समाचार
|| घर से ही करा सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक || अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को || हज यात्रियों को विशेष प्रशिक्षण 25 जुलाई तक || समाज कार्य स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम लेखन की समीक्षा 26 जुलाई को || पशुधन संजीवनी हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर ‘‘1962’’ प्रारंभ || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य || स्कूलों की मान्यता के नवीनीकरण के लिए आयुक्त के पास अपील 20 से 26 जुलाई तक होगी || दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में 21 प्रकार की दिव्यांगताएं शामिल || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
सब्जी उत्पादकता के लिए एक नई चेतना का संचार करे, किसानो की बढे़गी आय- कलेक्टर
प्रथम चरण में 12 सेक्टर के 86 ग्रामों में सब्जी उत्पादन होगा, 50 प्रतिशत अनुदान पर मिलेगा सब्जी बीज
उमरिया | 25-नवम्बर-2017
 
  
   कलेक्टर श्री माल सिंह ने जिले के 90 प्रतिशत ग्रामों का भ्रमण कर किसानों की माली हालत का जायजा लिया और भोगौलिक स्थिति का आकलन कर पाया कि किसान परंपरागत खेती को छोडकर सब्जी उत्पादन करें तो निश्चित रूप से आर्थिक सम्पन्नता बढेगी। कलेक्टर ने कहा कि किसानो में एक नई चेतना का संचार करे जिससे उनकी आय बढे और लाभ का धंधा बन सके।
   इस संबंध में कलेक्टर ने उद्यानिकी विभाग के सहायक संचालक श्री आर बी पटेल, जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री बी के सिंह सहित उद्यान विभाग के समस्त फील्ड के अमले की आवश्यक बैठक लेकर निर्देशित किया है कि जिले के चिन्हित 12 कलस्टरो के अंतर्गत चयनित 86 ग्रामों में किसानों को सब्जी उत्पादन के लिए प्रेरित किया जाए। इस हेतु कलस्टर प्रभारी एवं नोडल अधिकारी नियुक्त करने के भी निर्देश कलेक्टर ने दिए है।
   बैठक में कलेक्टर ने कलस्टर प्रभारियों से कहा है कि वे अपने कलस्टर के समस्त ग्रामों का भ्रमण कर कम से कम इस सीजन में 10 हजार सब्जी उत्पादक किसानों का चयन करें और सब्जी लगाने के तौर तरीके बताए। किसानों को सब्जी बीजो पर 50 प्रतिशत अनुदान विभाग द्वारा कृषक द्वारा आनलाइन आवेदन करने पर उपलब्ध कराया जाएगा। कलेक्टर ने कहा है कि प्रारंभिक सर्वे में पंचायत एवं गांव का नाम, कृषक का नाम, भूमि का रकबा, उद्यानिकी फसल का नाम, उत्पादन की स्थिति, पैदावार, बाजार और अनुमानित आय अभी तक क्या हो रही है सम्मिलित करें। इसके पश्चात नये तरीके से सब्जी उत्पादन करने में होने वाले लाभों का आकलन बाद में कराया जाएगा।
   कलेक्टर ने उद्यान विभाग के मैदानी कर्मचारियों से कहा है कि वे प्रतिस्पर्द्धात्मक रूप से इस कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता से करें जिस कलस्टर में सबसे अधिक सब्जी उत्पादन होगा उस कलस्टर प्रभारी को राष्ट्रीय कार्यक्रमों में सम्मानित कराया जाएगा। बैठक में कलेक्टर ने कहा कि इसके अलावा उमरार डेम के 35 किमी मुख्य एवं माइनर नहरों के किनारें नीबू, अमरूद, आंवला, सीताफल एवं आम के पौधे लगाये जायेंगे, इसके साथ ही फूल वाले पौधे, गेंदा, गुलाब, नवरंगा आदि भी लगाया जाएगा। किसानों को सब्जी उत्पादन के प्रथम चरण में प्याज, टमाटर, बैगन, गोभी, आलू, पालक, मेथी, धनिया, मिर्ची, लहसुन आदि लगवाया जाएगा।
   कलेक्टर ने कहा है कि जिले के एक से अधिक ढाई एकड़ तक के लघु सीमांत कृषकों को कपिलधारा कूप स्वीकृत किया जाएगा ताकि वे कूप खोदकर सब्जी का उत्पादन ले सके। इस कार्य में किसान मित्र एवं किसान दीदीयो, कृषि विभाग, कृषि विज्ञान केंद्र, कृषि अभियांत्रिकीय आदि तकनीकी विशेषज्ञों का भी सहयोग लिया जा सकेगा।
(238 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer