समाचार
|| घर से ही करा सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक || अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को || हज यात्रियों को विशेष प्रशिक्षण 25 जुलाई तक || समाज कार्य स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम लेखन की समीक्षा 26 जुलाई को || पशुधन संजीवनी हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर ‘‘1962’’ प्रारंभ || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य || स्कूलों की मान्यता के नवीनीकरण के लिए आयुक्त के पास अपील 20 से 26 जुलाई तक होगी || दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में 21 प्रकार की दिव्यांगताएं शामिल || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
निर्धारित समय-सीमा के पूर्व ही सभी किसानों को खसरा खतौनी की नकल वितरित
-
उज्जैन | 01-सितम्बर-2017
 
 
    राजस्व विभाग के निर्देश अनुसार मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा के अनुरूप उज्जैन जिले के सभी किसानों को वर्ष 2017-18 के खसरा खतौनी की नकल 31 अगस्त को उपलब्ध करा दी गई है। उल्लेखनीय है कि राजस्व विभाग द्वारा उक्त नकल 2 अक्टूबर तक वितरित करने की समय-सीमा निर्धारित थी। इसके विरूद्ध कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने खसरा खतौनी की नकल 31 अगस्त तक ही उपलब्ध कराकर प्रदेश में अग्रणी स्थान बनाया है।
    कलेक्टर ने उज्जैन जिले में खसरा खतौनी की नकल वितरित करने के बाद अब राजस्व सम्बन्धित अन्य सेवाओं का लाभ देने के लिये 6, 7 एवं 8 सितम्बर को विशेष ग्राम सभाएं आयोजित करने के निर्देश दिये हैं। इन ग्राम सभाओं में मौके पर ही किसानों की समस्याओं का निराकरण किया जायेगा। ग्राम सभाओं में नोडल अधिकारी मौजूद रहेगा जो ग्राम सभाओं की रिपोर्ट कलेक्टर को देगा। इन ग्राम सभाओं में ग्राम आबादी के लिये उचित भूमि की मांग का प्रस्ताव लाया जायेगा। ऐसे क्षेत्र में रहने वाले लोगों को भू-अधिकार पत्र दिये जाने की कार्यवाही जनपद सीईओ व तहसीलदार करेंगे। कलेक्टर ने अविवादित नामांतरण के लिये बी-1 का वाचन ग्राम सभाओं में करने के निर्देश दिये हैं। दखलरहित भूमि निस्तार के लिये दिये जाने वाले वाजिब उल अर्ज के सम्बन्ध में चर्चा कर सुखाधिकार में दर्ज करने के निर्देश दिये गये हैं।
    विशेष ग्राम सभाओं के आयोजन में ग्राम आबादी के लिये आवश्यकता अनुसार उचित भूमि की मांग, निवासरत ग्रामीणों को भूखण्ड प्रमाण-पत्र प्रदाय किये जाने सम्बन्धित कार्यवाही, घोषित आबादी क्षेत्र के लेआऊट स्वीकृत कराने की विधिवत कार्यवाही के सम्बन्ध में ठहराव प्रस्ताव किया जायेगा। इसी तरह बी-1 का वाचन उपरान्त फौती व रजिस्ट्री के अविवादित नामांतरण को संज्ञान में लेकर ग्राम पंचायत से प्रमाणित कर राजस्व अभिलेखों में इन्द्राज कराने का कार्य किया जायेगा। इसी तरह वाजिब-उल-अर्ज (निजी जमीन का सार्वजनिक उपयोग) के सम्बन्ध में चर्चा करना तथा यदि कोई सुखाधिकार में दर्ज किया जाना आवश्यक है तो उसके सम्बन्ध में ठहराव प्रस्ताव किया जायेगा। शमशान, कब्रिस्तान, खेल मैदान आदि के सम्बन्ध में भी ग्राम सभाओं में ठहराव प्रस्ताव किया जायेगा। इनमें आवास हेतु ग्रामीणों को भू-अधिकार पत्र विशेषकर प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों को जिनके आवास पूर्ण हो गये हैं, उन्हें अनिवार्यत: प्रदान किया जायेगा।
 
(324 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer