समाचार
|| देश की आजादी में शहीदों के योगदान को हम कभी भुला नहीं पायेंगे – गृह मंत्री डॉ. मिश्र || आज कोई केस सामने नहीं आया || पीएलवी की बैठक सम्पन्न || जिले में अभी तक 305.3 मि.मी. वर्षा दर्ज || आज 26 को जिले में होगा कोविड 19 वैक्सीनेशन || प्रदेश की प्रथम अत्याधुनिक वैक्सीनेशन बैन को सांसद एवं प्रदेश अध्यक्ष वी डी शर्मा द्वारा हरी झंडी दिखाकर आमजन को समर्पित किया || दमोह के विभिन्न केंद्रों पर आयोजित हुई राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा की प्रारंभिक परीक्षा || कोरोना गाईड लाइन और सभी सावधानियों के साथ सोमवार से शुरू हो सकेंगी 11वीं 12वीं की कक्षायें || मुख्यमंत्री श्री चौहान 26 जुलाई को ‘आयुष क्षेत्र में संभावनाएँ’ विषय पर बैठक लेंगे || कोरोना संक्रमण में कमी का मतलब यह नहीं की लापरवाह हो जाएं: मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
अतिवृष्टि और बाढ़ से निबटने हेतु अलर्ट मोड पर रहें अधिकारी - कलेक्‍टर
आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में कलेक्‍टर एवं पुलिस अधीक्षक ने दिए आवश्‍यक निर्देश
गुना | 16-जून-2021
        अतिवृष्टि एवं बाढ़ की संभावना को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में कलेक्टर श्री फ्रेंक नोबल ए. की अध्यक्षता में जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री राजीव कुमार मिश्रा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री निलेश परीख, अपर कलेक्टर श्री विवेक रघुवंशी, संयुक्त कलेक्टर श्री संजीव केशव पाण्डे, डिस्‍ट्रीक्‍ट कमांडेंट होमगार्ड, डिप्‍टी कलेक्‍टर श्रीमति सोनम जैन, अनुविभागीय अधिकारी सुश्री अंकिता जैन, अतिरिक्‍त पुलिस अधीक्षक श्री टी.एस. बघेल, मुख्‍य चिकित्‍सा एवं स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी डॉ. पी.बुनकर सहित पुलिस एवं होमगार्ड विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे तथा सभी एसडीएम, बीएमओ, सभी सीएमओ, समस्‍त तहसीलदार वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्‍यम से संबंद्ध रहे।
        बैठक में सर्वप्रथम संयुक्‍त कलेक्‍टर श्री संजीव केशव पाण्‍डे ने सर्वाधिक संवेदनशील ग्रामों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि तहसील बमोरी अंतर्गत ग्राम सोढ़ा पार्वती नदी से चारों ओर से घिरा हुआ एवं टापू पर बसा हुआ है। तहसील चांचौड़ा अंतर्गत अतिसंवेदनशील ग्रामों में रायपुरा, सांकाखुर्द, कोलुआ ग्राम पार्वती नदी से प्रभावित हो सकते हैं। अन्‍य ग्रामों में वापचाविक्रम, बीलखेडा, घाटाखेडी, नवलपुरा, खेजड़ाकलांरानी, अमरपुरा, ककरूआ, आशाखेडी, खेजड़ाकलांबाबा तथा मालोनी है। तहसील कुंभराज अंतर्गत सर्वाधिक संवेदनशील ग्रामों के बारे में जानकारी देते हुए बताया गया कि ग्राम भमावद तथा बड़ागांव सर्वाधिक संवेदनशील है। अन्‍य ग्राम खटकिया, निजामपुर, उपरी, कैकड़याकलां, कैकड़याखुर्द, कांदई, देहरी, खिरिया, विनायकखेडी, सांकाकलां तथा गुलवाडा है। तहसील मधुसूदनगढ अंतर्गत टेम नदी से प्रभावित होने वाले ग्रामों में कोलुआ, कीताखेडी, कहारपुरा तथा करोंदी एवं पार्वती नदी से प्रभावित होने वाले ग्रामों में रघुनाथपुरा, तेजाखेडी तथा खैराड़ के बारे में जानकारी दी गयी।
        कलेक्‍टर ने अतिवृष्टि एवं बाढ़ की संभावना को दृष्टिगत रखते हुए नगर पालिका को नाले की साफ-सफाई के निर्देश दिए। उन्‍होंने राजस्‍व विभाग एवं जनपद पंचायत को निर्देशित किया कि ग्रामों में सुरक्षित भवनों तथा स्‍थलों का चयन किया जाये। ताकि अस्‍थाई कैंप लगाया जा सके। कलेक्‍टर ने वर्षा को ध्‍यान में रखते हुए खाद्य आपूर्ति विभाग को राशन की दुकानों में खाद्यान्‍न की उपधब्‍ता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। कलेक्‍टर ने स्‍वास्‍थ्‍य विभाग एवं महिला एवं बाल विकास विभाग को निर्देशित करते हुए कहा कि गर्भवती महिलाओं के पोषण आहार, त्‍वरित उपचार तथा गंभीर रोगग्रस्‍त मरीजों की पहचान सुनिश्चित करते हुए उनका चिन्‍हांकन किया जाये।
        पुलिस अधीक्षक श्री राजीव कुमार मिश्रा ने पुलिस अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि वास्‍तविक स्थिति के हिसाब से सतर्क रहें। चौकीदार से निरंतर संपर्क बनाये रखें। किसी भी स्थिति से निबटने के लिए तत्‍काल एक्‍शन लें। आपके क्षेत्र अंतर्गत जो मशीनरी जेसीबी, ट्रेक्‍टर-ट्राली, पोकलेन आदि है उनकी तथा उनके चालकों की सूची एवं मालिकों के मोबाइल नंबर पहले से ही लेकर रख लें। स्‍थानीय स्‍तर पर मछुआरे, केवट, समाजसेवी संस्‍थाओं आदि से संपर्क कर उनका सहयोग लें।
 बैठक में दिये गये प्रमुख निर्देश
  • नदियों के बीच में टापुओं पर बने मंदिरों के पुजारियों को बुलाकर समझाइश दें। नदी में पानी के बढ़ने के पहले ही उन्‍हें बाहर निकलने के लिए राजी करें।
  • नगर पालिका क्षेत्रों में नाले, नालियों की सफाई वर्षा पूर्व सुनिश्चित करें। जलभराव के क्षेत्रों पर निगरानी रखें।
  • जल संसाधन विभाग गोपी सागर बांध तथा सिंध नदी के बांध पर पानी बढ़ने तथा पानी छोड़ने के पूर्व सूचना प्रशासनिक अधिकारियों को दें। जिससे एहतियाती उपाय किये जा सकें।
  • बाढ़ संभावित गांवों के बीमार व्‍यक्तियों व गर्भवती महिलाओं की सूची रखें।
  • आपदा के समय लगने वाली सभी सामग्री कितनी है, कहां किसके पास है, इसकी सूची व संबंधित व्‍यक्ति का मोबाइल नंबर की जानकारी कमांडेंट होमगार्ड एकजाई कर रखें।
  • लोक निर्माण विभाग जर्जर भवनों की सूची तैयारी कर एसडीएम को दें। जिससे उनके डिस्‍मेंटल की कार्यवाही की जा सके।
  • अतिवृष्टि के समय रपटों व पुल-पुलियों के  ऊपर चलने वाले पानी से दुर्घटना बचाव हेतु दोनों ओर चेतावनी बोर्ड लगाएं।
  • नदी में बाढ़ के पानी की स्थिति में ओव्‍हर फ्लो की स्थिति में पुल-पुलियों तथा रपटों से बसें न निकलें, आरटीओ इस संबंध में कार्यवाही कर बस मालिकों को पाबंद करें।
  • आरईएस विभाग के कार्यपालन यंत्री नवीन तालाबों के रख-रखाव के संबंध में निर्देश जारी करें।


 
(40 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2021अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer