समाचार
|| गैर घरेलू गतिविधयां होने पर करें गैर घरेलू कनेक्शन के लिए आवेदन || बिजली बिल का अग्रिम भुगतान करने पर छूट || मुख्यमंत्री श्री नाथ ने श्री अजय शाह के स्वास्थ्य की जानकारी ली || मंत्री श्री पांसे ने किया ताप्ति महोत्सव का शुभारंभ || आवेदन आमंत्रित || निःशुल्क खाद्यान्न वितरण किया जाए - कलेक्टर || मध्यप्रदेश में संसाधनों और बेहतर नीतियों के कारण निवेशक उद्योग लगाने के लिए उत्सुक || जरूरतमंदो को नि:शुल्‍क खाद्यान्‍न प्रदाय किया जाएगा || लॉकडाउन के प्रभावी क्रियान्‍वयन हेतु अधिकारियों की लगाई गई ड्यूटी || मास्क और हैण्ड सेनिटाइजर आवश्यक वस्तुओं की सूची में शामिल
अन्य ख़बरें
कोरोना संक्रमण रोकने के लिए कलेक्टर ने ली सभी बीएमओ की बैठक
शासकीय एवं प्रावयेट अस्पतालों की ओपीडी बंद रखने के निर्देश
बालाघाट | 24-मार्च-2020
 

      कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए बालाघाट जिले में 22 से 25 मार्च तक टोटल लाक डाउन घोषित कर दिया गया है। जिले में विदेश एवं देश के बड़े शहरों से आये लोगों पर निगरानी रखी जा रही है और संदिग्ध मरीजों को आईसोलेशन में रखकर उनके सेंपल जांच के लैब में भेजे जा रहे है। अब तक बालाघाट जिले में कोरोना संक्रमण का एक भी मरीज नहीं पाया गया है। इसके बाद भी पूरी सावधानी बरती जा रही है ।       इसी कड़ी में आज कलेक्टर श्री दीपक आर्य ने जिले के सभी बीएमओ की बैठक लेकर उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दिये।

      बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री अभिषेक तिवारी, अपर कलेक्टर श्री राघवेन्द्र सिंह, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती रजनी सिंह, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ आर सी पनिका, सिविल सर्जन डॉ आर के मिश्रा, डॉ अजय जैन, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ परेश उपलप एवं सभी बीएमओ मौजूद थे।

      बैठक में तय किया गया कि लोगों को अपने घरों में ही रहने के लिए कहा जाये और प्रयास किया जाये कि कोई भी व्यक्ति घर से बाहर न निकले। जिले के सभी अस्पतालों में ओपीडी बंद रखी जायेगी और केवल सर्दी खांसी बुखार के मरीजों की जांच की जायेगी और कोरोना संक्रमण के संभावित मरीजों को आईसोलेट किया जायेगा। जिले के प्रायवेट अस्पतालों में भी मरीजों की भीड़ न बढ़े इसके लिए उनकी ओपीडी को भी बंद करने का निर्णय लिया गया। जिले के सभी प्रायवेट चिकित्सकों को आन काल पर रहने के निर्देश दिये गये। जिले में नियमित रूप से बच्चों के होने वाले टीकाकरण को 15 दिनों के लिए स्थगित रखने का भी निर्णय लिया गया। 15 दिनों के बाद बच्चों का टीकाकरण पुन: प्रारंभ कर दिया जायेगा।

      बैठक में जिले के सभी शासकीय अस्पतालों में कोरोना संभावित मरीजों के लिए एक आईसोलेशन कक्ष बनाने के निर्देश दिये गये। इन कक्ष में उन्हीं मरीजों को रखा जायेगा जिन्हें कोरोना के संभावित मरीज के रूप में चिन्हित किया जायेगा। ग्रामीण क्षेत्रों में भी आशा कार्यकर्त्ता सर्दी-खांसी बुखार के मरीजों को देखेगी और आवश्यक होने पर डाक्टर को उस मरीज की जांच के लिए बुलायेगी। आशा कार्यकर्त्ता का मैसेजे प्राप्त होने पर डाक्टर दवाओं एवं जरूरी उपकरण के साथ उस मरीज के उपचार के लिए गांव में जायेंगें।

      बैठक में बताया गया कि आशा कार्यकर्त्ता को अपने क्षेत्र में सतत कार्य करना है । जिला स्तरीय अधिकारी भी सतत ग्रामों का भ्रमण कर रहे है और उनके भ्रमण के दौरान आशा कार्यकर्त्ता गांव में मौजूद मिलना चाहिए। अन्यथा उसके विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। अस्पतालों में अनावश्यक मरीजों की संख्या नहीं बढ़ने देना है। जो लोग विदेश से या नागपुर, हैदराबाद, बैंगलोर से जिले में आये है, उन्हें 15 दिनों के लिए अपने परिवार के अन्य सदस्यों से सम्पर्क व दूरी बनाये रखने के लिए कहा गया है।

      जिले में कोरोना संक्रमण किसी भी तरह से न फैल सके इसके लिए यह सभी उपाय किये जा रहे है। अस्पतालों में अनावश्यक मरीजों की भीड़ न बढ़े इसके लिए ओपीडी को बंद रखने का निर्णय लिया गया है। जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती रजनी सिंह ने बताया कि महिलाओं के समूह द्वारा 5 हजार मास्क बनाये जा रहे है और शीघ्र ही यह मास्क आशा कार्यकर्त्ताओं के साथ ही स्वास्थ्य कार्यकर्त्ताओं तक पहुंचा दिये जायेंगें। 
 
 
 
(4 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
फरवरीमार्च 2020अप्रैल
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2425262728291
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer