समाचार
|| ब्यौहारी नगर वासियों की वर्षों पुरानी ख्वाहिस हुई पूरी (सफलता की कहानी) || "ठहाकों के साथ याद किया पं.ओम व्यास को" || अधिक से अधिक हितग्राही लोक अदालत के माध्यम से प्रकरणों का निराकरण करायें : जिला न्यायाधीश || नि:शुल्क परीक्षा पूर्व प्रशिक्षण हेतु अजा/अजजा उम्मीदवारों से आवेदन 25 जून तक आमंत्रित || नशीले पदार्थों के दुरूपयोग और अवैध व्यापार के विरूद्ध अंतर्राष्ट्रीय दिवस 26 जून को || कमिश्नर श्री दुबे 28 जून को पलेरा आयेंगे || मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन यात्रा के तहत जगन्नाथपुरी यात्रा 29 को || समाज में झूठ, भ्रम, निराशा फैलाने वालों की कोई जगह नहीं - प्रधानमंत्री श्री मोदी || सीपी ग्राम पोर्टल पर शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया में संशोधन हुआ || प्रदेश में योग स्वास्थ्य केन्द्र योजना का शुभारंभ
अन्य ख़बरें
नरवाई जलाना खेती के लिए आत्मघाती
-
सिवनी | 14-मार्च-2018
 
    किसान भाइयों द्वारा गेहूं कटने के बाद बचे हुए फसल अवशेष (नरवाई) जलाना खेती के लिए आत्मघाती कदम सिद्ध हो सकता है। नरवाई जलाने से अन्य खेतों, पशु बाडे, खलीहान आदि में अग्नि दुर्घटना की संभावना रहती है। मिट्टी की उर्वरता पर असर पडता है। धुएं से उत्पन्न कार्बनडाई ऑक्साईड से वातावरण का तापमान बढता है और प्रदूषण से भी वृद्धि होती है, जिससे पर्यावरण पर विपरीत असर पडता है। खेती की उर्वरा परत लगभग 6 इंच की ऊपरी सतह पर ही होती है इसमें तरह-तरह के खेती को लाभदायक मित्र जीवाणु उपस्थित रहते हैं। नरवाई जलाने से यह नष्ट हो जाते हैं, जिससे भूमि की उर्वरा शक्ति को नुकसान होता है।
    नरवाई जलाने की अपेक्षा अवशेषों और डंठलों को एकत्र कर जैविक खाद जैसे भू-नाडेप, वर्मी कम्पोस्ट आदि बनाने में उपयोग किया जाए तो वे बहुत जल्दी सडकर पोषक तत्वों से भरपूर .कृषक स्वयं का जैविक खाद बना सकते हैं। खेत में कल्टीवेटर, रोटावेटर या डिस्कहेरो आदि की सहायता से फसल अवशेषों को भूमि में मिलाने से आने वाली फसलों में जैवांश खाद्य की बचत की जा सकती है। सामान्य हार्वेस्टर से गेहूं कटवाने के स्थान पर स्ट्रारीपर एवं हार्वेस्टर्स का प्रयोग करें तो पशुओं के लिए भूसा और खेत के लिए बहुमूल्य पोषक तत्वों की उपलब्धता बढने के साथ मिट्टी की संरचना को बिगडने से बचाया जा सकता है।
(101 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2018जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer