समाचार
|| 25 तक कर लें स्वरोजगार योजना के शत-प्रतिशत प्रकरणों में ऋण का वितरण || न्यायालयों में शासकीय भूमि व संपत्तियों के लम्बित प्रकरणों में तथ्य एवं जानकारियां तत्परता से प्रस्तुत करें || दुर्घटना रहित सुगम यातायात के लिए महासंकल्प कार्यक्रम में हजारों लोगों ने ली यातायात नियमों का पालन करने की शपथ || ग्रामीण अंचल में 1176 करोड़ से बनेंगे 27 पुल और 108 डामरीकृत सड़कें || नगरीय निकायों में 11 लाख पारंपरिक लाइट की जगह लगेगीं एल.ई.डी. || मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ वानिकी सम्मेलन का शुभारंभ करेंगे 22 फरवरी को || नई टेक्सटाईल नीति बनाने के लिए सुझाव देने राज्य-स्तरीय समिति गठित || मंत्री श्री पटवारी धर्मपाल स्मृति व्याख्यान का 19 फरवरी को करेंगे शुभारंभ || स्मार्ट सिटी परियोजना की समीक्षा के लिए समिति गठित || प्रभारी मंत्री श्री जीतू पटवारी ने ग्राम देवला में आंगनवाड़ी भवन का किया लोकार्पण
अन्य ख़बरें
मप्र मानव अधिकार आयोग की बैंच द्वारा देवास में लंबित प्रकरणों की सुनवाई
कुल 58 प्रकरणों में हुई सुनवाई, 34 प्रकरणों का हुआ निराकरण लोगों को तुरंत न्याय मिले तथा मानव अधिकार के प्रति जागरूक हो- अध्यक्ष जस्टिस श्री नरेंद्रकुमार जैन
देवास | 22-जनवरी-2020
     मप्र मानव अधिकार आयोग की फुल बैंच द्वारा बुधवार को कलेक्टर कार्यालय के सभागृह में मानव अधिकार से संबंधित लंबित मामलों की सुनवाई की गई। बैंच में आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री नरेन्द्र कुमार जैन, सदस्य श्री मनोहर ममतानी एवं श्री सरबजीत सिंह ने प्रकरणों में सुनवाई की। इस अवसर पर कलेक्टर डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय, पुलिस अधीक्षक श्रीमती कृष्णावेणी देसावतु, एडीएम श्री नरेंद्र सूर्यवंशी, एएसपी श्री जगदीश डावर सहित विभिन्न विभागों के अधिकारीगण सुनवाई के दौरान पूरे समय उपस्थित रहे।
        बैंच द्वारा कुल 58 प्रकरणों में सुनवाई की गई, इनमें से 23 प्रकरण देवास जिले से संबंधित पुराने लंबित प्रकरण शामिल हैं। इसके अलावा 35 नए प्रकरणों में सुनवाई की गई। बैंच द्वारा पुराने लंबित प्रकरणों में से 14 प्रकरणों का निराकरण किया गया, वहीं 20 नये प्रकरणों में सुनवाई कर तत्काल निराकृत किया गया। शेष 24 प्रकरणों में जांच एवं रिपोर्ट के लिए आदेशित किया गया। आयोग द्वारा जिन प्रकरणों में सुनवाई की गई, उनमें पुलिस, सर्विस मेटर, विद्युत कंपनी, होम लोन आदि में ब्याज माफ करने संबंधी बैंक मामले गृह निर्माण समिति तथा नगर निगम से संबंधित मामले शामिल है। पुलिस से संबंधित शामिल मामले में पुलिस द्वारा प्राथमिकी दर्ज नहीं करने या मुलजिम को गिरफ्तार नहीं करने जैसे मामले सुने गए। वहीं विद्युत कंपनी के प्रकरण में सुनवाई की गई तथा नियम के अनुसार भुगतान करने के‍लिए आदेशित गया। दो-तीन मामलों में जिलाबदर या एनएसए की कार्यवाहियों के खिलाफ आवेदन दिए गए। इन मामलों में भी पुलिस से रिपोर्ट ली गई। जिसमें बताया गया कि इन आरोपियों के विरूद्ध 18-18 अपराधिक प्रकरण दर्ज हैं,  जिनके कारण इनके विरूद्ध जिलाबदर या एनएसए की कार्यवाही की गई।
       आयोग के अध्यक्ष माननीय न्यायमूर्ति श्री नरेंद्र कुमार जैन ने कहा कि आयोग की मंशा है कि मानव अधिकार के उल्लंघन से संबंधित मामलों में लोगों को तुरंत न्याय मिले। इसके साथ-साथ लोगों को मानव अधिकार के प्रति जागरूक किया जाए। आयोग ने इसी उद्देश्य से देवास में प्रकरणों की सुनवाई की तथा आयोग अपने लक्ष्य की प्राप्ति में सफल रहा। सुनवाई में करीब 200 लोग उपस्थित हुए। मीडिया द्वारा भी मानव अधिकार आयोग के समाचारों को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया, जिसके कारण इतनी बड़ी संख्या में लोग उपस्थित हुए। उन्होंने बैंच की सुनवाई के लिए जिला प्रशासन द्वारा दिए गए सहयोग व सुनवाई के दौरान कलेक्टर डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय व पुलिस अधीक्षक श्रीमती कृष्णावेणी देसावतु की पूरे समय सक्रिय उपस्थिति की प्रशंसा की और कहा कि अधिकारियों ने तत्काल अधीनस्थ अधिकारियों को बुलाकर मामले में वस्तुस्थिति की रिपोर्ट ली, जिसके कारण प्रकरणों का त्वरित निपटारा किया जा सका। कलेक्टर डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय ने आयोग द्वारा देवास में बैंच लगाकर सुनवाई के लिए आयोग के अध्यक्ष व सदस्यों का आभार व्यक्त किया।

 
(27 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2020मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
2425262728291
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer