समाचार
|| निर्माण कार्य रुका तो रुक जायेंगी वेतन वृद्धियाँ || शासकीय विश्वविद्यालयों के कार्मिकों को भी मिलेगा वार्षिक वेतन वृद्धि का लाभ || ऑनलाइन माध्यम से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का प्रसार हमारा लक्ष्य है रू उच्च शिक्षा मंत्री || बेराढ़ में बाढ़ की स्थिति से मुख्यमंत्री को कराया अवगत राज्य मंत्री श्री धाकड़ ने बाढ़ पीडि़तों को निकालने के लिये लगाये गये तीन हेलीकॉप्टर || अब घर बैठे बनाएं जा सकेंगे ऑनलाइन लर्निंग लाइसेंस - परिवहन मंत्री श्री राजपूत || डॉ. मिश्रा ने अस्पताल जा कर श्री वर्मा की कुशल-क्षेम जानी || अवैध शराब कारोबार में लगे व्यक्तियों के लिए कठोरतम दंड का प्रावधान किया जाएगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की बाढ़ की स्थिति की समीक्षा || ग्रामीण स्तर पर उद्यमिता और कौशल विकास को प्रोत्साहित करें बैंक - मुख्यमंत्री श्री चौहान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मध्यप्रदेश के ओलंपिक हॉकी खिलाड़ी विवेक सागर को फोन पर दी बधाई "मुझे आप पर गर्व है, विवेक"
अन्य ख़बरें
जब मुख्यमंत्री ने कहा...हां अरजरिया जी बताइये (कहानी सच्ची है)
-
जबलपुर | 15-जून-2021
  हां.... अरजरिया जी बताईये.....मुख्यमंत्री ने यह बात आज मंगलवार को वीडियो कांफ्रेसिंग के द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ग्रीष्मकालीन मूंग व उड़द उपार्जन का वर्चुअल शुभारंभ करने के बाद कलेक्ट्रेट के एनआईसी कक्ष में मौजूद निरंदपुर पनागर के किसान ब्रजेश दत्त अरजरिया से चर्चा के दौरान कही। इस दौरान कलेक्टर कर्मवीर शर्मा और उपसंचालक कृषि एसके निगम भी उपस्थित थे। दरअसल मुख्यमंत्री समर्थन मूल्य पर मूंग व उड़द उपार्जन के बारे में कृषक ब्रजेश की राय जानना चाहते थे।

मालामाल हो रहे किसान
मुख्यमंत्री को कृषक ब्रजेश दत्त अरजरिया ने बताया कि राज्य शासन की दलहन विकास की योजनाओं से किसान मालामाल हो रहे हैं। साथ ही सोने में सुहागा यह कि अब मूंग व उड़द की समर्थन मूल्य पर खरीदी शुरू हो गई है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह हुआ कि मंडी बाजार में जो मूंग 5 हजार रुपये क्विंटल बिक रही थी, अब उसका बाजार भाव 6500 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंच गया है। इसी प्रकार 6300 रुपये प्रति क्विंटल बिकने वाला उड़द अब 6700 रुपये क्विंटल के प्रति बाजार भाव पर बिकने लगा है। ब्रजेश ने मुख्यमंत्री को बताया कि शासन ने जो उन्नत बीज किसानों को उपलब्ध कराया था उससे उत्पादन काफी बढ़ा है। धान, चना और मटर की फसलों से भी किसानों की आय बढ़ी है।

आईटी सेक्टर के युवा अपना रहे खेती
मुख्यमंत्री को जबलपुर के किसान श्री अरजरिया ने बताया कि सरकार की किसान हितैषी नीतियों की वजह से वे कई युवा जो आईटी सेक्टर में नौकरी के लिए मुंबई, बेंगलुरू, पूना और हैदराबाद चले गये थे। वे अब वापिस अपने गांव आकर धान, चना, उड़द और मूंग की लाभकारी खेती को अपना रहे हैं।

मनोज कुमार श्रीवास्तव
 
(49 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2021सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer