समाचार
|| घर-घर जाकर किया जा रहा है पाठ्यपुस्तकों का वितरण || ‘‘हाई स्कूल परीक्षा परिणाम (एमपी बोर्ड) घोषित’’ बेटियों ने मारी बाजी || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 10वीं एमपी बोर्ड की परीक्षा में उत्तीर्ण विद्यार्थियों को दी बधाई || अब तक जिले में 202.2 मिमी औसत वर्षा दर्ज || किल कोरोना अभियान में शुक्रवार को हुआ 10 हजार 43 घरों का सर्वे || मेड़ बंधान से बंजर जमीन में लहराई धान की फसल (कहानी सच्ची है) || जिलास्तर पर वन मित्र पोर्टल पर दावों के सूक्ष्म परीक्षण के लिये समिति गठित || कोरोना को मात देकर चार मरीज हुए डिस्चार्ज || प्रदेश की प्रावीण्य सूची में छठवां स्थान प्राप्त करने वाले शुभम बनना चाहते है पायलेट (कहानी सच्ची है) || ग्रामीण पथ विक्रेताओं को भी शहरी पथ विक्रता योजना से जोड़ा जायेगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
सेना भर्ती में मेडिकल फिट उम्मीदवारों को 17 जून तक दिए जाएगें प्रवेश पत्र
-
शिवपुरी | 28-मई-2020
      शिवपुरी जिले में इसी वर्ष जनवरी माह में सेना भर्ती का आयोजन किया गया था। इस भर्ती में भाग लेने वाले उम्मीदवार जिन्हें शिवपुरी में प्रवेश पत्र नहीं मिला था और जो मिलिट्री अस्पताल ग्वालियर से मेडिकल फिट हुए हैं। ऐसे उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा के लिए 17 जून को प्रवेश पत्र जारी किए जाएंगे। लिखित परीक्षा 28 जून 2020 को आयोजित की जाएगी।
    जिला रोजगार अधिकारी श्री स्वप्निल श्रीवास्तव ने बताया कि चयनित उम्मीदवारों के लिए प्रवेश पत्र 11 मई को दिए जाने थे, लेकिन अब लॉकडाउन की वजह से 17 जून को दिए जाएगें तथा लिखित परीक्षा भी 31 मई की जगह 28 जून 2020 को होगी। यदि लॉकडाउन और आगे तक जारी रहता है तो प्रवेश पत्र और लिखित परीक्षा की नई तारीख की जानकारी दूरभाष क्रमांक 0751-2466414 पर प्राप्त कर सकते हैं।
    विद्युत वितरण कंपनी ने बिजली उपभोक्ताओं से कहा कि वे गर्मी के मौसम में आसान उपाय अपनाकर बिजली और बिल की राशि दोनों में बचत कर सकते हैं। दिन में सूर्य के प्रकाश का अधिकतम उपयोग करें तथा गैर-जरूरी पंखे, लाईट इत्यादि उपकरणों को बंद रखें। विशेषत: कार्यालयीन समय में भोजनावकाश के दौरान, घर से बाहर एवं कक्ष से बाहर जाते समय, ध्यानपूर्वक समस्त प्रकाश, पंखे एवं कंप्यूटर मॉनिटर इत्यादि को बंद करें चाहे आप थोड़े समय के लिए ही क्यों न बाहर जा रहे हों। अपने साथियों, सहकर्मियों, अधीनस्थ कर्मचारियों एवं परिवार को प्रोत्साहित करें कि वे दिन के समय विद्युत का कम से कम उपयोग करें। घरों में उपयोग होने वाले उपकरणों का प्रयोग यथासंभव एक साथ न करें, क्योंकि ऐसा करने से घर की वायरिंग में विद्युत क्षति बढ़ जाती है।   
    वार्षिक विद्युत खपत का लगभग 9 प्रतिशत केवल प्रकाश व्यवस्था पर खर्च होता है। अत: विद्युत का उपयोग अति आवश्यक अवसरों पर करने पर विद्युत खर्च में लगभग 20 प्रतिशत की कमी की जा सकती है। ब्यूरो आफ एनर्जी इफिशिएंसी द्वारा प्रमाणित कम से कम तीन सितारा चिन्हित ऊर्जा दक्ष उपकरणों का क्रय करने से ऊर्जा खपत कम की जा सकती है। अप्रमाणित उपकरण क्रय करते समय सस्ते हो सकते हैं किंतु इनमें बिजली खपत अधिक होती है। कुछ अंतराल के बाद ये महंगे साबित होते हैं। इलेक्ट्रानिक उपकरण जैसे टी.वी. को स्टैण्डबाई मोड पर न रखने से एक वर्ष में लगभग 70 यूनिट विद्युत की बचत हो सकती है।

कम्प्यूटर

    कम्यूटर के मानिटर एवं कापीअर्स को स्लीप मोड में रखने से लगभग 40 प्रतिशत ऊर्जा की बचत होती है। एलईडी मॉनिटर का प्रयोग करें। यह पारंपरिक सी.आर.टी. मॉनिटर की तुलना में कम ऊर्जा खर्च करता है। यदि कम्प्यूटर को चालू रखना आवश्यक हो तो मॉनिटर अवश्य बंद रखें जो कि कुल ऊर्जा का 50 प्रतिशत से अधिक खर्च करता है। यदि एक कम्प्यूटर 24 घंटे चालू रखा जाए तो यह एक ऊर्जा दक्ष फ्रिज से अधिक विद्युत खर्च करता है। अत: उपयोग न होने पर कम्प्यूटर बंद रखें।
एल.ई.डी. बल्ब
    वर्तमान में एलईडी बल्ब ऊर्जा बचत के लिए अतिउत्तम विकल्प है। एलईडी बल्ब बार-बार चालू/बंद करने से उनकी उम्र पर असर नहीं पड़ता है जबकि साधारण बल्ब जल्दी ही फ्यूज हो जाता है। एलईडी बल्ब सीएफएल से तो बेहतर है ही साथ ही परंपरागत बल्ब की तुलना में लगभग 10 गुना अधिक प्रकाश देते हैं। इनकी टिकाऊ होने की अवधि सामान्य बल्ब की तुलना में लगभग 10 गुना अधिक है। यह कम ऊर्जा ग्रहण करते हैं और ज्यादा गर्म भी नहीं होते हैं।
सीलिंग फैन, फ्रिज और एयर कंडीशनर्स (एसी) के संबंध में सुझाव
    वर्तमान में नियमित पंखों के स्थान पर बीईई फाईव स्टार रेटेड पंखे एवं उच्च दक्षता के पंखे उपलब्ध हैं।

तुलनात्मक अध्ययन
विवरण    साधारण पंखे    बीईई स्टार रेटेड पंखे    उच्च दक्षता के पंखे
कीमत    रू. 1500    रू. 1940    रू. 2600
नियामक लागत    रू. 200    रू. 200    रू.  0
वाट क्षमता    75 वाट    50 वाट    35 वाट
हवा का वितरण    230 क्यूबिकमीटर/मिनिट    210-220 क्यूबिकमीटर/मिनिट    230 क्यूबिकमीटर/मिनिट
प्रतिवर्ष खपत यूनिट    180 यूनिट    120 यूनिट    84 यूनिट
प्रतिवर्ष बिजली की लागत    रू. 900    रू. 600    रू. 420
10 वर्षों के लिए बिजली की लागत    रू. 10800    रू. 7200    रू. 5000
   
    फ्रिज को दीवार, सीधे सूर्य का प्रकाश अथवा अन्य ऊष्मा देने वाले उपकरणों के पास न रखें। फ्रिज के पीछे कंडेंसर क्वाईल पर जमी धूल के कारण मोटर को अधिक कार्य करना पड़ता है एवं बिजली ज्यादा लगती है, अत: क्वाइल्स को नियमित साफ करें। फ्रीजर की नियमित डीफ्रास्टिंग आवश्यक है जिससे कूलिंग करने के लिये फ्रिज को अधिक ऊर्जा की जरूरत नहीं पड़े। इसके अंदर के स्थान का पूर्ण उपयोग आवश्यक है किंतु भीतर खुली हवा के सरकुलेशन के लिए जगह छोड़ना जरूरी है। इससे ऊर्जा की बचत होती है। फ्रिज के दरवाजे की गास्केट में लीकेज नहीं होना चाहिए, जिसके कारण फ्रिज हमेशा अधिक ऊर्जा खर्च करता है एवं बिजली का बिल अधिक आता है।
    एयर कंडीशनर्स की 25 डिग्री सेंटीग्रेड की सेटिंग पर न्यूनतम खर्च में अधिकतम आरामदेह वातानुकूलन प्राप्त होता है। पुराने एवं रिपेयर किए हुए एसी की दक्षता कम होती है। इसकी तुलना में नए ऊर्जा दक्ष एसी खरीदना बेहतर एवं किफायती है। एक अच्छा एसी लगभग 30 मिनट में एक कमरे को ठण्डक प्रदान कर देता है। अत: टाइमर का प्रयोग कर एसी कुछ समय के लिए बंद किया जा सकता है। इसके एयर फिल्टर्स में धूल जमा होने पर हवा का बहाव कम हो जाता है। साफ फिल्टर्स से शीतलता शीघ्र प्राप्त होती है एवं बहुमूल्य ऊर्जा की बचत होती है। घर के आसपास हरियाली पेड़-पौधों की छांव रहने पर एसी द्वारा विद्युत की खपत में 40 प्रतिशत तक ऊर्जा की बचत की जा सकती है। थर्मोस्टेट की सेटिंग शीतकाल में 2 डिग्री कम एवं ग्रीष्मकाल में 2 डिग्री अधिक करने पर लगभग 900 किलो कार्बन डायआक्साईड का उत्सर्जन कम किया जा सकता है।
 
(37 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer