समाचार
|| घर से ही करा सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक || अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को || हज यात्रियों को विशेष प्रशिक्षण 25 जुलाई तक || समाज कार्य स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम लेखन की समीक्षा 26 जुलाई को || पशुधन संजीवनी हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर ‘‘1962’’ प्रारंभ || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य || स्कूलों की मान्यता के नवीनीकरण के लिए आयुक्त के पास अपील 20 से 26 जुलाई तक होगी || दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में 21 प्रकार की दिव्यांगताएं शामिल || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
कार्य योजना बनाये, बंधुआ श्रमिको को ढूंढे और बचायें - कलेक्टर
जिला स्तरीय सतर्कता समिति की बैठक आयोजित
रतलाम | 31-अगस्त-2017

 
 
   कलेक्टर श्रीमती तन्वी सुन्द्रियाल ने आज श्रम विभाग अंतर्गत बंधक श्रम प्रथा (समाप्ति) अधिनियम अंतर्गत गठित जिला स्तरीय सतर्कता समिति की बैठक में श्रम पदाधिकारी को निर्देशित किया कि जिले में बंधुआ श्रमिकों के रूप में कार्य कर रहे श्रमिकों को चिन्हांकित करें। ऐसे श्रमिकों को मुक्ति दिलाने के लिये आवश्यक कार्य योजना बनाकर कार्य किया जाये। उन्होने जिले के नागरिको से अपील भी की हैं कि यदि किसी को भी किसी भी व्यक्ति के बंधुआ श्रमिक के रूप में जानकारी मिलती हैं तो वह तुरंत श्रम विभाग के जिला अधिकारी, श्रम निरीक्षकों अथवा कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को दूरभाष पर तुरंत जानकारी देकर अवगत कराये।
   कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल ने प्रभारी श्रम पदाधिकारी आर.के.लोधी को बंधुआ मजदूरों को चिन्हांकित कर मुक्ति दिलाने के लिये आगामी बैठक के पूर्व पुख्ता कार्य योजना बनाने को कहा है। उन्होने दूरभाष पर खनिज अधिकारी को जिले में संचालित क्रेशर मशीन संचालकों की जानकारी सहित सूची श्रम विभाग को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये है। कलेक्टर ने निर्देशित किया हैं कि पता लगाया जाये कि कहा-कहा पर श्रमिक बंधुआ होकर काम करने को मजबुर हो रहे हैं या किये जा रहे है। ऐसे तमाम श्रमिको का पुनर्वास किया जायेगा। उन्हें शासन की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत लाभान्वित किया जायेगा। स्वरोजगार के इच्छुक पात्रतानुसार श्रमिकों को आवष्यक सहायता एवं ऋण प्रदान करवाये जायेगे।
   बैठक में पुलिस अधीक्षक अमितसिंह ने बताया कि पुलिस विभाग के द्वारा मुस्कान अभियान अंतर्गत सूचीबद्ध एवं चिन्हित कर पता लगाया गया कि सभी गुमशुदा बच्चो की सूची श्रम विभाग को एवं कलेक्टर कार्यालय को उपलब्ध करायी जायेगी। कलेक्टर ने ऐसे सभी बच्चों का पुनर्वास करते हुए उनकी शैक्षणिक व्यवस्था किये जाने हेतु सहायक आयुक्त आदिवासी विकास को दिये।
   बैठक में कलेक्टर ने पंचायत भवनों पर श्रम विभाग के अधिकारियों के नाम लिखने के निर्देष दिये है। बैठक में श्रम पदाधिकारी लोधी द्वारा बताया गया कि जिले में रतलाम, जावरा, आलोट, बाजना, पिपलौदा और सैलाना इत्यादि प्रत्येक क्षेत्र के लिये श्रम निरीक्षकों की नियुक्ति हो चूकी हैं।
   श्रीमती सुन्द्रियाल के निर्देशानुसार किसी भी व्यक्ति को किसी भी श्रमिक के बंधुआ होने की जानकारी होने पर प्रभारी श्रम पदाधिकारी आर.के.लोधी के दूरभाष क्रमांक 94253-48945 अथवा रतलाम श्रम निरीक्षक एस.के.शर्मा को 73545-13359, जावरा श्रम निरीक्षक सुनिल सप्रे को 98272-87942, आलोट श्रम निरीक्षक राजेन्द्र सोनी को 88717-29636, बाजना श्रम निरीक्षक सुश्री नलीनी कटारा को 96306-54289, पिपलौदा श्रम निरीक्षक सुश्री निषा गणावा को 83499-33012 और  सैलाना  श्रम निरीक्षक सुश्री ज्योति तोतला को 96858-04052 पर तत्काल फोन लगाकर सूचित किया जा सकता है।
   बैठक में लीड बैंक मैंनेजर के.के.सक्सेना, रतलाम श्रम निरीक्षक एस.के.शर्मा और समिति के अषासकीय सदस्य दिलीप मेहता, श्यामलाल परमार और योगेन्द्रसिंह सौलंकी ने भी बंधुआ श्रमिकों के चिन्हाकंन और मुक्ति के लिये उपयोगी सुझाव दिये।
 
(325 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer