समाचार
|| किसान भाईयों को अल्पवर्षा की वर्तमान स्थिति में सम सामयिक सलाह || बीस वर्ष की सेवा या पचास वर्ष की आयु पूरी कर चुके, अक्षम कर्मचारियों की अनिवार्य सेवानिवृत्ति के प्रस्ताव भेजें || स्वतंत्रता दिवस की तैयारियों को लेकर बैठक संपन्न || संभागायुक्त ने महिला उद्यमियों के लिए स्वीप आयोजन की तैयारियों की समीक्षा की || पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा पाठ्यक्रमों के उन्नयन के प्रयास सराहनीय - मंत्री श्री शर्मा || राजनैतिक मामलों की मंत्रि-परिषद समिति पुनर्गठित || जिले में 267 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड || अशासकीय व्यक्तियों को शासकीय आवास आवंटन की समीक्षा होगी || बच्चों के लिए खून की व्यवस्था करने कलेक्टर ने ली सामाजिक संस्थाओं की बैठक || सभी विभागाध्यक्ष एवं जिला कार्यालय में ई-ऑफिस कार्य-प्रणाली क्रियान्वयन के निर्देश
अन्य ख़बरें
सोयाबीन कृषकों के लिए उपयोगी सलाह 30 जून तक
-
नीमच | 28-जून-2019
 
   
    सोयाबीन की खेती करने वाले कई क्षेत्रों में मानसून के आगमन की सूचना प्राप्त हुई है। सोयाबीन की बोवनी हेतु अभी उपयुक्त समय है, लेकिन कृषकों को सलाह है कि लगभग 4 इंच वर्षा होने के बाद ही सोयाबीन की बुवाई करे एवं बोवनी करते समय निम्न बातों का विशेष ध्यान रखें-मानसून की अनिश्चतता के कारण उत्पादन में स्थिरता हेतु सलाह है कि संभव होने पर सोयाबीन की। बौवनी बी.बी.एफ. (चौड़ी क्यारी पद्धति) या रिज-फरौ (कूड मेड़ पद्धति) से ही करे जिससे सुखे/अतिवर्षा को दौरान उत्पादन प्रभावित ना हों।
   सोयाबीन के लिए अनुशंसित पोषक तत्वों (नत्रजन : स्फुर : पोटाश : सल्फर) की पूर्ति के लिए उर्वरकों का प्रयोग संतुलित मात्रा में बौवनी के समय करें। इसके लिए सीड-कम-फर्टी सीड ड्रील का प्रयोग किया जा सकता है जिसकी अनुपस्थिति में चयनित उर्वरकों का खेत में छिड़काव करने के पश्चात् बौवनी करें। सोयाबीन की बोवनी हेतु 45 से.मी. कतारों की दूरी पर तथा न्यूनतम 70 प्रतिशत अंकुरण के आधार पर उपयुक्त बीज दर (55 से 75 कि.ग्रा./हे.) का उपयोग करें। बौवनी के समय बीज उपचार अवश्य करें। इसके लिए अनुशंसित फफूदनाशक है-पेनफ्लूफेन+ट्रायफ्लोक्सीस्ट्रोबीन (1 मि.ली./कि.ग्रा. बीज) अथवा थायरम + कार्बोक्सीन (3 ग्रा./कि.ग्रा. बीज)अथवा थायरम + कार्बेन्डाजिम (2:1) 3 ग्रा./कि.ग्रा.बीज अथवा जैविक फफूदनाशक ट्राइकोर्डमा 10ग्रा./कि.ग्रा. बीज। तत्पश्चात् जैविक कल्चर ब्रेडीराइझोबियम जपोनिकम एवं स्फुर घोलक जीवाणु (पी.एस.एम.) दोनो प्रत्येक 5 ग्रा/ कि.ग्रा. बीज की दर से टीकाकरण की भी अनुशंसा है।
   पीला मोजाईक बीमारी की रोकथाम हेतु सलाह है कि फहूंदनाशक से बीजोपचार के साथ-साथ अनुशंसित कीटनाशक थायोमिथाक्सम 30 एफ.एस. (10 मि.ली./कि.ग्रा. बीज) या इमिडाक्लोप्रिड 48एफ.एस. (1.2 मि.ली./कि.ग्रा. बीज) से भी उपचार करें।विगत वर्ष जिन स्थानों पर सोयाबीन की फसल पर व्हाइट ग्रब (सफेद सुंडी) का प्रकोप हुआ था वहां के किसान विशेष ध्यान दें एवं निम्न कार्य करें - व्हाइट ग्रब के वयस्कों को एकत्र कर नष्ट करने के लिए प्रकाश जाल अथवा फरोमोन ट्रैप का प्रयोग करें। बोवाई से पूर्व इमिडाक्लोप्रिड 48 एफ.एस. (1.25 मि.ली. प्रति किलो बीज) से बीजोपचार अवश्य करें।बौवनी के तुरंत बाद एवं सोयाबीन के अंकुरण पूर्व खर पतवारनाशक जैसे डाइक्लोसुलम 26 ग्रा./हे.अथवा सल्फेन्ट्राझोन 750 मि.ली./हे. अथवा पेन्डीमिथालीन 3.25 ली./हे. की दर से छिड़काव करें।
(25 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2019अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
24252627282930
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer