समाचार
|| झांकियों पर भी किया गया मतदाता जागरूकता का प्रसार || मतदान दलों का प्रथम प्रशिक्षण 21 अक्टूबर से "विधानसभा निर्वाचन-2018" || विधानसभा निर्वाचन की समीक्षा बैठक 25 अक्टूबर को || ड्राइवर एवं कंडेक्टरों के फार्म 12 की पूर्ति हेतु पत्र जारी || अधिकारी/कर्मचारियों को आईडी के साथ प्रशिक्षण में उपस्थित होने के निर्देश || उम्मीदवार के स्वयं के सोशल मीडिया एकाउंट पर पोस्ट किये गये फोटो, वीडियो, मैसेज और कमेंट्स के प्रमाणन की आवश्यकता नहीं || तामील कराये गये 12 हजार 95 गैर जमानती वारंट || मतदाता जागरूकता अभियान के अंतर्गत वोटाथान 26 अक्टूबर को || इस बार 14 लाख 22 हजार मतदाता कर सकेंगे मताधिकार का प्रयोग (विधानसभा निर्वाचन-2018) || प्रत्याशियों को देना होगी सोशल मीडिया एकाउंट की जानकारी
अन्य ख़बरें
पेम्प्लेट व पोस्टर की प्रिंट लाईन पर प्रिंटिंग प्रेस का पता प्रदर्शित करना होगा (विधानसभा निर्वाचन-2018)
जिला निर्वाचन अधिकारी ने प्रिटिंग प्रेस संचालकों की बैठक लेकर दिए दिशा-निर्देश, आदेश का पालन न करने पर 6 माह की सजा का प्रावधान
ग्वालियर | 11-अक्तूबर-2018
 
     चुनाव प्रचार से संबंधित पेम्प्लेट व पोस्टर इत्यादि प्रचार सामग्री पर प्रिंटिंग प्रेस का नाम एवं मोबाइल व टेलीफोन नम्बर सहित सम्पूर्ण पता प्रिंट लाईन में प्रदर्शित करना अनिवार्य होगा। जो प्रिटिंग प्रेस ऐसा नहीं करेंगी उन प्रिटिंग प्रेस मालिक के खिलाफ लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम सहित अन्य कानूनी प्रावधानों के अनुसार कठोर कार्रवाई होगी। यह बात कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री अशोक कुमार वर्मा ने प्रिंटिंग प्रेस संचालकों की बैठक में कही।
    गुरूवार को यहाँ कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में आयोजित हुई बैठक में कलेक्टर ने सभी प्रिटिंग प्रेस संचालकों से कहा कि वे भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन करें। इसमें कोताही पाई जाने पर कठोर कार्रवाई की जायेगी।
    अपर जिला दण्डाधिकारी श्री संदीप केरकेट्टा ने कहा कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 127-क में स्पष्ट किया गया है कि चुनाव प्रचार संबंधी पर्चे, पोस्टर, बैनर इत्यादि की प्रिंट लाईन में मुद्रक और प्रकाशक के नाम अनिवार्यत: स्पष्ट रूप में दर्शाए जाएं। साथ ही मुद्रित मटेरियल की संख्या भी प्रदर्शित करें। इस प्रकार मुद्रित की गई सामग्री की चार प्रतियां और प्रकाशक के घोषणा पत्र की एक प्रति मुद्रण के तीन दिवस के अंदर जिला निर्वाचन कार्यालय को निर्धारित प्रपत्र में अनिवार्यत: प्रस्तुत करनी होगी। साथ ही यह भी बताना होगा कि मुद्रित किए गए पेम्प्लेट, बैनर व पोस्टर इत्यादि की संख्या क्या है।
    सभी प्रिंटिंग प्रेस के संचालको को सचेत किया गया कि किसी अभ्यर्थी के पक्ष में उसका कोई समर्थक यदि पेम्प्लेट, बैनर व पोस्टर इत्यादि प्रकाशित कराना चाहता है तो भी अभ्यर्थी की लिखित में सहमति अनिवार्यत: ली जाए। अगर ऐसा नहीं किया तो संबंधित प्रिंटिंग प्रेस के संचालक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम का पालन न करने पर प्रिंटिंग प्रेस संचालक को 6 माह की सजा हो सकती है। साथ ही अर्थदण्ड भी भुगतना होगा।
    बैठक में अपर जिला दण्डाधिकारी श्री संदीप केरकेट्टा, डबरा की एसडीएम श्रीमती जयति सिंह व उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री राघवेन्द्र पाण्डेय सहित अन्य संबंधित अधिकारी एवं प्रिंटिंग प्रेस के संचालकगण मौजूद थे।
(8 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2018नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
24252627282930
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer