समाचार
|| रोगी कल्याण समिति की बैठक आज || आज का अधिकतम तापमान 40 डि.से. || नगरीय निकायों एवं पंचायतों की मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 4 अगस्त को || गेहूँ उपार्जन लघु, मध्यम एवं सीमांत किसानों के लिये वरदान साबित हुआ || टिड्डी दलों के नियंत्रण के लिए चलाया जा रहा सघन अभियान || सरसों का उपार्जन 10 जून तक होगा - मंत्री श्री पटेल || रविवार को भी जमा होंगे बिजली बिल || संग्राहकों से 1582 क्विंटल महुआ फूल खरीदा गया || वरिष्ठ चिकित्सक रोज वार्डों में जाएं, मरीजों को सर्वोत्तम इलाज दें || जवाहर बाल भवन द्वारा ऑनलाइन राज्य बालश्री कला प्रतियोगिता का आयोजन
अन्य ख़बरें
कोरोना वायरस के सन्दर्भ में जन-समुदाय हेतु आवश्यक सूचना
-
भिण्ड | 21-मार्च-2020
 
    वर्तमान में चीन के हुबई प्रांत बुहान शहर में एक नए प्रकार के वाइरस ’’नोवल कोरोना’’ कासंक्रमण हुआ है। रवतरनाक कोरोना वायरस चीन के बाद बाँकी देशों में अपने पैर फैला रहा है। दुनिया भर में कोरोना वायरस के केस लगातार सामने आने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित किया है। इसे लेकर सभी देश सतर्क है। चीन के बुहान शहर एवं अन्य प्रभावित देशों से आने बाले व्यक्तियों से इस संक्रमण से फैलने की सम्भावना होती है। कोरोना वायरस के संक्रमण के लक्षण- तेज बुखार, सूखी खांसी,  कमजोरी, गले में खरास एवं श्वास लेने में तकलीफ जैसे लक्षण होते है।
कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु सावधानियां
    ऐसे व्यक्ति जिन्होंने पिछले 14 दिनों के दौरान चीन, ईरान, इटली, साउथ कोरिया, जापान आदि की विदेश यात्रा से लौटे हों, जिनको बुरवार, सूखी खांसी, कमजोरी, गले में खरास एवं श्वास लेने में तकलीफ आदि लक्षण होने पर अपने नजदीकी शासकीय चिकित्सालय में सूचना देकर निःशुल्क जांच एवं उपचार कराएँ। ऐसे सभी व्यक्ति जिन्होंने विदेश की यात्रा की है परन्तु जिनमें भारत आगमन के समय पर उपरोक्त में से कोई लक्षण उपस्थित नहीं है, वह यात्रा उपरांत 28 दिनों तक के बाहर अपना आवागमन यथासंभव सीमित रखें। ऐसे व्यक्तियों को भारत में आने के 28 दिनों के भीतर उपरोक्त में से कोई लक्षण विकसित हो तो अपने नजदीकी शासकीय चिकित्सालय में सूचना देकर निःशुल्क जांच एवं उपचार कराएं। जिन देशों या जगहों पर इस बीमारी का प्रकोप फैला है वहाँ यात्रा करने से बचे।
कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु उपाय
    खाँसने/छींकने के शिष्टाचार- संभावित संक्रमित रोगी के संपर्क में न आए, हाथ न मिलाएँ, गले न लगाएं, हाथों को साबुन से स्वच्छ पानी से धोएं, वास्ते व छींकते समय मुँह व नाक पर रुमाल सवें, रुमाल या कपड़ा न हो तो हाथ से ढकना चाहिए ताकि खांसी/छींक के माध्यम से वायरस वातावरण में न फैले। वार्तालाप करते समय उचित दूरी रखें-वार्तालाप करते समय एक हाथ या उससे अधिक की दूरी बनाए सवें,ताकि थूक अधिक संक्रमित कण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में न जाएँ। हाथों की सफाई-हाथ मिलाने से बचें, सार्वजनिक स्थानों पर दीवार रेलिंग आदि को अनावश्यक रूप से छूने से बचें। हाथ मिलाने के बाद तथा किसी संक्रमित वास्तु या स्थान को छूने आदि के बाद हाथ अवश्य धोये। बिना हाथ ये मुँह और नाक को हाथ लगाये। भाई- भाई बाले स्थानों पर जाने से बचें- उपरोक्त लक्षण प्रकट होने की स्थिति में भीड़-भाड़ बाले स्थानों जैसे मॉल या बाजार, मेला आदि स्थानों पर जाने से परहेज करें। अधिक मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें, मास्क का उपयोग करें तथा किसी भी प्रकार के लक्षण दिखाई देने पर नजदीकी शासकीय स्वास्थ्य केंद्र पर संपर्क करें। नोवल कोरोना वायरस से डरने की आवश्यकता नहीं है। सावधानी एवं सतर्कता से बचना आसान है।
    हेल्पलाइन-कोरोना वायरस से सम्बंधित शंका समाधान हेतु टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 104 या स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार के कंट्रोल रूम नंबर-911123978046 पर कॉल करें। जिला स्तर पर सहायता के लिए जिला एपिडेमियोलॉजिस्ट डॉ. अवधेश सोनी से मो.नं.98937-33695 पर संपर्क कर सकते है।
’’न मिलाये हाथ, न मिलें गले, सिर्फ करें नमस्ते’’
(71 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer