मेदारी || रतनगढ़ मंदिर नदी क्षेत्र में न जाने की चेतावनी || मता-पिता और वरिष्ठ नागरिक भरण-पोषण तथा कल्याण अधिनियम 2007 तथा म.प्र. नियम 2009 का क्रियान्वयन के संबंध में जिला समिति की बैठक सम्पन्न || निर्वाचन कंट्रोल रूम के कर्मचारी बदले || शा.कन्या महाविद्यालय में मना युवा उत्सव || फोटो निर्वाचक नामावलियों का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2018 का कार्यक्रम जारी || वीवीपीएटी के प्रचार-प्रसार हेतु दल गठित, मशीन का प्रदर्शन 26 तक
अन्य ख़बरें
अनूपपुर जिले के बसंतपुर पहुंची नर्मदा सेवा यात्रा
-
अनुपपुर | 08-मई-2017
 
 
    नर्मदा सेवा यात्रा सोमवार को जिले की पुष्पराजगढ़ तहसील के ग्राम बसंतपुर पहुंची, जहां यात्रा की अगवानी पूर्व विधायक श्री सुदामा सिंह सिंग्राम ने की। इस दौरान सैकड़ों आदिवासी महिलाएं अपने सिर पर कलश व दीपक रखकर कलश यात्रा में शामिल हुईं। यात्रा के दौरान कुछ स्थानीय ग्रामीण  नरसिंह अवतार, भगवान शंकर तथा ऋषि मुनियों के वेश में सज-संवर कर आए थे। इसके अलावा यात्रा के स्वागत अवसर पर दुलदुल घोड़ी के नृत्य का आनंद भी बसंतपुर के ग्रामीणों ने लिया।
 
   आज अनूपपुर जिले के ग्राम बेनीबारी, डुबसरा व कंचनपुर में भी नर्मदा सेवा यात्रा के पहुंचने पर यात्रा का पारम्परिक तरीके से ग्रामीणजनों ने स्वागत किया। इस दौरान ग्रामीणजनों ने अपनी परम्परागत पोशाकों में आकर्षक आदिवासी लोक नृत्य प्रस्तुत किया।
    ग्राम बसंतपुर में पूर्व विधायक श्री सुदामा सिंह ने ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए, कि मुख्यमंत्री श्री षिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में नर्मदा सेवा यात्रा गत 11 दिसम्बर से नर्मदा नदी के उद्गम अमरकंटक से प्रारंभ होकर प्रदेश में नर्मदा नदी के उत्तरी एवं दक्षिणी तट पर स्थित विभिन्न जिलों  का दौरा करते हुए अब वापस अनूपपुर जिले में आ चुकी है, जो 15 मई को अमरकंटक में ही संपन्न होगी। उन्होंने कहा कि नर्मदा का शुद्धिकरण हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है। मां नर्मदा के जल से प्रदेश में विद्युत उत्पादन भरपूर हो रहा है। साथ ही प्रदेश के आधे से अधिक क्षेत्र में खेतों की सिंचाई तथा पेयजल के लिए भी नर्मदा नदी का जल भरपूर मात्रा में प्राप्त हो रहा है। इसीलिए नर्मदा को मध्यप्रदेश की जीवन रेखा कहा जाता है। उन्होंने कहा कि नर्मदा हमारे लिए केवल नदी नहीं, बल्कि हम सबके लिए जीवनदायिनी है। हमें भी नर्मदा तट पर गंदगी न करने, नर्मदा नदी में पालीथिन व अन्य सामग्री न डालने तथा नर्मदा तट के आसपास पौधरोपण करने का संकल्प लेना चाहिए। उन्होने कहा कि आगामी 2 जुलाई को एक साथ करोड़ों पौधे नर्मदा तट पर रोपे जाएंगे। इस कार्यक्रम में सभी को बढ़-चढ़ कर भाग लेना है। उन्होंने उपस्थित ग्रामीणों को नषा न करने, जल संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण, नषा मुक्ति व बेटी बचाओ के संबंध में संकल्प दिलाया।
 
(138 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2017अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer