समाचार
|| गौ-संरक्षण के लिये सरकार के साथ समाज को आगे आना होगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान || जल्द पूरी करें पंचायत आम निर्वाचन की तैयारियाँ || भारत ने 100 करोड़ से ज्यादा टीके लगाकर नया रिकार्ड बनाया - मुख्यमंत्री श्री चौहान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पन्ना में किये प्राचीन मंदिरों के दर्शन || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की महंगाई भत्ते में 8% वृद्धि की घोषणा || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री प्राणनाथ जी म्यूजियम का किया अवलोकन || समाधान केन्द्र (बीट) की बैठक होगी प्रति मंगलवार को || नीमच ब्रिगेड : जिसने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए || लो परफार्मिंग लर्निंग आउटकम पर विषय विशेषज्ञो द्वारा 11 नवम्बर तक डाइट से कक्षाओं का सीधा प्रसारण शुरू || पन्ना के शरद महोत्सव में भागीदारी सौभाग्य का विषय : मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
जमीनी क्रियान्वयन के आधार पर हों, योजनाओं की समीक्षा : राज्यपाल श्री पटेल
राज्यपाल ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की योजनाओं की प्राप्त की जानकारी
शहडोल | 22-सितम्बर-2021
   राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा है कि योजनाओं की समीक्षा जमीनी क्रियान्वयन के आधार पर की जानी चाहिए। अधिकारी क्षेत्र का सतत भ्रमण करें। उन्होंने कहा कि योजना की मंशा के व्यवहारिक रूप के आधार पर क्रियान्वयन कार्य की समीक्षा की जानी चाहिए।
   राज्यपाल श्री पटेल आज राजभवन में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की वि‍भिन्न योजनाओं के संबंध में अधिकारियों से चर्चा कर रहे थे। पंचायत और ग्रामीण विकास राज्य श्री रामखेलावन पटेल भी उपस्थित थे।
राज्यपाल श्री पटेल ने अधिकारियों से कहा है कि योजना की मंशा और सफलता, उसके जमीनी स्वरूप के आधार पर तय की जानी चाहिए। इसके लिए जरूरी है कि योजना के क्रियान्वयन की अधिकारी मौकें पर जाकर समीक्षा करें। गाँव वालों के साथ संवाद कायम कर जानकारी प्राप्त करें। उन्होंने निर्माण कार्यों की गुणवत्ता को सुनिश्चित किए जाने पर बल दिया। निर्माण के विभिन्न चरणों में कार्यों की नियमित मॉनिटरिंग की जरूरत बताई। अधिकारियों से कहा कि ऐसा करने से यदि कार्य में कमी अथवा गड़बड़ी मिलती है तो प्रारम्भिक अवस्था में ही उसे सुधारा जा सकेगा।
   राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि किसी भी कार्य की सफलता में कार्य करने वालें की भावना बहुत महत्वपूर्ण होती है। उन्होंने कहा कि गरीब और जरूरतमंद के लिए किए गये कार्यों से अपार आत्म-संतुष्टि और आनंद प्राप्त होता है। श्री पटेल को बताया गया कि प्रदेश में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना में वनाधिकार अधिनियम 2006 के तहत वन भूमि हक प्रमाण-पत्र धारक परिवारों को वर्ष में 150 दिवस का रोजगार और अन्य को 100 दिवस का रोजगार उपलब्ध कराया जाता है। योजना में रोजगार के साथ स्थायी परिसम्पत्तियों के सृजन के लिए 162 प्रकार के कार्य कराए जाते है। रोजगार सृजन में 30 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी होना भी अनिवार्य किया गया है।
   बैठक में राज्यपाल के प्रमुख सचिव श्री डी.पी. आहूजा, प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री उमाकांत उमराव, आयुक्त मनरेगा परिषद श्रीमती सूफिया फारूकी वली, संचालक पंचायतराज श्री आलोक कुमार सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी आरआरडीए एवं संचालक प्रधानमंत्री आवास योजना श्रीमती तन्वी सुन्द्रियाल, मुख्य कार्यपालन अधिकारी एसआरएलएम श्री एल.एम. बेलवाल, राज्य कार्यक्रम अधिकारी एसबीएम एवं संचालक आरजीएम श्रीमती निधि निवेदिता मौजूद थे।
(29 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2021नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer