समाचार
|| मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की महंगाई भत्ते में 8 प्रतिशत वृद्धि की घोषणा || विधानसभा अध्यक्ष द्वारा सामान्य वर्ग कल्याण आयोग के नव-निर्मित भवन का उद्घाटन || किसानों के साथ फर्जीवाड़ा करने वाले बख्शे नहीं जायेंगे - मंत्री श्री पटेल || जल्द पूरी करें पंचायत आम निर्वाचन की तैयारियाँ || स्वाधीनता का अमृत महोत्सव - लोकतंत्र और नवभारत पर व्याख्यान माला आयोजित || क्रेडिट आउटरीच कैम्पेन - 15 नवम्बर तक जिलों में लगेंगे मैगा कैम्प || एमएसएमई विकास नीति से आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश || कोरोना टीकाकरण में प्राप्त की महत्वपूर्ण उपलब्धि : स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी || विक्रमोत्सव-2021 - संस्कृति मंत्री सुश्री ठाकुर 24 अक्टूबर को करेगी शुभारंभ || नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह 22 अक्टूबर को करेंगे सोन चिरैया आजीविका उत्सव का शुभारंभ
अन्य ख़बरें
विज्ञान केन्द्र के बनने से लोगों को ज्ञानवर्धक जानकारी प्राप्त होगी
वहीं पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा -राज्यपाल श्री गेहलोत स्मार्ट सिटी के तहत तारा मण्डल में उच्च स्तरीय थ्रीडी स्टुडियो का आने वाले समय में भूमि पूजन होगा -उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव, दुनिया में पहली समय की गणना भारत में हुई -श्री सखलेचा तारा मण्डल परिसर में विज्ञान केन्द्र की स्थापना हेतु विधिवत भूमि पूजन कार्यक्रम सम्पन्न
उज्जैन | 30-सितम्बर-2021
     मप्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के अन्तर्गत उज्जैन के वसन्त विहार स्थित तारा मण्डल परिसर में विज्ञान केन्द्र की स्थापना हेतु विधिवत भूमि पूजन सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर कर्नाटक राज्य के राज्यपाल श्री थावरचन्द गेहलोत ने कहा कि विज्ञान केन्द्र के बनने से लोगों को ज्ञानवर्धक जानकारी प्राप्त होगी, वहीं पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। देश दुनिया में उज्जैन क्यों प्रसिद्ध है, यह हम सबको ज्ञात है। विज्ञान केन्द्र की स्थापना से विद्यार्थियों की सृजनशीलता विकसित होगी। केन्द्र की स्थापना से जहां एक ओर शिक्षा से जुड़े लोग लाभान्वित होंगे, वहीं दूसरी ओर जन-समुदाय की विज्ञान के प्रति रूचि बढ़ेगी तथा जिज्ञासाओं को भी सुलझाने में मदद मिल सकेगी। राज्यपाल श्री गेहलोत ने कहा कि भारत सरकार एवं राज्य सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के संयुक्त तत्वावधान में विज्ञान केन्द्र की स्थापना होगी, यह उज्जैनवासियों के लिये सराहनीय कार्य है।
   उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने इस अवसर पर कहा कि उज्जयिनी संस्कृति एवं ज्ञान की नगरी होने के साथ-साथ प्राचीनकाल से विज्ञान की नगरी भी मानी जाती रही है। प्राचीनकाल से दुनिया में सबसे पहले समय की शुद्धता की गणना उज्जैन में हुई है। देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत देश आगे बढ़ रहा है। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव ने कहा कि स्मार्ट सिटी के अन्तर्गत विकास की कड़ी में तारा मण्डल में 14 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से उच्च स्तरीय थ्रीडी स्टुडियो के निर्माण हेतु जल्द ही भूमि पूजन होगा। साइंस सिटी बनाने में निरन्तर कार्य किया जायेगा। विज्ञान केन्द्र में विद्यालय, महाविद्यालय और विश्वविद्यालयों के विद्यार्थी एवं जन-समुदाय को विज्ञान सीखाने, विज्ञान के मूलभूत सिद्धान्तों को समझाने और विज्ञान के प्रति रूझान तथा जागरूकता विकसित करने में सहायक सिद्ध होगा।
   विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने इस अवसर पर अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि भारत में एकमात्र प्राचीन नगरी उज्जयिनी में शिक्षा का स्थल रहा है। यहां पर भगवान श्रीकृष्ण ने शिक्षा ग्रहण की है। पूरी दुनिया में भारत में ही पहली बार समय की गणना हुई है। हमारे इतिहास में विज्ञान से सम्बन्धित बहुत कुछ ज्ञानवर्धक बातें हैं। भारत का विज्ञान बहुत आगे है। उज्जैन में विज्ञान के साथ-साथ अन्य विकास कार्यों का समय-समय पर जरूरतें पूरी की जायेंगी। सपने देखना हमारा काम है और सपने को पूरा करना शासन का काम है। उज्जैन आगे बढ़े, ऐसा हम सबका प्रयास रहेगा।
   उज्जैन-आलोट संसदीय क्षेत्र के सांसद श्री अनिल फिरोजिया ने अपने विचार प्रकट करते हुए प्रशंसा व्यक्त की कि उज्जैन में विकास में एक और अध्याय जुड़ गया है, जहां विज्ञान केन्द्र की स्थापना होगी। यह प्रशंसनीय है। उज्जैनवासियों को बहुत बड़ी सौगात मिली है। उन्होंने कहा कि आदिकाल से हमारे पूर्वजों ने वैज्ञानिक क्षेत्र में कई कार्य किये हैं। श्री वाकणकर की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने डोंगला की खोज की। राष्ट्रीय संगठन मंत्री विज्ञान भारती श्री जयंत सहस्त्रबुद्धे ने भी अपने विचार प्रकट करते हुए भारत के प्राचीन वैज्ञानिकों के इतिहास के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उज्जैन प्राचीनकाल से विज्ञान से सम्बन्धित नगरी रही है। आधुनिक विज्ञान के क्षेत्र में अन्तरिक्ष एवं समय काल में उज्जैन में समयकाल की गणना हुई है। उज्जैनवासियों को विज्ञान केन्द्र की स्थापना के लिये बधाई दी। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि भारत के श्री जगदीशचन्द्र बसु ने इंग्लैंड में जाकर भौतिक विज्ञान की पढ़ाई कर भारत में लगभग तीन वर्ष नि:शुल्क विद्यार्थियों को शिक्षा दी। अन्याय के विरूद्ध खड़ा होना ही सत्याग्रह है। देश में कई ऐसे वैज्ञानिक हुए हैं जिन्होंने विज्ञान को बचाये रखा। विज्ञान केन्द्र के बनने से हमें निरन्तर प्रेरणा मिलती रहेगी।
   मप्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के महानिदेशक डॉ.अनिल कोठारी ने शाब्दिक स्वागत भाषण देते हुए कहा कि राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद कलकत्ता संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार की योजना के अन्तर्गत उज्जैन में विज्ञान केन्द्र की स्थापना की जा रही है। विज्ञान केन्द्र की स्थापना का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों और आम लोगों की विज्ञान में रूचि बढ़ाना और विज्ञान से जुड़ी विभिन्न जिज्ञासाओं का समाधान होगा। डॉ.कोठारी ने बताया कि पांच एकड़ क्षेत्र में लगभग 16.70 करोड़ रुपये की लागत से विज्ञान केन्द्र स्थापित होगा। विज्ञान केन्द्र में आईटी और चिल्ड्रन पार्क विकसित किया जायेगा। विज्ञान और मिसाईल के अत्याधुनिक मॉडल रखे जायेंगे। केन्द्र में इनोवेशन लेब की स्थापना भी की जायेगी। विज्ञान केन्द्र लगभग दो वर्ष में पूर्ण होगा।
   अतिथियों द्वारा सर्वप्रथम विज्ञान केन्द्र का विधिवत पं.गौरव उपाध्याय के आचार्यत्व में भूमि पूजन सम्पन्न हुआ। भूमि पूजन के पश्चात शिलालेख का अनावरण किया। कार्यक्रम के प्रारम्भ में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने अतिथियों का पुष्पगुच्छ भेंटकर स्वागत किया। तत्पश्चात मप्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के महानिदेशक डॉ.अनिल कोठारी ने भी समस्त अतिथियों का पुष्पगुच्छ भेंटकर स्वागत किया गया। कार्यक्रम में अतिथियों ने मप्र विज्ञान सम्मेलन एवं प्रदर्शनी की विवरणिका का विमोचन किया। कार्यक्रम के अन्त में विभाग द्वारा अतिथियों को स्मृति चिन्ह एवं शाल, श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का संचालन श्री शैलेंद्र कुमार व्यास ने किया और अन्त में आभार वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ.राजेश वर्मा ने प्रकट किया। इस अवसर पर आलोट विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक श्री जितेन्द्र गेहलोत, राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद के निदेशक श्री समनेंद्र कुमार, पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ.सत्यनारायण जटिया, श्री विवेक जोशी, श्री बहादुरसिंह बोरमुंडला, श्री अनिल जैन कालूहेड़ा, श्री वीरेन्द्र कावड़िया, श्री विशाल राजौरिया, श्री जगदीश पांचाल, विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय, यूडीए सीईओ श्री एसएस रावत, एएसपी श्री अमरेंद्र सिंह आदि गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।
 
(21 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2021नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer