समाचार
|| जिले में अभी तक 506.00 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज || रोजगार मेला 6 को || कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना के प्रकरण 2 को प्रस्तुत करें जिला पंचायत में || कलेक्टर ने जिले के 9 लोगों को दिये कोविड अनुकम्पा नियुक्ति पत्र "मुख्यमंत्री कोविड- 19 अनुकम्पा नियुक्ति योजना" || शाहगंज शत प्रतिशत कोविड टीकाकरण वाला जिले का पहला नगर "खुशियों की दास्तां" || मुख्यमंत्री श्री चौहान आज करेंगे "विद्यार्थी संवाद" || एसडीएम मुरैना का सर्विस के दौरान कार्य काबिले तारीफ - कलेक्टर || प्रदेश में कोरोना टीकाकरण का कार्य तेज गति से किया जाए तीसरी लहर की तैयारियों में न हो थोड़ी भी लापरवाही || 31 जुलाई को जिले के 94 टीकाकरण केंद्रों पर लगेगी कोविड- 19 की वैक्सीन "वैक्सीनेशन महाअभियान" || अपराधियों को सजा दिलाने सभी कारगर उपाय करें : डॉ. मिश्रा
अन्य ख़बरें
समय सीमा में तेजी से पूर्ण किये जायें निर्माण कार्य- प्रभारी मंत्री डॉ. शाह
जिला योजना समिति की बैठक सम्पन्न
नरसिंहपुर | 09-जुलाई-2021
 
     मध्यप्रदेश शासन के वन मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह की अध्यक्षता में जिला योजना समिति की बैठक शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक में प्रभारी मंत्री द्वारा जिले में कोविड- 19 की स्थिति एवं वैक्सीनेशन, मूंग खरीदी, खरीफ फसल की तैयारी और निर्माण कार्यों की समीक्षा की गई और पिछली बैठक के पालन प्रतिवेदन पर चर्चा हुई।
   बैठक में राज्यसभा सांसद श्री कैलाश सोनी, विधायक श्री जालम सिंह पटैल, श्री संजय शर्मा एवं श्रीमती सुनीता पटैल, श्री अभिलाष मिश्रा, कलेक्टर श्री वेद प्रकाश, पुलिस अधीक्षक श्री विपुल श्रीवास्तव, डीएफओ श्री महेन्द्र सिंह उईके, अपर कलेक्टर श्री मनोज ठाकुर, सीईओ जिला पंचायत श्री केके भार्गव, समिति के सदस्य और अन्य अधिकारी मौजूद थे।
   प्रभारी मंत्री डॉ. शाह ने निर्देश दिये कि जिले में अवैध रेत खनन एवं परिवहन करने वालों पर कठोर कार्रवाई की जावे। उन्होंने जिले में कोविड टीकाकरण की जानकारी ली और निर्देश दिये कि जिले में शतप्रतिशत कोविड टीकाकरण का लक्ष्य टीम बनाकर सुनिश्चित करें। गांव की आबादी के अनुसार वैक्सीन के डोज की उपलब्धता रखने के भी निर्देश स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को बैठक में दिये।
   बैठक में जिले में मूंग खरीदी की समीक्षा की गई। जिले में पहली बार समर्थन मूल्य पर मूंग एवं उड़द की खरीदी शुरू होने पर मुख्यमंत्री के प्रति धन्यवाद प्रस्ताव बैठक में पारित किया गया। बैठक में बताया गया कि मूंग खरीदी के लिए प्रतिदिन 625 मैसेज किये जा रहे हैं। प्रभारी मंत्री ने कहा कि जिन किसानों के पंजीयन किये गये हैं, उनसे खरीदी हो और मूंग खरीदी की प्रगति की रिपोर्ट प्रति सप्ताह प्रस्तुत की जावे। नैनो यूरिया का उपयोग प्रयोग के तौर पर प्रारंभ किया जाये। जिले के हर ब्लाक में इसके उपयोग का प्रदर्शन कर किसानों को प्रेरित किया जावे।
   उप संचालक कृषि श्री राजेश त्रिपाठी द्वारा बताया गया कि एक जिला- एक उत्पाद योजना के तहत जिले की जैविक दाल (गाडरवारा) एवं (करेली) का गुड़ भोपाल एवं इंदौर हाट बाजार में विक्रय किया गया। मंत्री डॉ. शाह ने कहा कि जिले के 6 ब्लाक में 6 स्वसहायता समूहों द्वारा परम्परागत ढंग से दाल निर्माण करवाया जाये, जिससे जिले की दाल को प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर पर नई पहचान मिले। इसके अतिरिक्त सेनेटरी नेपकिन निर्माण के लिए भी स्वसहायता समूहों को तैयार किया जाये। इसके लिए स्वसहायता समूहों को हर संभव सहायता भी प्रदान की जायेगी।
   निर्माण कार्यों की समीक्षा करते हुए प्रभारी मंत्री ने कहा कि अधूरे निर्माण कार्यों को समय सीमा में शीघ्रता से पूर्ण किया जाये, इनमें अनावश्यक देरी नहीं होनी चाहिये। निर्माण कार्य में अगर कुछ अवरोध हो, तो इससे भी अवगत कराया जाये। प्रगतिरत निर्माण कार्यों की स्थिति 7 दिवस के भीतर प्रस्तुत करने के निर्देश भी उन्होंने बैठक में संबंधित अधिकारियों को दिये। उन्होंने कहा कि जनहित के लिए किये जा रहे सार्वजनिक निर्माण कार्यों के लिए यदि कोई व्यक्ति दान में जमीन देता है, तो उनके परिजन के नाम से संबंधित निर्माण कार्य का नामकरण किया जा सकता है। जिले की 100 बिस्तरीय हॉस्पिटल परिसर में बगीचा विकसित किया जावे एवं पार्किंग स्थल के लिए स्थान चिन्हांकित कर समुचित व्यवस्था की जावे। इस बारे में संबंधित अधिकारी आवश्यक कार्रवाई कर अवगत करायें। ग्राम पंचायत स्तर पर निर्माणाधीन कार्य रेत के अभाव में बाधित न हो, इसकी भी व्यवस्था की जाये।
   प्रभारी मंत्री ने सामाजिक न्याय विभाग प्रभारी उप संचालक श्रीमती अंजना त्रिपाठी को निर्देश देते हुए कहा कि जिला मुख्यालय पर एक सर्वसुविधायुक्त वृद्धाश्रम निर्मित किये जाने का प्रस्ताव भेजें, जिसमें 100- 100 सीटर महिला एवं पुरूष विंग पृथक से हो।
   प्रभारी मंत्री ने कहा कि पर्यावरण के संरक्षण के लिए प्लास्टिक के उपयोग को हतोत्साहित किया जावे। प्रारंभ में 5 गांवों को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए जागरूकता अभियान चलाकर प्रेरित किया जाये। प्लास्टिक के स्थान पर धातु के बर्तनों के उपयोग को प्रोत्साहित किया जावे। इसके लिए उन्होंने जिले में प्रयोग के तौर पर स्वसहायता समूहों को बैटरी चलित ऑटोरिक्शा प्रदान करने की बात भी कही, जिसमें वैवाहिक समारोह या अन्य कार्यक्रमों के लिए आवश्यक बर्तन उपलब्ध कराये जा सकें। इससे स्वसहायता समूहों को आमदनी होगी और पर्यावरण के संरक्षण की दिशा में सकारात्मक पहल हो सकेगी। इसके अलावा ग्राम पंचायतों में भी दिवस निर्धारित कर टीएल बैठक आयोजित की जाये। इसमें ग्राम स्तरीय अमला मौजूद रहे।
(22 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2021अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer