समाचार
|| परिवहन विभाग का तीन दिवसीय ’सुराज दिवस’ आज से’- ’आमजन की समस्याओं के निराकरण की दिशा में एक और बड़ा कदम’ || नोडल अधिकारी वैक्सीनेशन महाअभियान को सफल बनावे -कलेक्टर श्री शिवम वर्मा || जिला जेल श्योपुर में वैक्सीनेशन शिविर आयोजित || कलेक्टर-एसपी ने आवदा, फतेहपुर, अजापुरा ग्रामों का किया भ्रमण || 27 सितम्बर को जिले के 142 टीकाकरण केंद्रों पर लगेगी कोविड- 19 की वैक्सीन “वैक्सीनेशन महाअभियान 4” || म.प्र. के नक्सल प्रभावित जिलों में 12 लाख श्रमिकों को रोजगार- मुख्यमंत्री श्री चौहान || संचालक सिएट श्री आहरवाल द्वारा छिन्दवाड़ा में कृषि आदान विक्रेताओं के 3 देसी डिप्लोमा कोर्स की कक्षाओं का निरीक्षण || वैक्सीनेशन महाअभियान में हर नागरिक निभाये सहभागिता - कलेक्टर ने की अपील || आकस्मिक निरीक्षण कर संयुक्त जांच दल द्वारा जिले की विभिन्न तहसीलों में अलग-अलग खनिजों के किये गये 19 वाहन जप्त || स्वामी विवेकानंद कैरियर मार्गदर्शन योजना के अंतर्गत संपन्न प्लेसमेंट रोजगार
अन्य ख़बरें
कृषि विज्ञान केन्द्र पन्ना द्वारा कृषकों को समसामयिकी सलाह
-
पन्ना | 21-जुलाई-2021
    कृषि विज्ञान केन्द्र पन्ना के वैज्ञानिकों द्वारा कृषक भाईयों को खेती से संबंधित सलाह दी जा रही है। वर्तमान मौसम को देखते हुये कृषक बन्धु उड़द, मूंग, तिल एवं रामतिल की उन्नतशील प्रजातियों का चयन कर बुवाई करें। उड़द की उन्नतशील प्रजाति आई.पी.यू. 94-1, आई.पी.यू. 2-43, इंदिरा उड़द प्रथम है, मूंग की उन्नतशील प्रजाति विराट, शिखा, एम.एच. 421 इत्यादि है, तिल की उन्नतशील प्रजाति, टी.के.जी. 306, टी.के.जी. 308 एवं टी.के.जी. 322 इत्यादि है तथा रामतिल की उन्नतशील प्रजाति, जे.एन.एस. 28, जे.एन.एस. 521 तथा जे.एन.एस. 2015-9 है। उड़द, मूंग की बुवाई पूर्व कोर्बोक्सिन + थाईरम 2 ग्राम प्रति कि.ग्रा. बीज तथा थायोमेथाक्जाम (30 एफएस) 3 मिली/कि.ग्रा. बीज तत्पश्चात् राईजोबियम एवं पी.एस.बी. कल्चर से 10 ग्राम/कि.ग्रा. बीज की दर उपचारित कर बुवाई करें। खरपतवार नियंत्रण हेतु पेंडीमिथेलीन एक्स्ट्रा (37.8 एस.सी) 700 मि.ली./एकड़ की दर से बुवाई के 48 घंटे के अंदर 200 ली. पानी मे घोल बनाकर छिड़काव करें। जिन कृषक बंधु के पास सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो खरीफ प्याज की उन्नतशील प्रजाति (भीमा सुपर, एन-53) की खेती हेतु नर्सरी तैयार करने के लिए ऊंची उठी हुई क्यारियों पर पूर्ण पकी हुई गोबर की खाद बिछाकर ट्राईकोडर्मा एवं स्यूडोमोनास 10 मिली/कि.ग्रा.बीज की दर से उपचारित कर बीज की बुवाई करें।
   आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों में कोदो कुटकी, रागी आदि लघुधान्य फसलों की बोनी इस माह कर सकते हैं बोनी के पूर्व बीजों में जैविक उर्वरक एजोटोबेक्टर या एजोस्पाइरिलम 10 मिली/कि.ग्रा. बीज की दर से उपचारित कर बुवाई करें।
 
(68 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer