समाचार
|| कोविड-19 संक्रमण नियंत्रण के लिये ग्राम तथा वार्ड स्तर तक होगी निगरानी || कोविड-19 से निपटने युद्ध स्तर पर काम कर रहा राज्य-स्तरीय कंट्रोल रूम || कोविड-19 की निगरानी के लिये जिला-स्तर पर सौपी गई जिम्मेदारियाँ || एक अप्रैल से रेडियो पर शैक्षिक प्रसारण || आठ हजार बंदियों को इमरजेंसी पैरोल और अंतरिम जमानत || मुख्यमंत्री ने निर्माण श्रमिकों के खातों में ट्रांसफर की अठासी करोड़ से अधिक सहायता राशि || घर से कार्य कर सामाजिक दायित्व के निर्वहन का माडल बनाएं कुलपति || पूर्ण परिश्रम एवं कर्तव्यनिष्ठा से करें कोरोना संकट का सामना || अब घर बैठे करें बिजली बिल का ऑनलाईन भुगतान || पीडीएस में राशन वितरण की शिकायत 181 पर ही करें
अन्य ख़बरें
जल्दी शुरू होगा दमोहनाका से मदनमहल तक फ्लाई ओव्हर का निर्माण कार्य
कलेक्टर ने अधिकारियों की बैठक में की समीक्षा, भू-अर्जन एवं यूटिलिटी शिफ्टिंग की बाधाओं को शीघ्र दूर करने के दिये निर्देश
जबलपुर | 20-मार्च-2020
 
   

   
     दमोहनाका से मदनमहल तक करीब 6 किलोमीटर लम्बे फ्लाई ओव्हर का निर्माण कार्य जल्दी ही शुरू होगा। फ्लाई ओव्हर के निर्माण के टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो गई और नागार्जुन कंस्ट्रक्शन कंपनी को कार्यादेश जारी किया जा चुका है।
         यह जानकारी आज कलेक्टर भरत यादव की अध्यक्षता में फ्लाई ओव्हर के निर्माण की दिशा में अभी तक हुई प्रगति की समीक्षा के दौरान दी गई। कलेक्टर ने बैठक में फ्लाई ओव्हर के निर्माण के लिए भू-अर्जन की कार्यवाही और मुआवजा वितरण का काम शीघ्र पूरा करने के निर्देश अधिकारियों को दिये हैं।  उन्होंने सीवर लाइन, पेयजल आपूर्ति और बिजली एवं टेलीफोन लाइन तथा ट्रेफिक सिग्नल की शिफ्टिंग के लिए संयुक्त सर्वे करने और इस काम को भी अतिशीघ्र पूरा करने पर जोर दिया।
         श्री यादव ने बैठक में फ्लाई ओव्हर के निर्माण से जुड़े सभी विभागों को अपनी-अपनी जिम्मेदारियों का तत्परता से निर्वाह करने के निर्देश दिये हैं।  उन्होंने कहा कि फ्लाई ओव्हर का निर्माण जबलपुर के लिए बड़ा प्रोजेक्ट है। इस पर तेजी से क्रियान्वयन नागरिकों का विश्वास अर्जित करने में भी सहायक होगा।
         बैठक में बताया गया कि दमोहनाका से मदनमहल तक के फ्लाई ओव्हर का निर्माण पूरा करने के लिए तीन वर्ष की समय-सीमा तय की गई है।  फ्लाई ओव्हर के निर्माण का टेंडर 767 करोड़ रूपये में दिया गया है। जबकि मूल प्रोजेक्ट में इसकी लागत 758 करोड़ रूपये थी। कलेक्टर ने भू-अर्जन एवं यूटिलिटी शिफ्टिंग हेतु आवश्यक धनराशि के आबंटन के लिए राज्य शासन को प्रस्ताव भेजने के निर्देश भी अधिकारियों को बैठक में दिये।
         बैठक में नगर निगम आयुक्त संदीप जीआर, स्मार्ट सिटी के सीईओ आशीष पाठक, लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री गोपाल गुपता एवं सभी संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।
(12 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2020मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer