समाचार
|| जिले में उपलब्ध समस्त ऑक्सीजन सिलेण्डर चिकित्सीय कार्य में उपयोग के लिये अधिग्रहित || रविवार को 220 लाभार्थियों को लगाया गया कोविड-19 वैक्सीन || 19 अप्रैल को जिले के 86 केन्द्रों पर लगेगा कोविड-19 का टीका || दयोदय तीर्थ क्षेत्र पहुंचकर कोविड केयर सेन्टर की व्यवस्थाओं का कलेक्टर ने लिया जायजा || "मैं कोरोना वोलेंटियर" अभियान के अन्तर्गत नवांकुर संस्था जामई द्वारा प्रेरित करने पर पात्र व्यक्तियों ने लगवाई वैक्सीन "कहानी सच्ची है" || अभी तक जिले में 180728 व्यक्तियों ने लगवाया टीका || कोविड-19 मीडिया बुलेटिन - जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण से 95 नये व्यक्ति हुये स्वस्थ || ट्रेन से आने वाले 10 यात्रियों को किया गया कोरेंटाईन || जिले में कोविड-19 से बचाव एवं नियंत्रण हेतु किया गया सैंपलिंग का कार्य लगातार जारी || जिला कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर द्वारा विगत 24 घण्टे में 110 प्रकरणों का निराकरण
अन्य ख़बरें
कृषि विभाग के किसानों को दी नरवाई न जलाने की सलाह
-
सिवनी | 05-मार्च-2021
    भारत एक कृषि प्रधान देश है। वर्तमान समय में भारतीय कृषि की प्रमुख समस्या बढ़ती हुई जनसंख्या की उदर पूर्ति के साथ साथ पर्यावरण सुरक्षा भी एक प्रमुख बिन्दु है। भारत वर्ष में लगभग 40 प्रतिशत क्षेत्रफल में गेहूँ एवं धान को मुख्य फसल के रूप में उगाया जाता है। वर्तमान परिस्थितियों में जबकि कृषि में श्रमिकों की कमी एक प्रमुख समस्या है। कृषकों द्वारा कटाई के लिए मशीनों कम्बाईन हार्वेस्टर एवं रीपर आदि का प्रयोग बहुतायत में किया जाने लगा है। परिणामस्वरूप कटाई के उपरांत खेतो में दाने के अतिरिक्त काफी मात्रा में फसल अवशेष रह जाते है। किसान भाई गेहूँ की फसल काटने के पश्चात जो तने के अवशेष बचे रहते है। उन्हे नरवाई कहते है। यह देखा गया है कि किसान फसल काटने के पश्चात इस नरवाई में आग लगाकर उसे नष्ट करते है। पर्यावरण विभाग द्वारा नरवाई में आग लगाने की घटनाओं को प्रतिबंधित करके दंड अधिरोपित करने का प्रावधान किया है।
    फसल अवशेषों को जलाने से होने वाली पर्यावरणीय एवं मृदा जनित समस्याएं- मृदा का भौतिक गुणों पर प्रभाव, मृदा पर्यावरण पर प्रभाव, मृदा में उपस्थित पोषक तत्वों की उपलब्धता में कमी, मृदा में उपलब्ध कार्बनिक पदार्थ में कमी, वायु प्रदूषण, जानवरों हेतु चारे की कमी, भूमि में उपलब्ध जैव विविधता समाप्त हो जाती है, भूमि में उपस्थित सूक्ष्म जीव जलकर नष्ट हो जाते है। सूक्ष्मजीवों के नष्ट होने के फलस्वरूप जैविक खाद का निर्माण बंद हो जाता है, भूमि की ऊपरी पर्त में ही पौधों के लिए आवश्यक पोषक तत्व उपलब्ध रहते है। आग लगने के कारण यह पोषक तत्व जलकर नष्ट हो जाते है, भूमि कठोर हो जाती है जिसके कारण भूमि की जलधारण क्षमता कम हो जाती है, और फसलें जल्दी सूखती है, खेत की सीमा पर लगे पेड़ पौधे फल वृक्ष आदि जलकर नष्ट हो जाते है, पर्यावरण प्रदूषित होता है तथा नरवाई जलाने से वातावरण में तापमान में वृद्धि होती है, जिससे धरती गर्म हो जाती है, कार्बन नाईट्रोजन तथा फास्फोरस का अनुपात कम हो जाता है, केंचुए नष्ट हो जाते है इस कारण भूमि की उर्वराशक्ति कम हो जाती है, नरवाई जलाने से जन धन की भी हानि हो जाती है,
    अतः उपरोक्त नुकसान से बचने के लिए किसान भाई नरवाई में आग न लगाये। नरवाई नष्ट करने हेतु रोटावेयर चलाकर नरवाई को बारीक कर मिट्टी में मिलाये जिससे जैविक खाद तैयार होता है। कंबाईन हार्वेस्टर के साथ स्ट्रॉ मैनेजमेंट सिस्टम अथवा स्ट्रा रीपर का प्रयोग अनिवार्य रूप से करें। यह सलाह उप संचालक कृषि श्री हरिश मालवीय ने दी।           
 
(45 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2021मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293012
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer