समाचार
|| किसान उत्पादक संगठनों को पर्याप्त बाजार एवं ऋण लिंकेज की सुविधा || राज्य सरकार द्वारा प्रवासी मजदूरो को रोजगार देने की सुविधा-श्रीमती मीणा || वर्षा की स्थिति || स्वैच्छाग्राही हेतु आवेदन की अंतिम तिथि 15 जुलाई 2020 || ड्यूटी लगाने के निर्देश || कंटेनमेंट एरिया घोषित || नव-निर्मित मीडिएशन सेंटरों का ई-लोकार्पण || आवेदन आमंत्रित || ऑनलाइन शिक्षा से घर ही बने विद्यालय "सफलता की कहानी" || कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने लॉकडाउन का अनलॉक अवधि के समस्त क्रियाकलाप/गतिविधियों के लिए दिशा निर्देश जारी किये
अन्य ख़बरें
लॉकडाउन में भी महिला कृषक ने सब्जी उगाकर चलाई रोजी-रोटी (सफलता की कहानी)
-
दतिया | 02-जून-2020
    कोरोना संक्रमण के कारण देश में लॉकडाउन के चलते जब रोजगार की लगभग सभी गतिविधियां बंद थीं, वहीं ग्रामीण अंचल में कार्यरत स्वसहायता समूह की महिलाएं उस विषम परिस्थिति में भी किसी न किसी स्वरोजगार के जरिए परिवार की आजीविका चला रही थीं।
    इन्हीं महिलाओं में से एक हैं ग्राम धमना की रहने वाली छब्बीस वर्षीया श्रीमती अंजलि विश्वकर्मा, जिन्होंने अपने खेत में सब्जियां उगाकर तीन-चार सौ रूपये प्रतिदिन कमाकर लॉकडाउन जैसे विषम हालात में भी अपने परिवार की आजीविका चलाने का कमाल कर दिखाया। मध्य प्रदेश ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा गठित जमुना स्वसहायता समूह की अध्यक्ष अंजलि विश्वकर्मा ने अपने प्यासे खेत में सिंचाई के लिए अपनी अथक मेहनत और हौसले के बल पर अपने पति के साथ मिलकर सालभर के भीतर अपने खेत में कुआ खोद डाला था।
    इसके बाद अंजलि ने समूह से कर्ज बतौर आठ हजार रूपये लेकर पांच हजार रूपये से कुए को पक्का करवा लिया। शेष तीन हजार रूपये से खाद-बीज लेकर खेत में भिण्डी, टमाटर, गोभी, बेगन, मिर्ची उगा ली। इसकी कमाई से उन्होंने एक मोटर भी खरीद ली। लॉकडाउन लागू हुआ, तो परिवार भविष्य हो लेकर आशंकित हो उठा। लेकिन इस विपदा में भी अंजलि ने हार नहीं मानी। अपनी सूझबूझ से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए उन्होंने गांव में ही सब्जी बेचना शुरू कर दिया। कई लोग उनके खेतों पर आकर सब्जी ले जाते थे। लॉकडाउन में भी अंजलि को पैसों की कमी नहीं रही। उन्हें सब्जियों से प्रतिदिन तीन-चार सौ रूपये की आमदनी होना मामूली बात थी। लॉकडाउन के दौरान भी परिवार की रोजी-रोटी अच्छी तरह चलती रही। आज भी उनके खेत में भिंडी, टमाटर, बेगन, मिर्ची आदि की फसल खड़ी है। अब वह धान की बुआई की तैयारी कर रहीं हैं।
    अपने सब्जी व्यवसाय से उत्साहित अंजलि कहती हैं कि लॉकडाउन से परिवार को एकबार तो लगा था कि अब परिवार की आजीविका कैसे चलेगी? लेकिन ग्रामीण आजीविका मिशन की मदद से उगी फसल के कारण हालात ऐसे नहीं बन पाए और घर का खर्च अच्छी तरह चला। ‘‘ग्रामीण आजीविका मिशन की जिला परियोजना प्रबंधक श्रीमती संतमती खलको बताती हैं कि ग्रामीण महिलाओं को अलग-अलग तरह के स्वरोजगारों के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। उनमें सब्जियां उगाना भी शामिल है। इसीलिए लॉकडाउन में भी अंजलि ने घर बैठे कमाई की और उनके परिवार को किसी तरह की आर्थिक तंगी का सामना नहीं करना पड़ा।
(32 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2020अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer