समाचार
|| जिला स्तरीय कौशल विकास एवं रोजगार मेला सम्पन्न || वोटर लिस्ट में एक से अधिक प्रविष्टि की शिकायत प्रमाणित नहीं पाई गई || न्यूटन चिखली के राजू डेहरिया के पक्के आवास का सपना हुआ पूरा (कहानी सच्ची है) || चिकित्सा महाविद्यालयों में स्नातक पाठ्यक्रम के प्रवेश में संशोधन प्रक्रिया 25 जून तक || स्वरोजगार योजनाओं के तहत स्व-सहायता समूहों को ऋण की पात्रता || 22वें भगवान महावीर पुरस्कार के लिये नामांकन आमंत्रित || नेशनल लोक अदालत में लंबित प्रकरणों के निराकरण के लिये 29 खंडपीठें गठित एवं पीठासीन अधिकारी नियुक्त || विद्यार्थियों को गणवेश के लिये 7.95 करोड रूपये से अधिक की राशि प्रदाय || 5 हजार रूपये के पुरस्कार की उद्घोषणा || मुख्यमंत्री कृषक जीवन कल्याण योजना के अंतर्गत सहायता राशि के आहरण/वितरण की कार्यवाही पूर्वानुसार ही करने के निर्देश
अन्य ख़बरें
सोयाबीन उत्पादन करने वाले कृषकों को उपयोगी सलाह
-
शिवपुरी | 04-सितम्बर-2017
 
   सोयाबीन अनुसंधान निदेशालय इंदौर द्वारा सोयाबीन उत्पादन करने वाले कृषकों को सोयाबीन फसल में लगने वाले कीट एवं रोगों से बचाव हेतु उपयोगी सलाह दी गई है। जिसको अपनाकर किसान भाई फसलों को सुरक्षित रख सकते है।
   किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उपसंचालक श्री आर.एस.शाक्यवार ने बताया कि कहीं-कहीं सोयाबीन फसल में सफेद सुण्डी का प्रकोप देखा गया है जिसके कारण फसल सूख रही है। इसके नियंत्रण हेतु प्रभावित स्थानों पर (जड़ो के पास) क्लोरोपायरीफोंस 20 ई.सी. 1500 मिली./हेक्ट का पर्याप्त पानी के साथ छिड़काव करें। जिससे कीटनाशक का घोल जमीन में 2-3 इंच तक पहुंच सके। क्लोरोपायरीफॉस के छिड़काव के स्थान पर इस दवाई का दानेदार 10जी की 20 कि.ग्रा. मात्रा प्रति/हेक्टेयर की दर से डालें एवं सिंचाई का दें। कुछ क्षेत्रों में पत्ति खाने वाली इल्लियों का प्रकोप देखा जाता है, ऐसे स्थानों पर तुरंत क्विनालफोंस 1500 मिली./हेक्ट. या इण्डोक्साकार्ब 333 मिली./हेक्ट. का 500 ली.पानी के साथ छिड़काव करें।
   जिस स्थानों पर पत्ति खाने वाली इल्लियों के साथ-साथ रस चूसने वाले कीट जैसे सफेद मक्खी, हरा जैसिड आदि का प्रकोप है। वहां फसल पर थायमिथोक्स+लैम्बडा सायहेलोथिन 125 मिली./हैक्ट. का छिड़काव करें। जिन स्थानों पर फसल में गर्डल बीटल का प्रकोप प्रारंभ हो चुका है, वहां थायकलोप्रिड 21.7, एस.सी. (650 मिली/हेक्ट.) या प्रोफेनोफोंस 50 ई.सी.(1250 मिली.) या ट्रायजोफोंस (800 मिली./हेक्ट) या बीटासायफ्लूथ्रीन+इमिडाक्लोप्रिड 350 मिली./हेक्ट. का 500 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें। जहां पर सोयाबीन में मोजाइक/पीली मोजाइक बीमारी का प्रकोप प्रारंभ हो, वहां इससे ग्रसित पौधों को अपने खेत से उखाड़कर गढ्ढे में गाड़ दें तथा इसको अन्य पौधो पर फैलाने वाले रोगवाहक कीटों के नियंत्रण हेतु थायमिथोक्स+लैम्बड़ा सायहेलोथ्रिन 125 मिली./हेक्ट. अथवा बीटा सायफ्लूथ्रीन+इमिडाक्लोप्रिड 350 मिली/हेक्ट. का 500 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें। कुछ क्षेत्रों में सोयाबीन फसल पर पत्ति धब्बा तथा ऐन्थ्रेक्नोज नामक बीमारियों के प्रकोप की संभावना है। इसके नियंत्रण हेतु टेबूकोनाझोल या टेबूकोनाझोल+सल्फर(पूर्व मिश्रित फफूंदनाशक) (2 किग्रा/लीटर पानी) या थायनोफिनेट मिथाइल या कार्बिण्डाजिम (1 ग्राम/लीटर पानी) का छिड़काव करें।

(291 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2018जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer