समाचार
|| विकासखण्ड स्तरीय अधिकारी-कर्मचारी नियुक्त || जिला स्तरीय दल का गठन || कृषि यंत्रों के लिए ऑनलाइन आवेदन करें || किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग में निविदा आमंत्रित || जुलाई से अक्टूबर तक होंगी जनजातीय विद्यालयों की खेल प्रतियोगिताएँ || 6 वर्ष से 18 वर्ष तक के बालक/बालिकाओं की बहादुरी के करनामों की दे जानकारी || एनसीटीई के पाठ्यक्रमों के लिये इस वर्ष एम.पी. ऑनलाइन से होगा प्रवेश || मध्यप्रदेश आनंद विवाह रजिस्ट्रीकरण नियम-2018 प्रकाशित || प्रधानमंत्री फसल बीमा करवाना ऋणी कृषकों के लिए अनिवार्य || एम.बी.ए. एम.सी.ए. और बी.एच.एम.सी.टी. के काउंसलिंग का कार्यक्रम जारी
अन्य ख़बरें
वर्ष 2018 की पहली माँ शिप्रा महाआरती के साक्षी बने सैकड़ों उज्जैनवासी
मलखंभ और आकर्षक नाट्य प्रस्तुति ने किया आत्ममुग्ध, संभागायुक्त व कलेक्टर हुए शामिल
उज्जैन | 01-जनवरी-2018
 
  
   वर्ष 2018 की पहली संध्या पर रामघाट पर मौजूद सैकड़ों शहरवासियों ने पुण्यसलिला माँ शिप्रा की महाआरती के दर्शन किए। श्रद्धालुओं ने स्वयं भी पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ माँ शिप्रा की सांध्यकालीन आरती की।  इस अवसर पर रामघाट व आस-पास के परिसर में जिला प्रशासन द्वारा आकर्षक विद्युत सज्जा की गई थी। माँ शिप्रा की आरती करने के लिए संभागायुक्त श्री एम. बी. ओझा, कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे, पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर, नगर निगम आयुक्त डॉ. विजय कुमार जे., नगर पालिक निगम भोपाल के अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह चौहान, सीईओ स्मार्ट सिटी श्री अवधेश शर्मा, श्री क्षितिज शर्मा, जिला प्रशासन के समस्त अधिकारी, संत और गणमान्य नागरिक मौजूद थे।  
   समस्त लोग उज्जैन की पावन धरा पर सनातनी परम्परा का निर्वाह करते हुए अंग्रेजी नववर्ष की प्रथम संध्या पर आयोजित हुई भव्य माँ शिप्रा महाआरती में शामिल हुए। शिप्रा आरती के पूर्व विशिष्ट अतिथियों द्वारा दीप प्रज्जवलन किया गया और उसके बाद माँ शिप्रा के तट पर पहुंचकर आरती की गई। आमजन भी अपनी श्रद्धानुसार माँ शिप्रा की आरती कर सकें, इसलिए उन्हें काकड़ उपलब्ध करवाए गए थे। शिप्रा आरती के पश्चात मौजूद विशिष्ट अतिथियों और आम जनता ने शिप्रा नदी को सदैव स्वच्छ बनाए रखने का संकल्प लिया। 
   आरती के पश्चात सांस्कृतिक कार्यक्रमों व खेलकूद की प्रस्तुति दी गई। नन्हें-नन्हें शरीर साधकों द्वारा रोप जम्पिंग की आकर्षक प्रस्तुति दी गई। इसके बाद "जाने अपने उज्जैन को, उज्जयिनी गाथा के रूप में" शीर्षक नाट्य की आकर्षक प्रस्तुति लाईट एण्ड साउण्ड शो के माध्यम से दी गई, जिसमें भगवान महाकालेश्वर तथा माँ शिप्रा की गौरवगाथा, भगवान ऋतुवर्ण, कापालिक, बाणपति और समुद्र मंथन की गाथाओं का अविस्मर्णीय मंचन किया गया।  नाटक के पश्चात बच्चों द्वारा आकर्षक मलखंभ की प्रस्तुति भी दी गई।
(174 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2018जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer