समाचार
|| आज से भोपाल पूरी तरह लॉक डाउन || विभिन्न समाजसेवियों/संगठनों/संस्थाओं को लॉकडाउन से छूट अवधि के लिए जारी सफेद रंग के पास की वैधता दिनांक 5 अप्रैल 2020 को रात्रि 12 बजे से समाप्त || कलेक्टर पहुंचे सेमरा लोधी कोरेनटाइम सेंटर || कलेक्टर आकस्मिक रूप से पहुंचे फुटेरा और केरबना आरआर टी टीम से की चर्चा , काम को सराहा किया उत्साहवर्धन || प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के क्रियान्वयन के लिए संभाग में बैंकिंग सेवाएं प्रो-एक्टिव होकर करें काम - डॉ. भार्गव || संभाग में कोरोना वायरस से बचाव के लिए मजदूरों एवं ग्रामीणों को पिलायें त्रिकटू काढ़ा- डॉ. भार्गव || कोरोना वायरस से बचाव के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में आयुष औषधियों का वितरण सुनिश्चित करे- कमिश्नर || जिला दण्डाधिकारी द्वारा धारा 144 के अंतर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी || लॉकडाउन का सभी जिलों में हो सख्ती से पालन - मुख्यमंत्री श्री चौहान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वीकार की कोरोना को हराने की चुनौती
अन्य ख़बरें
कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए चार दिनों तक जिले में बंद रहेगी बसें और दुकानें आम जनों से भी घर में ही रहने की अपील
-
बालाघाट | 21-मार्च-2020
 
   
 
   कोरोना वायरस COVID-19 के संक्रमण को रोकने एवं जिले की जनता को इससे बचाने के लिए जिले में 22 मार्च रविवार से 25 मार्च बुधवार तक सभी दुकानें एवं बसों को बंद रखा जायेगा। जिले की जनता से भी अपील की गई है कि वह इस अवधि में अपने घर में ही रहे और बाहर न निकलें। यह निर्णय आज 21 मार्च को कलेक्टर श्री दीपक आर्य की अध्यक्षता में हुई अधिकारियों एवं गणमान्य नागरिकों की बैठक में लिया गया।
     बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री अभिषेक तिवारी, अपर कलेक्टर श्री राघवेन्द्र सिंह, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती रजनी सिंह, बालाघाट एवं वारासिवनी के एसडीएम, बालाघाट चेम्बर आफ कामर्स के पदाधिकारी, बस आनर्स एसोसियेशन के पदाधिकारी, प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रतिनिधि, खेल संघों के पदाधिकारी मौजूद थे।
     कलेक्‍टर श्री दीपक आर्य ने बैठक में कहा कि हमारे देश में कोरोना संक्रमण की तृतीय स्टेज अब आने वाली है और इसे रोकना बहुत जरूरी है। बालाघाट जिले के पड़ोसी शहर नागपुर, जबलपुर एवं रायपुर जिनसे यहां के लोगों का व्यापार एवं आना-जाना अधिक रहता है वहां पर भी कोरोना संक्रमित व्यक्ति पाये गये है। अत: हमारे बालाघाट जिले के लिए विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में हम चीन एवं इटली से मुकाबला नहीं कर सकते है। अत: कोराना संक्रमण को रोकने के लिए सावधानी एवं सर्तकता ही सबसे बड़ा उपाय है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से डरने या घबराने की कोई जरूरत नहीं है। जरूरत है तो केवल सावधानी एवं सर्तकता बरतने की और भीड-भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचने की। नागरिकों को चाहिए कि वे बैंक ने जायें बल्कि आनलाईन ट्रांसेक्शन का उपयोग करें।   
     कलेक्टर श्री आर्य ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति विदेश यात्रा करके जिले में आया है तो, वह उसे छुपाये नहीं, बल्कि स्वयं को आम जनों की भीड़ से अलग रखे और कम से कम 15 दिनों के लिए अपने घर पर ही रहे। जिले के 19 ऐसे लोगों की सूची भी तैयार की गई जो हाल ही में विदेश से लौटे है, लेकिन सावधानी नहीं बरत रहे है और आम जनों से सामान्य तरह से मिल-जुल रहे है। इन लोगों से अपील की गई है कि वे 15 दिनों के लिए अपने घर पर ही रहे और स्वयं को आईसोलेशन में रखें। यदि ये व्यक्ति जिला प्रशासन को सहयोग नहीं करेंगें तो उन्हें जबरन जिला चिकित्सालय के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया जायेगा।
     बैठक में तय किया गया कि 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के साथ ही जिले में तीन और दिन अर्थात 25 मार्च तक सभी दुकानें और बाजारों, बसों, होटलों, रेस्टारेंट, चाय-पान दुकानों, सेलून को बंद रखा जायेगा। इस अवधि में होम डिलेवरी जैसी सेवायें जैसे दूध विक्रेता, हाथठेले पर सब्जी बचने वाले अपना काम कर सकते है। इस अवधि के लिए लाज, होटलें एवं रिसोर्ट में बुकिंग बंद रखने का निर्णय भी लिया गया। इस अवधि में बसों का संचालन भी बंद रखने का निर्णय लिया गया है। इस अवधि में नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में कोई भी शासकीय एवं प्रायवेट निर्माण कार्य भी नहीं चलेगा, सभी निर्माण कार्य बंद रखे जायेंगें। बालाघाट में रेंजर्स कालेज, मोती गार्डन एवं अन्य स्थानों पर होने वाली मार्निंग वाक एवं ईवनिंग वाक, मुलना स्टेडियम एवं उत्कृष्ट स्कूल ग्राउंड में खेल गतिविधियों को बंद रखने का निर्णय लिया गया है। मंदिरों में पूजा के समय एवं मस्जिदों में नमाज के समय होने वाली भीड़ को रोकने के लिए इस अवधि में मंदिर एवं मस्जिदों को भी बंद रखने कहा गया है। कलेक्टर श्री आर्य ने जिला प्रशासन के इस निर्णय को अमल में लाने के लिए आम नागरिकों से सहयोग की अपील की और कहा कि आम जनता एवं समाज के लिए यह बहुत बड़ा योगदान होगा।
     पुलिस अधीक्षक श्री अभिषेक तिवारी ने बैठक में बताया कि 22 से 25 मार्च तक बसों का संचालन बंद रहेगा। लेकिन किसी व्यक्ति को जिले में आने से नहीं रोका जायेगा। जिन व्यक्तियों का गांव या घर बालाघाट जिले में है, स्वभाविक है कि वे इस स्थिति में अपने घर लौटेंगें। लेकिन उन्हें घर लौटने के बाद स्वयं को 15 दिनों तक आम लोगों से अलग    रखना होगा और अपना मिलना-जुलना बंद रखना होगा। बाहर से आने वाले व्यक्तियों को सर्दी-खांसी बुखार के लक्षण हो तो उन्हें अस्पताल में आकर अपनी जांच कराना चाहिए। कोरोना वायरस संक्रमण की बढ़ रही श्रृंखला को तोड़ने के लिए यह बहुत जरूरी है।
     जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती रजनी सिंह ने बताया कि जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में नरेगा के सभी काम बंद कर दिये गये है। ग्रामीण जनता से भी अपील की गई है कि वे विवाह, सगाई, तेरहवीं आदि कार्यक्रमों में शामिल होने से परहेज करें। गांव में किसी भी व्यक्ति को कोरोना संक्रमण जैसे लक्षण होने पर पंचायत के सचिव को इसकी सूचना अपने क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में देने कहा गया है। ऐसे मरीज को आईसोलेशन में रखा जायेगा। उन्होंने बताया कि मास्क एवं सेनेटाईजर के लिए परेशान होने की कोई जरूरत नही है। मास्क केवल उसी व्यक्ति को लगाना है, जो कोरोना संक्रमण का संभावित मरीज है। सामान्य व्यक्ति को मास्क लगाने की जरूरत नहीं है। सेनेटाईजर के स्थान पर साबुन का उपयोग करें और बार-बार साबुन से अच्छी तरह से हाथों को साफ करें। 
(16 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2020मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer