समाचार
|| स्मार्ट सिटी परियोजनाओं का लाभ शहरवासियों को मिले || मत्स्य प्रजनन काल 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट निषेध || बिजली बिल में रियायत के लिये सभी वर्गों ने किया स्वागत || प्रदेश के सिनेमा घर आगामी आदेश तक बंद रहेंगे || कोरोना को हराकर दो और योद्धा अपने घर लौटे || आवागमन के लिए नहीं होगी पास की जरूरत || बिजली के बिलों में दी गई रियायतें, सरकार ने लिया निर्णय || प्रदेश के सिनेमा घर आगामी आदेश तक बंद रहेंगे || पाँचवें चरण का लॉकडाउन, अनलॉक 1.0 का चरण होगा || प्रधानमंत्री श्री मोदी मैन ऑफ आइडियाज
अन्य ख़बरें
शिक्षकों की मेहनत से ग्राम झिकड़ीबोरी के छात्रों को मिल रही है अंग्रेजी एवं हिंदी में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा (प्रेरक कहानी/कहानी सच्ची है)
शिक्षक एवं छात्रों ने स्कूल को छायादार वृक्ष लगाकर बनाया हरा भरा, शिक्षकों के उल्लेखनीय कार्य की सभी कर रहे हैं सराहना
देवास | 13-मई-2020
     सभी शिक्षकों का एक सपना होता है कि उनके विद्यार्थी दुनिया में अपना नाम रोशन करें। ऐसे ही जिले के बागली तहसील के शासकीय प्राथमिक विद्यालय झिकड़ीबोरी में पदस्थ शिक्षक जितेंद्र पाटीदार एवं दीपक व्यास है, जिन्होंने गांव के बच्चों को हिंदी और अंग्रेजी भाषा का ज्ञान देना प्रारंभ किया तथा शिक्षकों द्वारा बच्चों को अच्छे संस्कार भी देने का कार्य किया जा रहा है।
    यह कहानी उस गांव की है जहां ना तो रेडियो है और जिओ का नेटवर्क मिलता है किंतु वाउचर डलवाने के लिए लोगों के पास पैसा नहीं हैl यहां की आर्थिक स्थिति बहुत ही दयनीय हैl टेलीविजन मुश्किल से एक या दो घर में हैl मगर कार्य करने का जुनून हो और सभी मिलकर कार्य करें तो हर कार्य सुगम और सरल हो जाता है। शिक्षक पढ़ाई के साथ अब बच्चों को अच्छे संस्कार तो दे ही रहे हैं। साथ ही साथ स्कूल को साफ, स्वच्छ एवं सुंदर बनाने का भी बीड़ा उठाकर कार्य कर रहे हैं। ऐसे ही प्राथमिक शिक्षक जितेंद्र पाटीदार एवं दीपक व्यास है जो कि जिले के बागली तहसील के शासकीय प्राथमिक विद्यालय  झिकड़ी बोरी में पदस्थ हैं। वही एक और शिक्षक जितेंद्र पाटीदार एवं दीपक व्यास विद्यार्थियों को स्कूल में बेहतर शिक्षा दे रहे साथ ही शिक्षक एवं छात्रों द्वारा स्कूल को सुंदर स्वच्छ एवं हरा-भरा बनाया गया है। यह स्कूल जिला मुख्यालय से 70 किलोमीटर दूर व विकासखंड से 13 किलोमीटर की दूरी पर शासकीय कन्या हाई स्कूल संकुल के छोटे से गांव झिकड़ीबोरी में स्थित है।
    प्राथमिक शिक्षक जितेंद्र पाटीदार ने बताया कि उनकी नियुक्ति सन 2013 में  यहां पर हुई उससे पूर्व प्रधानाध्यापक दीपक व्यास  सर 2011 से वहां पर पदस्थ थे  एक शिक्षक विद्यालय होने के कारण वे विद्यालय पर ध्यान नहीं दे पा रहे थे उस समय विद्यालय की स्थिति बहुत दयनीय थी तथा ग्रामीण लोगों का कोई सहयोग प्राप्त नहीं हो रहा था। विद्यालय में मात्र एक छोटा सा गुलमोहर का पौधा लगा था तथा विद्यालय मै बच्चों का शैक्षणिक स्तर निम्न था। उन्होंने बताया कि उनकी रुचि वृक्षारोपण में होने के कारण उन्होंने विद्यालय परिसर को हरा-भरा बनाने का प्रण लिया तथा सर्वप्रथम स्वयं के द्वारा रोपे गए। पौधों को विद्यालय परिसर में लगाया हमने शाला में अशोक, गुलमोहर, नीम ,पीपल जामुन के कई पौधे रोपे जो आज वृक्ष का रूप ले चुके हैं।
    शिक्षक जितेंद्र पाटीदार ने प्रधानाध्यापक दीपक व्यास के साथ मिलकर शैक्षणिक स्तर को सुधारने के प्रयास शुरू किए। सर्वप्रथम घर-घर जाकर पालकों से बच्चों को विद्यालय में भेजने का अनुरोध किया तथा विद्यालय में समय-समय पर खेलकूद एवं अन्य गतिविधियां करके बच्चों की उपस्थिति को बढ़ाया  तत्पश्चात हमने पूरे विद्यालय के छात्रों को दो भाग में बांटा। प्रथम भाग हिंदी पढ़ने वाले का और  दूसरा भाग  हिंदी नहीं पढ़ने वाले बच्चों का। उनके द्वारा कक्षा 1 और 2 का प्रभार लेकर सभी बच्चों को सर्वप्रथम हिंदी एवं अंग्रेजी पढ़ने लायक बनाया गया, जिसमें प्रधानाध्यापक दीपक व्यास सर का भी महत्वपूर्ण सहयोग रहा।
अब बारी थी विद्यालय को और सक्षम एवं सुदृढ़ बनाने की
     उन्होंने अपने मित्र श्री शिव नारायण चौधरी की प्रेरणा से रोटरी क्लब में फर्नीचर के लिए सन 2016 में आवेदन दिया जो सन 2018 में स्वीकृत हुआ तथा विद्यालय में सभी बच्चों के बैठने के लिए फर्नीचर प्राप्त हुआ। इसके पश्चात  समाजसेवी लोगों को अपना कार्य दिखाकर विद्यालय में दान करने के लिए प्रेरित किया।
     इसी क्रम में सर्वप्रथम हमारे मित्रों एवं साथी शिक्षकों द्वारा विद्यालय के बच्चों एवं विद्यालय को अनेक उपहार प्रदान किए गए जिसमें विद्यालय को दो पंखे, 32 इंच स्मार्ट टीवी, 32 GB पेनड्राइव प्राप्त हुए। शिक्षा का स्तर सुधरने से पालको और बच्चों में उत्साह का माहौल बन गया । तथा उसका असर यह हुआ कि पड़ोस के शासकीय विद्यालय के 7 बच्चों के अभिभावकों ने उनका प्रवेश हमारे विद्यालय में करवाया एवं सत्र समाप्त होने तक पूरे वर्ष हमारे विद्यालय में बच्चों की उपस्थिति 95 प्रतिशत रही। डाइट की टीम जिला परियोजना अधिकारी, विकासखंड स्त्रोत समन्वयक की टीम तथा राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल से बृजेश सक्सेना सर एवं उनकी टीम द्वारा 18 जनवरी 2018 को विद्यालय का निरीक्षण किया गया तथा विद्यालय में संचालित गतिविधियों एवं बच्चों के स्तर को देखकर  संतोष व्यक्त किया गया। तत्पश्चात विद्यालय में 24 अप्रैल 2019 को ओ आई सी जितेंद्र ठेकेदार सर द्वारा विद्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया गया तथा शाला में संचालित गतिविधियों एवं स्तर को देख कर बहुत प्रसन्नता व्यक्त की तथा दोनों शिक्षकों का उत्साहवर्धन किया|
  शाला परिसर साफस्वच्छ,शुद्ध पेयजल ,व्यवस्थित बैठक व्यवस्था, गुणवत्तापूर्ण पूर्ण मध्यान्ह भोजन व बच्चों द्वारा स्वयं पुस्तकालय का संचालन बच्चों को मोबाइल के माध्यम से नई नई जानकारियां प्रदान करना एवं शैक्षणिक गतिविधियों के वीडियो स्मार्ट टीवी के माध्यम से दिखाए  गए जिससे हमारी शाला के बच्चे लाभान्वित हुए। हम दोनों शिक्षकों का प्रयास रहता है कि हम कक्षा 1 एवं 2 के छात्रों को सत्र समाप्ति से पहले हिंदी एवं अंग्रेजी की पुस्तक पढ़ना सिखा दे। बच्चे भी हमारे विद्यालय पहुंचने से पूर्व ही शाला में आ जाते हैं और पूरे मनोयोग के साथ विद्या ग्रहण करते हैं। साथ ही इस लॉक डाउन में हमारे द्वारा स्कूल के नाम से एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया तथा  अधिकतर पालक गण को जोड़कर वीडियो वाले लिंक भेज कर बच्चों को अध्यापन कार्य करवाया गया तथा बच्चे आज भी वीडियो देखकर अध्यापन कर रहे हैं, जिसकी हमारे द्वारा समय-समय पर समीक्षा की जाती है तथा बच्चों का ग्रह कार्य जांचा जाता है। विद्यालय को इस स्थिति में पहुंचाने के लिए समय-समय पर संकुल की टीम, बीआरसी की टीम एवं जन शिक्षकों द्वारा दोनों शिक्षकों को प्रेरित किया भी जा  रहा है।
(19 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer