समाचार
|| घर से ही करा सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक || अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को || हज यात्रियों को विशेष प्रशिक्षण 25 जुलाई तक || समाज कार्य स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम लेखन की समीक्षा 26 जुलाई को || पशुधन संजीवनी हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर ‘‘1962’’ प्रारंभ || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य || स्कूलों की मान्यता के नवीनीकरण के लिए आयुक्त के पास अपील 20 से 26 जुलाई तक होगी || दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में 21 प्रकार की दिव्यांगताएं शामिल || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
अक्षय तृतीया पर बाल विवाह रोकने के लिए जिला कलेक्टरों को निर्देश जारी
इस वर्ष लाड़ो अभियान की थीम है "बाल विवाह की रोकथाम एवं बच्चों का कौशल विकास"
रायसेन | 17-अप्रैल-2018
 
   बुधवार 18 अप्रैल को अक्षय तृतीय पर सम्पन्न होने वाले सामूहिक विवाह समारोह में बाल विवाह रोकने के लिए महिला बाल विकास विभाग ने जिला कलेक्टरों को निर्देश जारी किये हैं। जिला कलेक्टरों से कहा गया है कि गांवों में लोगों को बाल विवाह नहीं कराने का परामर्श देने के साथ-साथ बाल विवाह होने की सूचना प्राप्त होने पर स्थानीय अधिकारियों द्वारा त्वरित कार्यवाही करने पुलिस, प्रशासन तथा स्वयं सेवी संस्थाओं को सक्रिय रहने के लिये कहें। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में बाल विवाह की कुरीति को समाप्त करने के लिए वर्ष 2013 से लाड़ो अभियान संचालित किया जा रहा है। इस अभियान के परिणामस्वरूप अब तक परामर्श से ही 83 हजार से अधिक बाल विवाह रोकने में सफलता मिली है।
   लाड़ो अभियान के तहत लोगों को व्यापक स्तर पर बताया जा रहा है कि बाल विवाह रोकथाम अधिनियम 2006  की धारा-9, 10,11 और 13 के अन्तर्गत बाल विवाह कराने अथवा उसमें सहयोग देने वालों के लिए दो वर्ष का कारावास अथवा एक लाख रूपये का जुर्माना अथवा दोनों का प्रावधान है। विवाह प्रक्रिया से जुड़े सभी सेवा प्रदाताओं जैसे हलवाई, केटरर, धर्मगुरू, बेंड वाले, घोड़ी वाले, ट्रॉंसपोर्टर तथा प्रिंटिग प्रेस वालों से भी अनुरोध किया गया है कि लड़का/लड़की की आयु संबंधी प्रमाण-पत्र का परीक्षण करने के बाद ही अपनी सेवायें प्रदान करें अन्यथा वे भी बाल विवाह में सहयोगी माने जायेंगे। विवाह पत्रिका मुद्रित करने वालों को भी वर-वधु के आयु संबंधी प्रमाण का परीक्षण करने के लिये विशेष रूप से निर्देश दिये गये हैं।
   लाड़ो अभियान के लिये इस वर्ष की थीम "बाल विवाह की रोकथाम एवं बच्चों का कौशल विकास" होगी। बाल विवाह की रोकथाम के लिए वातावरण निर्मित करने में जन-प्रतिनिधियों, पंचायत प्रतिनिधियों और ग्राम स्तर तक कार्यरत शासकीय सेवकों का भी सहयोग लिया जा रहा है। बाल विवाह रोकने के लिए उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं को सम्मानित करने का निर्णय लिया गया है।
 
(96 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer