समाचार
|| विश्व पर्यावरण दिवस पर बाल भवन के बच्चों द्वारा आडियो-विजुअल एलबम जारी || मास्क न लगाने वालो से नगर निगम ने वसूल किया 4500 रूपये का जुर्माना || काम की तलाश में कर्नाटक के बीजापुर से पनागर आई महिलायें तहसीलदार की मदद से घर रवाना || उच्च न्यायालय व अधीनस्थ न्यायालयों में हो रही वीडियो कान्फ्रेंसिंग से प्रकरणों की सुनवाई || कोरोना से स्वस्थ्य हुई युवती आज डिस्चार्ज || चाँदनी चौक, ठक्करग्राम, नर्मदा नगर और सेफ नगर कन्टेनमेन्ट जोन से मुक्त || सिंचाई परियोजनाओं और नहरों के निर्माण एवं मरम्मत कार्य को शीघ्र शुरू करायें || प्रत्येक व्यक्ति साल में कम से कम एक वृक्ष लगाए || एक ही फोरम पर उपलब्ध होंगी रोजगार लेने और देने वालों की जानकारी || दुग्ध उत्पादकों, किसानों को के.सी.सी. देने का अभियान प्रारंभ
अन्य ख़बरें
कोरोना को हराकर रंजीत स्वस्थ्य होकर घर पहुंचा ( कहानी सच्ची है )
-
शाजापुर | 14-मई-2020
    बेहतर ईलाज के साथ ही दृढ़ इच्छाशक्ति के दम पर कोरोना वायरस को हराकर जिले के ग्राम अभयपुर निवासी श्री रंजीत पिता रामचन्द्र उम्र 30 वर्ष स्वस्थ एवं प्रसन्न होकर घर पहुंचे। निगेटिव रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद रंजीत को आज जिला चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड से डिस्चार्ज किया गया। कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज होने के बाद बाहर आने पर उसके स्वागत के लिए कलेक्टर डॉ. वीरेन्द्र सिंह रावत, पुलिस अधीक्षक श्री पंकज श्रीवास्तव, सीएमएचओ डॉ. प्रकाश विष्णु फुलम्ब्रीकर, अनुविभागीय अधिकारी श्री एस.एल. सोलंकी, तहसीलदर श्री सत्येन्द्र बैरवा, आइसोलेशन वार्ड प्रभारी डॉ. आलोक सक्सेना, डॉ. संजय खण्डेलवाल सहित चिकित्सक एवं पैरामेडिकल स्टाफ उपस्थित था। सभी ने रंजीत का स्वागत ताली बजाकर एवं पुष्पवर्षा कर किया। रंजीत को एम्बुलेन्स से उसके ग्राम अभयपुर के लिए भेजा गया। रंजीत से कहा गया है कि वह 14 दिन तक होम क्वारंटीन रहे। उल्लेखनीय है कि रंजीत स्वास्थ्य विभाग का ही कर्मचारी है। उसकी ड्यूटी कोविड केयर सेन्टर के आइसोलेशन वार्ड में थी। यहां उसे स्वच्छता के कार्य के दौरान कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ। रंजीत का सेम्पल 4 मई को लिया गया था। पॉजिटिव आने पर उसे उसी आइसोलेशन वार्ड में भर्ती रखा गया था।
   रंजीत ने बेहतर ईलाज और देखरेख के लिए स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों और स्वास्थ्य कर्मियों को धन्यवाद दिया। रंजीत ने सभी से कहा है कि कोरोना से डरने की नहीं, लड़ने की जरूरत है। तुरंत ईलाज और दृढ़ इच्छाशक्ति से कोरोना को हराया जा सकता है। चिकित्सकों और स्वास्थ्य अमले द्वारा बेहतर ईलाज और देखरेख के कारण मैं नया जीवन लेकर अपने घर लौट रहा हूं। रंजीत ने निःशुल्क और समुचित ईलाज के लिये जिला प्रशासन तथा प्रदेश सरकार को धन्यवाद दिया।
(23 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer