समाचार
|| बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में ईको सेंसेटिव जोन प्लान बनाने हेतु लिये गए महत्वपूर्ण निर्णय || बांधवगढ़ नेशनल पार्क में नाइट सफारी एवं टाइगर सफारी होगा प्रारंभ || जिले के हर्रई नगर के 4 वार्डो का निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया घोषित || प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के अंतर्गत मत्स्य पालकों/कृषकों से आवेदन आमंत्रित || छिन्दवाड़ा नगर के 3 वार्डो का निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया घोषित || जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के अंतर्गत बनाये जायेंगे 20 हजार 500 आवास || आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं के नाम ऑनलाईन दर्ज करने के निर्देश || मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा भोपाल में वर्चुअल कार्यक्रम में प्रतिभाशाली प्रोत्साहन || जिले में अब तक 1406.3 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज || प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को प्रशस्ति पत्र किए वितरित
अन्य ख़बरें
टिड्डी दल से बचाव हेतु कृषक रखे सतर्कता
-
हरदा | 20-मई-2020
 
  
    उपसंचालक, किसान कल्याण एवं कृषि विकास ने जिले के किसानों को सूचित किया है कि, प्राप्त प्रशासनिक जानकारी के आधार पर संज्ञान में आया है कि, टिड्डी दल राजस्थान से लगे हुए म.प्र. के नीमच जिले से होता हुआ उज्जैन एवं उज्जैन जिले से निकलकर देवास जिले के तहसील कन्नौद तक पहुँच चुका है। हरदा जिले में भी टिड्डी दल का प्रकोप होने की संभावना है, इसलिए किसानों को सलाह दी जाती है कि, आप खेतों में सतत निगरानी रखे एवं टिड्डी दल के आगमन होने पर खेतो में तेज ध्वनि जैसे - थालियां बजाकर, ढोल बजाकर, डी.जे. बजाकर, खाली टिन के डिब्बे बजाकर, पटाखे फोड़कर, ट्रेक्टर का सायलेंसर निकालकर आवाज करके टिड्डी दल को आगे की तरफ उड़ाया जा सकता है साथ ही रसायनिक दवाईयो का प्रयोग ट्रेक्टर माउनटेड स्प्रेयर पंप में क्लोरोपायरीफॉस 20 प्रतिशत ई.सी. 1200 एम.एल. या  डेल्टामेथ्रिन 2.8 प्रतिशत ई.सी. 625 एम.एल. या डाईफ्लूबेन्जूरॉन 25 प्रतिशत डब्ल्यू.पी. 120 एम.एल. या लेम्डासायलोथ्रिन 5 प्रतिशत ई.सी. 400 एम.एल. या मेलाथियान 50 प्रतिशत ई.सी. 1850 एम.एल. इनमें से किसी एक दवा का 500-600 लीटर पानी में घोलकर टिड्डियो के उपर छिड़काव कर सकते है, चूकि टिड्डी दल का आगमन शाम को लगभग 06.00 से 08.00 बजे तक होता है तथा सुबह 07.30 बजे तक दूसरे स्थानो के लिए प्रस्थान करने लगता है। ऐसी स्थिति में टिड्डी दल से फसलो के बचाव के लिए उसी रात में सुबह 03.00 से लेकर 07.30 बजे तक बताये गये तरीको का उपयोग करके टिड्डी दल पर नियंत्रण प्राप्त कर फसलो को बचाया जा सकता है।
(128 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer