समाचार
|| आपात स्थिति में मतदानकर्मियों की चिकित्सा के लिये तैनात रहेगी एयर एम्बुलेंस || व्यय प्रेक्षक ने किया उम्मीदवारों के व्यय लेखों का परीक्षण || चुनाव ड्यूटी में लगे अधिकारियों-कर्मचारियों को देना होगा घोषणा पत्र || मतप्रतिशत एप पर हर दो घंटे में मिलेगी मतदान के प्रतिशत की जानकारी || चार विधानसभा क्षेत्रों की ईव्हीएम की कमीशनिंग का काम पूरा || गर्भवती एवं धात्री महिलाएं भी कर सकती हैं सुगम पोर्टल और एप पर अपना पंजीयन || 26 अप्रैल तक करा सकेंगे दिव्यांग मतदाता सुगम्य पोर्टल पर पंजीयन || लोकसभा चुनाव-उम्मीदवारों ने दिया चुनावी प्रचार पर अब तक खर्च की गई राशि का ब्यौरा || बढ़ती गर्मी के मद्देनजर लू से बचे आम नागरिक || मतदान केन्द्र पर मतदान प्रतिशत में वृद्धि पर मिलेगा पुरस्कार-कमिश्नर श्री दुबे
अन्य ख़बरें
सोशल मीडिया पर चल रही भ्रामक खबरों के संबंध में वास्तविक स्थिति
-
झाबुआ | 16-अप्रैल-2019
 
   
    मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने स्पष्ट किया है आपके पास भले ही वोटर आईडी हो परन्तु मतदाता सूची में नाम नहीं है, तो आप मतदान नहीं कर सकते। सोशल मीडिया पर इस बारे में चलाई जा रही भ्रामक खबर आप पोलिंग बूथ पर पहुँचते हैं और यदि मतदाता सूची में  आपका नाम नहीं है, तो आप आधार कार्ड या वोटर आईडी दिखाकर भी चुनौती वोट मांगते हुए मतदान कर सकते हैं। के कारण आयोग ने स्थिति स्पष्ट की है।
    मतदाता अपना नाम मतदाता सूची में होने की पुष्टि nvsp.in पोर्टल पर अपने दूरभाष या मोबाईल से 1950 टोल फ्री नम्बर डायल कर अपने क्षेत्र के निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी/सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी के कार्यालय में मतदाता सूची में अपना नाम देख सकते हैं। यदि मतदाता सूची में नाम नहीं है, तो मतदाता सूची में निरन्तर प्रक्रिया के तहत नाम जोडने के लिये आवेदन कर सकते हैं। मतदाता सूची में नाम नहीं होने पर आवेदन ऑनलाईन nvsp.in पोर्टल पर या निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी के कार्यालय में जाकर आवेदन फार्म-6 में प्रस्तुत कर सकते हैं।
    इसके अतिरिक्त सोशल मीडिया पर यह खबर भी चल रही है कि आप मतदान करने जाते हैं और यदि आप पाते हैं कि किसी ने पहले से ही आपका वोट डाला है, तो टेण्डर वोट मांगें और अपना वोट डालें। आयोग ने स्पष्ट किया है कि यह सही है, लेकिन फोटो आधारित मतदाता सूचियों के तथा वोटर स्लिप के साथ-साथ मतदाता पहचान पत्र या आयोग निर्धारित पहचान के दस्तावेज के फलस्वरूप ऐसा न के बराबर होता है।
    ऐसी भ्रामक खबर भी सोशल मीडिया में पोस्ट की जा रही है कि 14 प्रतिशत टेण्डर वोट होंगे तो ऐसे मतदान केन्द्रों पर पुनर्मतदान आयोजित किया जाएगा। यह खबर पूर्णतः गलत है। मतदान के दूसरे दिन केन्द्रीय प्रेक्षक की उपस्थिति में सभी मतदान केन्द्रों की स्क्रूटनी की जाती है। यह भी देखा जाता है कि कोई ऐसी घटना तो नहीं हुई, जिससे मतदान की शुचिता प्रभावित हुई हो। उक्त रिपोर्ट आयोग को प्रेषित की जाती है। तत्पश्चात् ही आयोग के निर्देश पर पुनर्मतदान की कार्यवाही होती है।
(7 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2019मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer