समाचार
|| इजराइली जल प्रबंधन विशेषज्ञ खजुराहो पहुंचे || राज्यपाल श्री पटेल तीन दिवसीय प्रवास पर आज आएंगे रीवा || तीन चरणों में होंगे पंचायत चुनाव - राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री सिंह || कृषि मंत्री श्री कमल पटेल ने नेमावर में किये नर्मदा मैया के दर्शन || मंत्री डॉ. मिश्रा ने बाबा महाकाल, मंगलनाथ और शनिदेव के किये दर्शन || निःशुल्क चिकित्सा शिविर में दो दिन में लगभग 65 हजार लोग हुए लाभान्वित || तीन चरणों में होंगे पंचायत चुनाव - राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री सिंह || जल जीवन मिशन में प्रशिक्षण और जन-जागरूकता का दौर जारी || राज्यपाल श्री पटेल एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान ने चित्र प्रदर्शनी का किया अवलोकन || गरीबों और जनजातीय वर्ग की जिंदगी बदलने का अभियान चलाएँगे - मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
आतिशबाजी संग्रह एवं विक्रय हेतु दिशा-निर्देश जारी
-
श्योपुर | 19-अक्तूबर-2021
 
    कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री शिवम वर्मा द्वारा प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी दीपावली त्यौहार के अवसर पर आतिशबाजी (पटाखे, फुलझड़ी) संग्रह एवं विक्रय हेतु विस्फोटक नियम 2008 के अन्तर्गत अनुसूची प्ट के भाग- 1 अनुच्छेद (5)(ख) के अनुसार प्रारूप एल.ई. 5 में अस्थाई अनुज्ञप्ति प्रदान करने हेतु विस्फोटक नियम 2008 क नियम 112(1) के परन्तुक के अधीन प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए कार्य सुविधा की दृष्टि से आदेश जारी किया है।
    जारी आदेश के अनुसार एक्सप्लोसिव रूल्स 2008 के अन्तर्गत अस्थाई अनुज्ञप्ति प्रदाय किये जाने हेतु संबंधित क्षेत्र के अनुविभागीय दण्डाधिकारी को अधिकृत किया है। अस्थाई आतिशबाजी अनुज्ञप्तिधारकों की सूची इस कार्याेलय को भेजी जावेगी। नवीन अस्थाई अनुज्ञप्ति के आवेदन प्राप्त होने पर पुलिस से आवश्यक जांच करवाई जावेगी। पुलिस प्रतिवेदन एवं आवश्यक जांच के पश्चात ही अनुज्ञप्ति जारी की जावेगी। नवीन अस्थाई आतिशबाजी अनुज्ञप्ति हेतु आवेदन पत्र प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 25 अक्टूबर 2021 तक  रहेगी। इस अवधि के पश्चात प्राप्त आवेदन पत्रों पर विचार नहीं किया जावेगा। 30 अक्टूबर 2021 से 08 नवबंर 2021 (दस दिवस) तक के लिये अस्थाई अनुज्ञप्ति वैध रहेगी।
    इसी प्रकार प्रत्येक नवीन अस्थाई आतिशबाजी अनुज्ञप्ति में आतिशबाजी संग्रह एवं विक्रय हेतु जनसुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए एवं मात्रा आवश्यक रूप से प्रदर्शित की जावेगी। अनुज्ञप्ति हेतु स्थल संबंधित क्षेत्र के अनुविभागीय दण्डाधिकारी द्वारा संबंधित अनुविभागीय अधिकारी पुलिस एवं मुख्य नगरपालिका अधिकारी, नगर पालिका/नगर परिषद/मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जनपद पंचायत की बैठक उपरांत निर्धारित किया जायेगा। अनुज्ञप्ति स्थल पर आवश्यक अग्नि सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित की जावेगी तथा रहवासी बस्ती में अनुज्ञप्ति जारी न की जाने की पाबंदी सुनिश्चित की जावे। अनुज्ञप्ति स्थल पर किसी भी प्रकार की अग्नि दुर्घटना/घटना की जानकारी तत्काल पुलिस अधीक्षक श्योपुर/संबंधित थाना प्रभारी को सूचित की जावेगी।
    अनुज्ञप्ति स्थल पर किसी आशंकित दुर्घटना के निदान हेतु प्रत्येक अनुज्ञप्तिधारक द्वारा पुलिस प्रशासन को पर्याप्त सहयोग उपलब्ध कराया जावेगा। अनुज्ञप्ति स्थल जिस स्थान पर आतिशबाजी की दुकानें लगेगी उस स्थान पर पर्याप्त पानी एवं बालू (रेत की बोरी) की व्यवस्था की जावे एवं विस्फोटक नियमों का कड़ाई से पालन किया जाना सुनिश्चित करें। 18 वर्ष से कम आयु के बच्चों को तब तक आतिशबाजी न बेची जाये जब तक उनके साथ कोई वयस्क व्यक्ति न हो। अनुज्ञप्ति स्थल पर किसी प्रकार के जलित दिये, लालटेन, मोमबत्ती का प्रयोग नहीं किया जावेगा तथा अनेज्ञप्ति स्थल पर धूम्रपान पूर्णत प्रतिबंधित रहेगा। शासकीय भूमि पर दुकान आवंटित की जा रही हैं तो अस्थाई लीज का किराया अनुविभागीय अधिकारी राजस्व वसूल करें। नगरीय निकाय की भूमि में नगर पालिका परिषद एवं ग्राम पंचायत की भूमि में ग्राम पंचायत द्वारा किराया वसूल किया जावेगा। पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, भारत सरकार की अधिसूचना जी.एस.आर. 682(ई) दिनांक 05.10.1999 में पटाखों के प्रस्फोटन से होने वाले शोर मानक निम्नानुसार निर्धारित किये गये है। जिसमें प्रस्फोटन के बिन्दु से 4 मीटर की दूरी पर 125 डी.बी.(ए.आई) या 145 डी.बी. (सी) पी क्रं. से अधिक ध्वनि स्तर जनक पटाखों को विनिर्माण, विक्रय, उपयोग करना वर्जित है। लडी (जुडे हुए पटाखों) गठित करने वाले अलग-अलग पटाखों के लिये उपर वर्णित सीमा 5सवह10(छ) कठ तक कम किया जा सकेगा, जहां एन=एक साथ जुडे हुए पटाखों की संख्या। आतिशबाजी बिक्री हेतु संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी द्वारा दुकानदारों को अस्थाई दुकान के लिये अनुज्ञप्ति देते समय केन्द्रीय सरकार की अधिसूचना  क्रमांक जी.एस.आर.687(ई) दिनांक 27.09.1984 के अन्तर्गत निम्नलिखित शर्तों का पालन अनिवार्य रूप से किया जाना है।
    आतिशबाजी को सुरक्षित एवं बंद शेड में रखना होगा। आतिशबाजी की अस्थाई दुकान एक दूसरे से तीन मीटर की दूरी पर एवं किसी भी संरक्षित कार्यशाला से 50 मीटर की दूरी पर होगा। यह अस्थाई दुकानें एक-दूसरे के आमने-सामने नहीं होगी। दो दुकानों के बीच विभाजन में टीन की चादर का ही प्रयोग करेंगे एवं छत भी टीन की चादर की रहेगी। सुरक्षा दूरी के अंदर एवं इन दुकानों में प्रकाश हेतु किसी प्रकार का तेल, लेम्प, गैस लेम्प एवं खुली बिजली की बत्तियों का प्रयोग नहीं होगा यदि किसी बिजली की लाईन का प्रयोग किया जाता है। तो उसे या तो दीवार पर या छत पर दृढ़ता से लगाना होगा, किसी प्रकार के तार लटके नहीं होंगे। इन बत्तियों के लिये बटन छत के पास लगाने होंगे एवं एक पंक्ति की सभी दुकानों के लिये मास्टर स्विच लगाना होगा। किसी दुकान के 50 मीटर के अंदर आतिशबाजी का प्रदर्शन प्रतिबंधित होगा। प्रत्येक मास्टर स्विच के फयूज या सर्किट ब्रेकर लगा होंना चाहिये, ताकि शार्ट सर्किट होने पर विद्युत प्रवाह स्वतरू बंद हो जावे।  
 
(47 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2021जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer