समाचार
|| मुख्यमंत्री युवा उद्यमीयोजना से लाभान्वित होंगे महिला स्व-सहायता समूह || 29 अगस्त को सभी स्कूलों में होगा "आ-खेलें जरा" कार्यक्रम || आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की अनंतिम चयन सूची जारी || मुख्यमंत्री कल्याणी पेंशन योजना में बीपीएल का बंधन आवश्यक नहीं || 23 जुलाई को कृषि मंत्री श्री बिसेन घोटी में || 24 जुलाई तक जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा मनाया जाएगा || स्कूल स्पोर्ट्स प्रमोशन फाउंडेशन में किया जा रहा है शासकीय व अशासकीय विद्यालयों का पंजीयन || लेखा प्रशिक्षण सत्र 1 अगस्त से प्रारंभ होगा || जिले में 502 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य
अन्य ख़बरें
राजकीय सम्मान के साथ हुई सैनिक नीलेश की अंत्‍येष्टि
-
देवास | 07-दिसम्बर-2017
 
 
   देवास जिले की सोनकच्छ तहसील के ग्राम घिचलाय निवासी भारतीय सेना के शहीद जवान नीलेश धाकड़ को आज गुरुवार को उनकी जन्मभूमि घिचलाय में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। सैनिक नीलेश धाकड़ पिता सुखराम धाकड़ उम्र 26 साल निवासी ग्राम घिचलाय तहसील सोनकच्छ सेना की 219 ऐडी रेजिमेंट आरटी में पदस्थ थे। उल्लेखनीय है कि नीलेश धाकड़ जम्मू काश्मीर में पदस्थ थे। अंत्‍येष्टि में सांसद श्री मनोहर ऊंटवाल, विधायक राजेंद्र वर्मा, एसडीएम सोनकच्छ नीरज खरे, सेना पदाधिकारी एवं जवान सहित विशाल संख्या में लोग शामिल हुए।
   इसके पूर्व प्रात: उनकी पार्थिवदेह को सेना के वाहन से महू से देवास लाया गया। देवास बायपास से ही बड़ी संख्या में वाहन, सेना के वाहन के पीछे चल रहे थे। मार्ग के बीच में पड़ने वाले ग्रामों के दोनों ओर बड़ी संख्या में ग्रामीण श्रद्धांजली देने के लिए खड़े हुए थे। प्रात: लगभग 10.30 बजे उनकी पार्थिवदेह देवास से होते हुए घिचलाय पहुंची। इसके बाद ग्राम में अंतिम यात्रा निकाली गई, जिसमें लगभग हजारों व्यक्ति शामिल हुए।
रास्तों पर फूलों की वर्षा कर श्रद्धांजलि अर्पित की
   प्रात: 10.30 बजे जैसे ही दिवंगत सैनिक नीलेश की पार्थिव देह सेना के वाहन से देवास शहर में पहुंची तो जनसामान्य में भी भारत माता की जय, वंदे मातरम एवं शहीद नीलेश अमर रहे के उदघोष लगाए। सयाजी द्वार पर बड़ी संख्या में जनमानस एवं जनप्रतिनिधियों ने पुष्प अर्पित कर सैनिक नीलेश को श्रद्धांजलि अर्पित की। शहर में जगह-जगह पर नीलेश के पार्थिव देह पर फूलों से वर्षा कर जय घोष लगाएं।
गांव-गांव में की फूलों की वर्षा
   पार्थिव देह पर देवास बायपास, खटांबा, जामगोद, भौंरासा फाटा, नेवरी फाटा, सोनकच्छ सहित अन्य जगहों पर फूलों की वर्षा की सैनिक नीलेश को श्रद्धांजलि अर्पित की। "जय हिन्द, जय नीलेश" के  नारों से पूरा गांव गूंजने लगा, जैसे गांव का बच्चा-बच्चा तथा समूचा परिवेश सैनिक नीलेश को पुष्पांजली अर्पित कर रहा हो। नीलेश की अंतिम यात्रा उनके खेत पर समाप्त हुई, जहां अंतयेष्टि की जानी थी। सेना के जवानों द्वारा नीलेश को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इसके पश्चात परिवारजनों ने नीलेश को पूरे वैदिक विधानों से मुखाग्नि दी।
(227 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer