समाचार
|| मुरझाई फसलों को मिला जीवनदान || अच्छी वर्षा से भर गये सिंचाई विभाग के 24 तालाब || प्रधानमंत्री के 112 आकांक्षी जिलों में सम्मिलित बड़वानी जिला कृषि अभियान के संचालन में पहुंचा सर्वोच्च स्थान पर || 20 अगस्त को मनाया जाएगा सदभावना दिवस || किसान भाईयो के लिये आवश्यक सूचना खरीफ फसलों का समयसीमा में उपार्जन केन्द्रो पर पंजीयन करवाये || कीट रोग नियंत्रण के लिये राज्य-स्तरीय कंट्रोल-रूम स्थापित होगा || रिटर्निंग ऑफिसर एवं सहायक रिटर्निंग ऑफिसर की 18 अगस्त को 5 केन्द्रों पर परीक्षा || जिले में 24 घण्टो मे 83.9 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज || अटल जी के सम्मान में 7 दिवसीय राजकीय शोक घोषित || वित्तमंत्री ने किया शोक व्यक्त
अन्य ख़बरें
जानवरों के लिए जल उपलब्ध कराकर दिया मानवीय संवेदनाओं का परिचय (सफलता की कहानी)
जिला प्रशासन की विशेष पहल से जानवरों को उपलब्ध हो रहा है पानी
अनुपपुर | 04-मई-2018
 
   
   जल या पानी एक आम रासायनिक पदार्थ है जिसका अणु दो हाइड्रोजन परमाणु और एक ऑक्सीजन परमाणु से बना है - H2O यह सारे प्राणियों के जीवन का आधार है। साफ और ताजा पेयजल मानवीय और अन्य जीवन के लिए आवश्यक है, जीवन के इस आधार जल का दुनिया के कई भागों में खासकर विकासशील देशों में भयंकर संकट है और विशेषज्ञों का ऐसा अनुमान है कि 2025 तक विश्व की आधी जनसंख्या इस जलसंकट से दो-चार होगी। पर्यावरणीय परिवर्तन, जल स्त्रोतों के विकृत उपयोग एवं प्रदूषण के कारण स्वच्छ जल की उपलब्धता निरंतर कम होती जा रही है।
   निरंतर कम हो रही जल की उपलब्धता में सभी की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए जल का उचित प्रबंधन एवं संवर्धन समय की मांग है। अनुपपुर में कलेक्टर श्री अजय शर्मा के मार्गदर्शन में वर्तमान ग्रीष्म ऋतु का ध्यान रखते हुए जिले के हर कोने में पेय जल की उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु व्यवस्थाओं की नियमित रूप से समीक्षा एवं वस्तुस्थिति का निरीक्षण किया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा पेय जल की उपलब्धता के संबंध में किसी भी अव्यवस्था की सूचना मिलने पर तुरंत वस्तुस्थिति का मूल्यांकन कर यथोचित कार्यवाही की जा रही है।
   इसी क्रम में जिला प्रशासन द्वारा विशेष संवेदनशीलता का परिचय देते हुए जल स्त्रोतों के पास पिटो के निर्माण के निर्देश दिए गए थे। इस निर्देश में निहित मानवीय संवेदनाओं को क्रियान्वयन करने वाले अधिकारियों ने भी समझा और पिटो के निर्माण का कार्य युद्ध स्तर पर प्रारम्भ करा दिया गया। परम्परागत जल स्त्रोत कुओं से लेकर हैंडपम्प एवं ट्यूबवेल के समीप पिटो का निर्माण किया गया। जिसके फलस्वरूप जल अब फैलकर खराब नही होता बल्कि इन्ही पिटो में एकत्रित हो जाता है जिसका उपयोग जानवरो द्वारा अपनी प्यास बुझाने के लिए किया जा रहा है। साथ ही जल फैलने से कीचड़ आदि की समस्या भी नही होती है। बिना किसी बड़ी लागत के इस विशेष प्रयास से जो पुनीत कार्य किया जा रहा है। उसके माध्यम से जिला प्रशासन की व्यवहारिक बुद्धिमत्ता स्पष्ट रूप से मुखरित होती है। ग्रामीणों द्वारा जिला प्रशासन की इस पहल की भारी सराहना की जा रही है। साथ ही आप सभी के द्वारा  पुण्य के इस कार्य में आवश्यक सहयोग प्रदान किया जा रहा है ताकि लक्षित उद्देश्य की प्राप्ति सुनिश्चित हो जाए। ग्रामवासियों का कहना है कि जिला प्रशासन द्वारा पिट के पानी को स्वच्छ रखने के लिए की गयी अपील में पूर्ण सहयोग प्रदान करेंगे। जल की समस्या से बिना बुद्धिमत्ता एवं जिम्मेदारी के नही निपटा जा सकता। जिला प्रशासन की यह पहल निश्चित रूप से जल समस्या का उत्तर प्राप्त करने में पथ-प्रदर्शित कर रही है।
(105 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2018सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer