समाचार
|| प्रधानमंत्री आवास योजना में हितग्राही को मिलेगा 2 लाख 50 हजार रूपये का अनुदान: उर्मिला कटारे || जिले में 23 जुलाई तक 333.8 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज || मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना में पंजीयन तथा हितग्राहियों को लाभान्वित करने का कार्य एक साथ संचालित किया जाये || संबल मेला एवं स्वरोजगार मेला में संबंधित विभागों के अधिकारी तत्परता पूर्वक अपेक्षित परिणाम लायें || सीएम हेल्प लाईन, लोकसेवा गारंटी, प्रशासनिक प्रकोष्ठ तथा वरिष्ठ कार्यालयों से प्राप्त पत्रों का निराकरण नहीं करने पर अधिकारियों पर होगी कार्यवाही || समाधान एक दिन, आय व मूल निवासी प्रमाण पत्र हाथों हाथ पाकर बहुत खुश हुए घीसालाल "सफलता की कहानी" || 28 जुलाई तक पटवारी पद के लिए आदिम जनजाति के आवेदन भरे जायेंगे || स्वच्छ भारत मिशन शहडोल की पहल || समाधान एक दिन, हाथों हाथ आय प्रमाण पत्र पाकर बहुत खुश हुई खुशबू "सफलता की कहानी" || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
कलेक्टर श्री माल सिंह ने आधा दर्जन से अधिक ग्रामों का किया निरीक्षण
किसानों को सब्जी उत्पादन लेने की दी समझाइश 100 से अधिक किसान हुए तैयार
उमरिया | 06-दिसम्बर-2017
 
  
   कलेक्टर श्री माल सिंह ने करकेली विकासखण्ड के भरौला, बांका, पतरेई, रामपुर, पाली, लोढ़ा आदि ग्रामों का भ्रमण कर किसानों से रूबरू होते हुए सलाह दी है कि सब्जी उत्पादन एवं अन्य उद्यानिकी फसले उत्पादित कर लाभ का धंधा बनाए। कलेक्टर ने इन ग्रामों में चौपाल लगाकर परंपरागत खेती से होने वाले लाभ के संबंध में पूछताछ की जिसमें किसानो ने अवगत कराया कि अल्प वर्षा से फसले प्रभावित हुई है, सिर्फ जीवन जीने के लिए खेती माध्यम है। यदि घर में अन्य कोई कार्य पड़े तो दूसरे की मदद या बाहर काम करने के लिए जाना पड़ता है।
   कलेक्टर के भ्रमण के साथ सहायक संचालक उद्यान श्री आर बी पटेल, एसडीओ कृषि डॉ. प्रेम सिंह, कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास मनमोहन सिंह, जिला समन्वयक स्वच्छ भारत मिशन श्रीमती मनीशा काण्ड्रा, सहायक यंत्री पीएचईडी कु. सोनाली सिन्हां, आरएईओ, कृषि उद्यान विस्तार अधिकारी, सचिव, सरपंच सहित कृषकगण उपस्थित रहे।
   कलेक्टर ने किसानों से कहा कि जिले में सब्जी की अत्यधिक मांग रहती है जिसकी पूर्ति कटनी, जबलपुर एवं बिलासपुर से होती है। यदि किसान सब्जी उत्पादन में जुटे तो बाजार की समस्यां भी नही होगी और उन्हें परंपरागत खेती की तुलना में दुगुना लाभ ले सकेंगे। उन्होंने कहा कि सब्जी लगाने के तकनीकी ज्ञान देने के लिए उद्यानिकी एवं कृषि विभाग गांव गांव जाएगा और उन्हें बीज तथा यंत्र 80 प्रतिशत तक अनुदान में उपलब्ध कराने की जानकारी देंगे।
   कलेक्टर श्री माल सिंह ने कहा कि सब्जी एक ऐसी फसल है जो कम पानी में वर्ष में कई बार ली जा सकती है। पांच एकड़ में जितना लाभ कृषि से नही लिया जा सकता उससे कहीं अधिक लाभ 50 डिसमिल की जमीन में सब्जी उत्पादन कर प्राप्त किया जा सकता है।
   इस अवसर पर सहायक संचालक उद्यान श्री आर बी पटेल ने किसानो को समझाइश दी की सब्जी, फूल एवं अन्य फलदार पौधे लगाकर कृषि को लाभ का धंधा बनाये  इसमें शासन द्वारा देय अनुदान और निशुल्क तकनीकी ज्ञान विभाग द्वारा घर आकर दिया जाएगा। एक हेक्टेयर तक के लिए सब्जी बीज में 10 हजार का अनुदान भी मिलेगा वही बगीचे लगाने के लिए 60 हजार रूपये का अनुदान भी उपलब्ध कराया जा सकेगा, सिर्फ किसानों को आनलाइन आवेदन करने की जरूरत है। उन्होने कहा कि कम पानी में टपक सिंचाई योजना के जरिए सामान्य खेती से मात्र 10 प्रतिशत पानी में भी सब्जी का उत्पादन लिया जा सकेगा।
   कार्यक्रम में एसडीओ कृषि डॉ. प्रेम सिंह ने भी साग, भाजी, फूल एवं क्राप्ट वाली अन्य फसलों का उत्पादन लेने पर जोर देते हुए कहा कि कृषि यंत्रों पर 70 से 80 प्रतिशत तक अनुदान लिया जाता है जिसका लाभ उठाए। कमजोर एवं पथरीली जमीन में नीबू, मुनगा, आम, अमरूद आदि का पौधा लगाने, मेढ में पौधा लगाए और मिश्रित खेती के साथ साथ मशरूम की खेती कर अधिक आमदनी लेने की तकनीक से अवगत कराया। अरहर, चना एवं अन्य फसलो में लगने वाले कीट के उपचार के संबंध में देशी नुक्से भी बताए।
मिश्रित खेती कर कृषि को लाभ का धंधा बनाया राम कुमार कुशवाहा ने किसानो के लिए प्रेरणा के स्रोत बनेगा राम कुमार
   रामपुर निवासी राम कुमार कुशवाहा ने महज डेढ एकड़ की जमीन पर मिश्रित खेती कर यह साबित कर दिया है कि कृषि घाटे का नही बल्कि लाभ का धंधा है। उन्होने अरहर के खेत में चना, मूली, अदरक, फूलगोभी आदि फसले लेकर सबको अचंभित कर दिया है। सभी जींसों का उत्पादन भी लिया है। अरहर की फल्लियां यह साबित कर रही है कि तकनीकी विधि से लगाने पर सामान्य से 10 गुना अधिक उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है।
   खेत की मेढ़ों में अरहर की फसल अपनी ओर आकर्शित कर रही है वहीं अमरूद, कटहल, आंवला, आम, मिर्ची, भाटा, गोभी, अदरक, टमाटर, धनियापत्ती आदि सब्जियां अनुपजाउ भूमि में भी लहलहा रही है। राम कुमार और उनका पूरा परिवार कृषि के क्षेत्र में किसी भी कृषि वैज्ञानिक से कम नही है। उनकी फसलों को देख अन्य ग्रामों के किसान भी सब्जी उत्पादन में जुटकर अपनी माली हालत में अपेक्षित सुधार ला रहे है।
   निरीक्षण के दौरान कलेक्टर के समक्ष 100 से अधिक किसानों ने गेहूँ एवं अन्य फसलों के स्थान पर सब्जी उत्पादन करने की वचनबद्धता जाहिर की जिस पर कलेक्टर ने उन्हें हर संभव सहयोग करने का आश्वासन दिया।
   कलेक्टर श्री माल सिंह ने उनके सब्जी उत्पादन एवं अन्य फसलों को देखकर साधुवाद देते हुए कहा है कि जिले के अन्य किसानों को भी प्रेरणा का स्त्रोत बने। इस दौरान सहायक संचालक उद्यान श्री आर बी पटेल ने कहा कि सब्जी उत्पादन में जितने पानी का उपयोग किया जा रहा है उससे मात्र 10 प्रतिशत पानी मे भी टपक योजना के माध्यम से इतना उत्पादन लिया जा सकता है। इस हेतु अनुदान पर यंत्र लेने की समझाइश दी और वह सहज रूप मे तैयार हो गया।
ग्रामीणों की समस्याओं का तीन दिवस में होगा निराकरण- कलेक्टर
   कलेक्टर श्री माल सिंह ने भ्रमण के दौरान ग्रामीणो से समस्याओ के संबंध में पूछताछ की जिसमें बांका के सुरेंद्र सिंह, देवी सिंह, राम किशोर, छोटे सिंह, कृपाल, राजा राम कुशवाहा, छोटेलाल, पतरेई के गुलजार सिंह, हरिदत्त, सोहनलाल, बुक्कू, सदानंद, काशी, जुगराज सिंह, गुल्लू एवं दल्लू का अविवादित बंटवारा तीन दिवस के अंदर कराने, इन्हीग्रामों में जले ट्रांसफार्मर को लगाने, जिन हितग्राहियों की वृद्धावस्था पेंशन किन्ही कारणों से बंद है उनका भुगतान कराने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये है।
   बांका में बंद या खराब हैंडपंप तीन दिन मे चालू करने, प्रधानमंत्री आवास की किस्त जारी करने, बीपीएल एवं अनु.ज.जन.जा. के एक हेक्टेयर तक के किसानों को दो लाख रूपये तक कपिलधारा कूप दिलाने के निर्देश सरपंच सचिव को दिए। निरीक्षण के दौरान अन्य कमियों के निराकरण के लिए भी कलेक्टर श्री माल सिंह ने सर्व संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश देते हुए कहा है कि की गई कार्यवाही से तीन दिवस के अंदर अवगत भी कराए।
(229 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer